Friday , 10 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » चाणक्य नीति: तीसरा अध्याय (Chanakya Niti: Third Chapter)

चाणक्य नीति: तीसरा अध्याय (Chanakya Niti: Third Chapter)

chanakya-niti-third-chapter

chanakya-niti-third-chapter

Chanakya Niti

Chanakya Niti

 1. इस दुनिया  मे ऐसा किसका घर है जिस पर कोई कलंक नहीं, वह कौन है जो रोग और दुख से मुक्त है.सदा सुख किसको रहता है?
२. मनुष्य के कुल की ख्याति उसके आचरण से होती है, मनुष्य के बोल चल से उसके देश की ख्याति बढ़ती है, मान सम्मान उसके प्रेम को बढ़ता है, एवं उसके शारीर का गठन उसे भोजन से बढ़ता है.
३. लड़की का बयाह अच्छे खानदान मे करना चाहिए. पुत्र  को अचछी शिक्षा देनी चाहिए,  शत्रु को आपत्ति और कष्टों में डालना चाहिए, एवं मित्रों को धर्म कर्म में लगाना चाहिए.
4. एक दुर्जन और एक सर्प मे यह अंतर है की साप तभी डंख मरेगा जब उसकी जान को खतरा हो लेकिन दुर्जन पग पग पर हानि पहुचने की कोशिश करेगा .
५. राजा लोग अपने आस पास अच्छे कुल के लोगो को इसलिए रखते है क्योंकि ऐसे लोग ना आरम्भ मे, ना बीच मे और  ना ही  अंत मे साथ छोड़कर जाते है.
६. जब प्रलय का समय आता है तो समुद्र भी अपनी मयारदा छोड़कर किनारों को छोड़ अथवा तोड़ जाते है, लेकिन सज्जन पुरुष प्रलय के सामान भयंकर आपत्ति अवं विपत्ति में भी आपनी मर्यादा नहीं बदलते.
७. मूर्खो के साथ मित्रता नहीं रखनी चाहिए उन्हें त्याग देना ही उचित है, क्योंकि प्रत्यक्ष रूप से वे दो पैरों वाले पशु के सामान हैं,जो अपने  धारदार वचनो से वैसे ही हदय को छलनी करता है जैसे अदृश्य काँटा शारीर में घुसकर छलनी करता है .
८. रूप और यौवन से सम्पन्न तथा कुलीन परिवार में जन्मा लेने पर भी विद्या हीन पुरुष पलाश के फूल के समान है जो सुन्दर तो है लेकिन खुशबु रहित है.
९. कोयल की सुन्दरता उसके गायन मे है. एक स्त्री की सुन्दरता उसके अपने पिरवार के प्रति समर्पण मे है. एक बदसूरत आदमी की सुन्दरता उसके ज्ञान मे है तथा एक तपस्वी की सुन्दरता उसकी क्षमाशीलता मे है.
wish4me to English
1. is duniya me aisa kisaka ghar hai jis par koee kalank nahin, vah kaun hai jo rog aur dukh se mukt hai.sada sukh kisako rahata hai?

2. manushy ke kul kee khyaati usake aacharan se hotee hai, manushy ke bol chal se usake desh kee khyaati badhatee hai, maan sammaan usake prem ko badhata hai, evan usake shaareer ka gathan use bhojan se badhata hai.

3. ladakee ka bayaah achchhe khaanadaan me karana chaahie. putr ko achachhee shiksha denee chaahie, shatru ko aapatti aur kashton mein daalana chaahie, evan mitron ko dharm karm mein lagaana chaahie.

4. ek durjan aur ek sarp me yah antar hai kee saap tabhee dankh marega jab usakee jaan ko khatara ho lekin durjan pag pag par haani pahuchane kee koshish karega .
5. raaja log apane aas paas achchhe kul ke logo ko isalie rakhate hai kyonki aise log na aarambh me, na beech me aur na hee ant me saath chhodakar jaate hai.

6. jab pralay ka samay aata hai to samudr bhee apanee mayaarada chhodakar kinaaron ko chhod athava tod jaate hai, lekin sajjan purush pralay ke saamaan bhayankar aapatti avan vipatti mein bhee aapanee maryaada nahin badalate.
7. moorkho ke saath mitrata nahin rakhanee chaahie unhen tyaag dena hee uchit hai, kyonki pratyaksh roop se ve do pairon vaale pashu ke saamaan hain,jo apane dhaaradaar vachano se vaise hee haday ko chhalanee karata hai jaise adrshy kaanta shaareer mein ghusakar chhalanee karata hai .
8. roop aur yauvan se sampann tatha kuleen parivaar mein janma lene par bhee vidya heen purush palaash ke phool ke samaan hai jo sundar to hai lekin khushabu rahit hai.

9. koyal kee sundarata usake gaayan me hai. ek stree kee sundarata usake apane piravaar ke prati samarpan me hai. ek badasoorat aadamee kee sundarata usake gyaan me hai tatha ek tapasvee kee sundarata usakee kshamaasheelata me hai.

Comments

comments