Wednesday , 26 April 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » Hindu » चिकित्सकों के चिकित्सक भगवान शिव

चिकित्सकों के चिकित्सक भगवान शिव

chikitsakon-ke-chikitsak-bhagavaan-shiv

chikitsakon-ke-chikitsak-bhagavaan-shiv

chikitsakon ke chikitsak bhagavaan shiv

chikitsakon ke chikitsak bhagavaan shiv

भगवान रुद्र ने ओषधियों का निर्माण करके जगत का इतना कल्याण किया है कि वेद ने भी भगवान शंकर सम्पूर्ण शरीर को ही भेषज मान लिया है । कहा है कि – या ते रुद्र शिवा तनू शिवा विश्वस्य भेषजी । शिवा रुद्रस्य भेषजी तया नो मृड जीवसे ।। सचमुच आयुर्वेद भगवान शिव के रूप में ही अभिव्यक्त हुआ था, इसलिए भगवान शंकर के पास मृतसंजीवनी नाम की ऐसी विद्या थी, जो और किसी के पास नहीं थी । इस विद्या से मरे हुए प्राणियों को जीवित किया जा सकता है । इस विद्या को भगवान शंकर ने शुक्राचार्य को दिया था । सर्वविदित है कि अंगिरा और भृगु – ये दोनों प्रख्यात ऋषि हैं । इनके विषय में प्रसिद्धि है कि इन दोनों के एक – एक पुत्र हुए । अंगिरा के पुत्र का नाम था जीव और भृगु के पुत्र का नाम था कवि । जब दोनों का यज्ञोपवीत – संस्कार हो गया, तब दोनों ऋषियों ने आगे का कर्तव्य निश्चित किया । उसमें यह निर्णय हुआ कि हम दोनों में से कोई एक इन दोनों को पढ़ायेगा और दूसरा अन्य कार्य करेगा । अंगिरा ने कहा – ‘कवि को भी मैं अपने पुत्र के साथ पढ़ाऊंगा ।’ भृगु ने यह सुनकर कवि (शुक्र) को अंगिरा की सेवा के लिए सौंप दिया । किंतु अंगिरा गुरु के पथ से डिग गए । वे अपने पुत्र जीव (बृहस्पति) को शुक्र से अधिक विद्वान बनाने के लिए एकांत में पढ़ाने लगे । शुक्र को यह भेद – बाव अच्छा न लगा । शुक्र ने गुरु के चरणों को पकड़कर क्षमा याचना करते हुए कहा – गुरुजी ! आप अपने कर्तव्य से डिग गए हैं । किसी भी गुरु को पुत्र और शिष्य में भेदभाव नहीं रखना चाहिए, किंतु उस भेदभाव को आप कर रहे हैं, इसलिए मैं चाहता हूं कि आप मुझे अपनी सेवा से मुक्त कर दें । मैं किसी और गुरु के यहां जाऊंगा । शुक्र मेधावी बालक थे । उन्होंने सोचा कि विद्या – ग्रहण करने के पहले पिताजी के पास चलना ठीक नहीं हैं । पिता जी को प्रसन्नता तब होगी, जब योग्य बनकर ही उनके पास पहुंचूं । वे अच्छी – से अच्छी विद्या प्राप्त करना चाहते थे, इसलिए उन्होंने भगवान से प्रार्थना की कि हे भगवान ! ऐसे किसी महापुरुष का दर्शन कराइए, जो मुझे सत् – पथ का निर्देश कर सके । संयोग से महर्षि गौतम मिल गए । शुक्र ने उनसे पूछा – श्रीमन् ! आप मुझे ऐसा गुरु बताइए, जिसके पास ऐसी विद्या को पढ़ना चाहता हूं । महर्षि गौतम ने शुक्र को भगवान शंकर के पास भेजा । गौतमी गंगा में स्नान करके शुक्र ने भगवान शंकर की श्रद्धा भक्तिपूर्वक तन्मय होकर प्रार्थना की । भगवान शंकर उनके प्रेम से आर्द्र हो गए और वर मांगने को कहा । शुक्र ने हाथ जोड़कर कहा – भगवन् ! जो विद्या ब्रह्मा आदि देवताओं को भी न प्राप्त हो, उस विद्या को आप हमें दें । शुक्र की उत्कट तपस्या से भगवान आशुतोष बहुत ही प्रसन्न हुए । उन्होंने कहा – वत्स ! मैं तुम्हें ऐसी विद्या दे रहा हूं, जिसका ज्ञान मेरे अतिरिक्त और किसी को नहीं है । मैंने इस निर्मल विद्या का निर्माण महान तपस्या के बल पर किया है । इसका नाम ‘मृतसंजीवनी’ हैं और इसे मैंने ब्रह्मा तथा विष्णु से भी छिपा रखा है। इस अवसर पर यह प्रश्न उठना स्वाभाविक है कि सम्पूर्ण वेद के आविर्भावक जब ब्रह्मा हैं तो उनको इस मृतसंजीवनी – विद्या का ज्ञान कैसे नहीं रहा ? बात यह है कि वेद अनन्त हैं । जिस ब्रह्मा को तपस्या के बल से वेद की जितनी शाखाएं सुन पड़ती हैं, उतनी ही शाखाओं के वे जानकार हो पाते हैं । भगवान शंकर ने स्वयं कहा कि मैंने मृतसंजीवनी – विद्या का निर्माण बहुत बड़ी कठिन तपस्या से बढ़कर थी । इसलिए वेद का मृतसंजीवनीवाला अंश भी उन्हें सुनायी पड़ा । इस तरह ब्रह्मा भिषक्तर और भगवान शंकर भिषक्तम हैं । भगवान शंकर दयालु और चिकित्सकों में सर्वश्रेष्ठ चिकित्सक हैं । उन्होंने ऐसी विद्या निर्मित की, जिससे हजारों मरे हुए लोग एक क्षण में जी जाएं । इस तरह भगवान शिव चिकित्सकों में सर्वश्रेष्ठ चिकित्सक हैं ।

wish4me to English

bhagavaan rudr ne oshadhiyon ka nirmaan karake jagat ka itana kalyaan kiya hai ki ved ne bhee bhagavaan shankar sampoorn shareer ko hee bheshaj maan liya hai . kaha hai ki – ya te rudr shiva tanoo shiva vishvasy bheshajee . shiva rudrasy bheshajee taya no mrd jeevase .. sachamuch aayurved bhagavaan shiv ke roop mein hee abhivyakt hua tha, isalie bhagavaan shankar ke paas mrtasanjeevanee naam kee aisee vidya thee, jo aur kisee ke paas nahin thee . is vidya se mare hue praaniyon ko jeevit kiya ja sakata hai . is vidya ko bhagavaan shankar ne shukraachaary ko diya tha . sarvavidit hai ki angira aur bhrgu – ye donon prakhyaat rshi hain . inake vishay mein prasiddhi hai ki in donon ke ek – ek putr hue . angira ke putr ka naam tha jeev aur bhrgu ke putr ka naam tha kavi . jab donon ka yagyopaveet – sanskaar ho gaya, tab donon rshiyon ne aage ka kartavy nishchit kiya . usamen yah nirnay hua ki ham donon mein se koee ek in donon ko padhaayega aur doosara any kaary karega . angira ne kaha – ‘kavi ko bhee main apane putr ke saath padhaoonga .’ bhrgu ne yah sunakar kavi (shukr) ko angira kee seva ke lie saump diya . kintu angira guru ke path se dig gae . ve apane putr jeev (brhaspati) ko shukr se adhik vidvaan banaane ke lie ekaant mein padhaane lage . shukr ko yah bhed – baav achchha na laga . shukr ne guru ke charanon ko pakadakar kshama yaachana karate hue kaha – gurujee ! aap apane kartavy se dig gae hain . kisee bhee guru ko putr aur shishy mein bhedabhaav nahin rakhana chaahie, kintu us bhedabhaav ko aap kar rahe hain, isalie main chaahata hoon ki aap mujhe apanee seva se mukt kar den . main kisee aur guru ke yahaan jaoonga . shukr medhaavee baalak the . unhonne socha ki vidya – grahan karane ke pahale pitaajee ke paas chalana theek nahin hain . pita jee ko prasannata tab hogee, jab yogy banakar hee unake paas pahunchoon . ve achchhee – se achchhee vidya praapt karana chaahate the, isalie unhonne bhagavaan se praarthana kee ki he bhagavaan ! aise kisee mahaapurush ka darshan karaie, jo mujhe sat – path ka nirdesh kar sake . sanyog se maharshi gautam mil gae . shukr ne unase poochha – shreeman ! aap mujhe aisa guru bataie, jisake paas aisee vidya ko padhana chaahata hoon . maharshi gautam ne shukr ko bhagavaan shankar ke paas bheja . gautamee ganga mein snaan karake shukr ne bhagavaan shankar kee shraddha bhaktipoorvak tanmay hokar praarthana kee . bhagavaan shankar unake prem se aardr ho gae aur var maangane ko kaha . shukr ne haath jodakar kaha – bhagavan ! jo vidya brahma aadi devataon ko bhee na praapt ho, us vidya ko aap hamen den . shukr kee utkat tapasya se bhagavaan aashutosh bahut hee prasann hue . unhonne kaha – vats ! main tumhen aisee vidya de raha hoon, jisaka gyaan mere atirikt aur kisee ko nahin hai . mainne is nirmal vidya ka nirmaan mahaan tapasya ke bal par kiya hai . isaka naam ‘mrtasanjeevanee’ hain aur ise mainne brahma tatha vishnu se bhee chhipa rakha hai. is avasar par yah prashn uthana svaabhaavik hai ki sampoorn ved ke aavirbhaavak jab brahma hain to unako is mrtasanjeevanee – vidya ka gyaan kaise nahin raha ? baat yah hai ki ved anant hain . jis brahma ko tapasya ke bal se ved kee jitanee shaakhaen sun padatee hain, utanee hee shaakhaon ke ve jaanakaar ho paate hain . bhagavaan shankar ne svayan kaha ki mainne mrtasanjeevanee – vidya ka nirmaan bahut badee kathin tapasya se badhakar thee . isalie ved ka mrtasanjeevaneevaala ansh bhee unhen sunaayee pada . is tarah brahma bhishaktar aur bhagavaan shankar bhishaktam hain . bhagavaan shankar dayaalu aur chikitsakon mein sarvashreshth chikitsak hain . unhonne aisee vidya nirmit kee, jisase hajaaron mare hue log ek kshan mein jee jaen . is tarah bhagavaan shiv chikitsakon mein sarvashreshth chikitsak hain

Comments

comments