Saturday , 11 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religious Places » चार धाम

चार धाम

char-dham

char-dham

Char Dham Story
चार धाम यात्रा को हिंदुओं के सबसे पावन यात्राओं में से एक माना जाता है। इसकी तुलना मुस्लिमों की हज यात्रा से की जाती है। मान्यता है कि एक हिन्दू को जीवन में एक बार चार धाम की यात्रा अवश्य करनी चाहिए। यह चार धाम भारत के चार दिशाओं में फैले हैं यानि बद्रीनाथ (उत्तराखंड), रामेश्वरम् (तमिलनाडू), द्वारका (गुजरात) एवं जगन्नाथ पुरी (उड़ीसा)। यह चार धाम जगत पालक श्री हरि विष्णु से संबंधित हैं।

चार धाम का महत्त्व (Importance of Char Dham)

भारत के चार धामों का संबंध भगवान श्री हरि विष्णुजी से हैं। विष्णुजी त्रिदेवों में एक हैं और उन्हें जगतपालक माना जाता है। मान्यता है कि चार धाम की यात्रा से मनुष्य के सभी पाप धुल जाते हैं। यह तीर्थ मनुष्य के सभी पापों की क्षीण कर देते हैं और मनुष्य निष्पाप हो मोक्ष को प्राप्त कर पाता है। चार धाम की यात्रा श्रद्धालुओं के मन में आस्था का अद्भुत संचार करते हैं। हर साल लाखों श्रद्धालु चार धाम की यात्रा करते हैं। अक्षय तृतीया, माघी पूर्णिमा, कार्तिक पूर्णिमा और अमावस्या आदि पावन दिनों में यहां अत्यधिक भीड़ उमड़ती है। आदि शंकराचार्य ने धार्मिक शिक्षा हेतु चार आश्रम की स्थापना की जिनका मुख्यालय द्वारका (पश्चिम), जगन्नाथ पुरी (पूर्व), श्रृंगेरी शारदा पीठ (दक्षिण) और बद्रीकाश्रम (उत्तर) में स्थित है।

बद्रीनाथ (Badrinath)

गंगा नदी के तट पर स्थित बद्रीनाथ तीर्थ स्थल हिमालय में है, जो नर और नारायण पर्वत (अलकनंदा नदी के बाएँ तट पर स्थित) के बीच स्थित है। पुराणों के अनुसार भगवान विष्णु ने नर-नारायण के अवतार में इस स्थान पर तपस्या की थी।

इस पुण्यस्थल का नामकरण यहाँ की जंगली बेरी ‘बद्री’ तथा भगवान विष्णु का अलकनंदा नदी (गंगा का स्वरूप) पर निवास के कारण किया गया है। बद्रीनाथ मंदिर में अचल ज्ञानज्योति का प्रतीक कहे जाने वाली अखंड-ज्योत हमेशा जलती रहती है।

रामेश्वर (Rameshwar)

दक्षिण भारत में रामेश्वर को बेहद पवित्र माना जाता है। भगवान शिव जी और श्री राम को समर्पित रामेश्वर मंदिर तमिलनाडु राज्य में स्थित है। मान्यता है कि इस मंदिर का निर्माण भगवान राम ने कराया था। यह वही जगह मानी जाती है जहां श्री राम ने शिवलिंग रूप में भगवान शिव की पूजा की थी। यहां स्थित शिवलिंग, बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है। इसी पुण्य स्थल पर भगवान राम ने लंका पर चढ़ाई करने के लिए पत्थरों का पुल तैयार करवाया था।

द्वारका (Dwarka)

कहा जाता है कि समुद्र तट पर स्थित द्वारका को भगवान कृष्ण ने स्वयं बसाया था। महाभारत में भी द्वारका पुरी का वर्णन है। कई लोग मानते हैं कि द्वारका उत्तर प्रदेश में कहीं स्थित है लेकिन इतिहास के अध्ययन से पता चला कि द्वारका समुद्र के तट पर बसी थी। गुजरात के तट पर बसी द्वारका पुरी में लोग श्रीकृष्ण का स्मरण कर आते हैं और भक्ति-रस का आनंद लेते हैं। द्वारका एक धार्मिक स्थल होने के साथ यह एक रहस्यमय स्थल भी माना जाता है जो भगवान कृष्ण की मृत्यु उपरांत समुद्र में समा गया था।

जगन्नाथ मंदिर (Jagannath Temple)

भगवान कृष्ण को समर्पित जगन्नाथ मंदिर उड़ीसा में स्थित हैं। इसका निर्माण कलिंग राजा अनंतवर्मन् चोडगंग देव तथा अनंग भीम देव ने कराया था। यह मंदिर लगभग 1000 साल पुराना है। इसमें भगवान कृष्ण, बलभद्र (भगवान कृष्ण के भाई) व सुभद्रा (भगवान कृष्ण की बहन) बिना भुजा के विराजमान हैं।

उड़ीसा का जगन्नाथ मंदिर विशेष रूप से वैष्णव संप्रदाय से जुड़ा है लेकिन यहाँ सभी संप्रदाय के श्रद्धालु आते हैं। “रथ यात्रा” के दौरान यहां भगवान जगन्नाथ, बलभद्र व सुभद्रा की सुसज्जित प्रतिमाओं को रथ में स्थापित कर सम्पूर्ण नगर की यात्रा कराई जाती है।


chaar dhaam yaatra ko hinduon ke sabase paavan yaatraon mein se ek maana jaata hai. isakee tulana muslimon kee haj yaatra se kee jaatee hai. maanyata hai ki ek hindoo ko jeevan mein ek baar chaar dhaam kee yaatra avashy karanee chaahie. yah chaar dhaam bhaarat ke chaar dishaon mein phaile hain yaani badreenaath (uttaraakhand), raameshvaram (tamilanaadoo), dvaaraka (gujaraat) evan jagannaath puree (udeesa). yah chaar dhaam jagat paalak shree hari vishnu se sambandhit hain.
chaar dhaam ka mahattv (chaar dhaam ke mahatv)

bhaarat ke chaar dhaamon ka sambandh bhagavaan shree hari vishnujee se hain. vishnujee tridevon mein ek hain aur unhen jagatapaalak maana jaata hai. maanyata hai ki chaar dhaam kee yaatra se manushy ke sabhee paap dhul jaate hain. yah teerth manushy ke sabhee paapon kee ksheen kar dete hain aur manushy nishpaap ho moksh ko praapt kar paata hai. chaar dhaam kee yaatra shraddhaaluon ke man mein aastha ka adbhut sanchaar karate hain. har saal laakhon shraddhaalu chaar dhaam kee yaatra karate hain. akshay trteeya, maaghee poornima, kaartik poornima aur amaavasya aadi paavan dinon mein yahaan atyadhik bheed umadatee hai. aadi shankaraachaary ne dhaarmik shiksha hetu chaar aashram kee sthaapana kee jinaka mukhyaalay dvaaraka (pashchim), jagannaath puree (poorv), shrrngeree shaarada peeth (dakshin) aur badreekaashram (uttar) mein sthit hai.

badreenaath (badreenaath)

ganga nadee ke tat par sthit badreenaath teerth sthal himaalay mein hai, jo nar aur naaraayan parvat (alakananda nadee ke baen tat par sthit) ke beech sthit hai. puraanon ke anusaar bhagavaan vishnu ne nar-naaraayan ke avataar mein is sthaan par tapasya kee thee.

is punyasthal ka naamakaran yahaan kee jangalee beree badree tatha bhagavaan vishnu ka alakananda nadee (ganga ka svaroop) par nivaas ke kaaran kiya gaya hai. badreenaath mandir mein achal gyaanajyoti ka prateek kahe jaane vaalee akhand-jyot hamesha jalatee rahatee hai.

raameshvar (raameshvar)

dakshin bhaarat mein raameshvar ko behad pavitr maana jaata hai. bhagavaan shiv jee aur shree raam ko samarpit raameshvar mandir tamilanaadu raajy mein sthit hai. maanyata hai ki is mandir ka nirmaan bhagavaan raam ne karaaya tha. yah vahee jagah maanee jaatee hai jahaan shree raam ne shivaling roop mein bhagavaan shiv kee pooja kee thee. yahaan sthit shivaling, baarah jyotirlingon mein se ek hai. isee puny sthal par bhagavaan raam ne lanka par chadhaee karane ke lie pattharon ka pul taiyaar karavaaya tha.

dvaaraka (dvaaraka)

kaha jaata hai ki samudr tat par sthit dvaaraka ko bhagavaan krshn ne svayan basaaya tha. mahaabhaarat mein bhee dvaaraka puree ka varnan hai. kaee log maanate hain ki dvaaraka uttar pradesh mein kaheen sthit hai lekin itihaas ke adhyayan se pata chala ki dvaaraka samudr ke tat par basee thee. gujaraat ke tat par basee dvaaraka puree mein log shreekrshn ka smaran kar aate hain aur bhakti-ras ka aanand lete hain. dvaaraka ek dhaarmik sthal hone ke saath yah ek rahasyamay sthal bhee maana jaata hai jo bhagavaan krshn kee mrtyu uparaant samudr mein sama gaya tha.

jagannaath mandir (jagannaath mandir)

bhagavaan krshn ko samarpit jagannaath mandir udeesa mein sthit hain. isaka nirmaan kaling raaja anantavarman chodagang dev tatha anang bheem dev ne karaaya tha. yah mandir lagabhag 1000 saal puraana hai. isamen bhagavaan krshn, balabhadr (bhagavaan krshn ke bhaee) va subhadra (bhagavaan krshn kee bahan) bina bhuja ke viraajamaan hain.

udeesa ka jagannaath mandir vishesh roop se vaishnav sampradaay se juda hai lekin yahaan sabhee sampradaay ke shraddhaalu aate hain. “rath yaatra” ke dauraan yahaan bhagavaan jagannaath, balabhadr va subhadra kee susajjit pratimaon ko rath mein sthaapit kar sampoorn nagar kee yaatra karaee jaatee hai.

Comments

comments