Monday , 29 May 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » Hindu » छोटा चार धाम

छोटा चार धाम

choota-char-dham

choota-char-dham

CharDham

CharDham

उत्तराखंड में स्थित बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री तथा यमुनोत्री को “छोटा चार धाम” कहा जाता है। इन चारों धार्मिक स्थलों की अलग-अलग मान्यताएं हैं। यह चार धाम एक ही राज्य में होने के कारण भक्तों के लिए सुगम माने जाते हैं। माता दुर्गा और शिवजी से संबद्ध रखने वाले पर इन धार्मिक स्थलों को हिंदू श्रद्धालु पवित्र मानते हैं।

मान्यता है कि चार धामों की पवित्र यात्रा व दर्शन करने से सभी पापों का नाश होता है। साथ ही मनुष्य जीवन-मृत्यु के बंधनों से मुक्त हो जाता है। छोटा चार धाम की यात्रा के दौरान सबसे पहले यमुनोत्री (यमुना) व गंगोत्री (गंगा) के दर्शन करते है तथा पवित्र जल लेकर केदारेश्वर का अभिषेक करते हैं।

यमुनोत्री (Yamunotri)
यमुनोत्री उत्तराखंड के बेहद प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों में से एक है। यह छोटा चार धाम यात्रा का पहला पड़ाव है। मान्यता है कि यमुना सूर्य की पुत्री और यम उनका पुत्र है। कहा जाता है कि यमुना में स्नान किए लोगों के साथ यमराज सख्ती नहीं बरतते। यमराज को मौत का देवता माना जाता है। यमुना में स्नान करने से मृत्यु का भय दूर हो जाता है।
मंदिर के पास गरम पानी के कई सोते है, जिसमें सूर्य कुंड अत्यधिक प्रसिद्ध है। श्रद्धालु इस कुंड के गरम पानी में आलू व चावल पका कर प्रसाद के तौर पर घर ले जाते हैं।

गंगोत्री (Gangotri)
मान्यता है कि पवित्र गंगा नदी सर्वप्रथम गंगोत्री में ही अवतरित हुई थीं। गंगोत्री को गंगा का उद्गम स्थल माना जाता है। केदारखंड की तीर्थ यात्रा में यमुनोत्री की यात्रा के बाद गंगोत्री की यात्रा का विधान है। यहाँ गंगा मंदिर (शंकराचार्य द्वारा स्थापित प्रतिमा), सूर्यकुण्ड, विष्णुकुंड, ब्रह्मकुण्ड आदि पवित्र स्थल हैं। गंगोत्री को मोक्षदायिनी भूमि माना जाता है। गंगा सप्तमी, अक्षय तृतीया और यम तृतीया के दिन यहां विशेष पूजा-अर्चना की जाती है।

केदारनाथ (Kedarnath)
यमुनोत्री के पवित्र जल से केदारनाथ के ज्योतिर्लिंगों का अभिषेक करना शुभ माना जाता है। वायुपुराण के अनुसार मानव जाति के कल्याण के लिए भगवान नारायण (विष्णु) बद्रीनाथ में अवतरित हुए। बद्रीनाथ में पहले भगवान शिव का वास था, किन्तु जगतपालक नारायण के लिए शिव बद्रीनाथ छोड़ कर केदारनाथ चले गए। भगवान शिव द्वारा किए त्याग के कारण केदारनाथ को अहम प्राथमिकता दी जाती है।
केदारनाथ में भगवान शिव के साथ भगवान गणेश, पार्वती, विष्णु और लक्ष्मी, कृष्ण, कुंती, द्रौपदी, युधिष्ठिर, भीम, अर्जुन, नकुल और सहदेव की पूजा अर्चना भी की जाती है।

बद्रीनाथ (Badrinath)
गंगा नदी के तट पर स्थित बद्रीनाथ तीर्थस्थान समुद्र से 3050 मीटर की ऊंचाई पर हिमालय में है, जो नर और नारायण पर्वत (अलकनंदा नदी के बाएँ तट पर स्थित) के बीच स्थित है। बद्रीनाथ का नामकरण यहाँ की जंगली बेरी बद्री के नाम पर किया गया है। बद्रीनाथ मंदिर में अचल ज्ञानज्योति का प्रतीक कहे जाने वाली अखंड-ज्योत हमेशा जलती रहती है।

wish4me to English

uttaraakhand mein sthit badreenaath, kedaaranaath, gangotree tatha yamunotree ko “chhota chaar dhaam” kaha jaata hai. in chaaron dhaarmik sthalon kee alag-alag maanyataen hain. yah chaar dhaam ek hee raajy mein hone ke kaaran bhakton ke lie sugam maane jaate hain. maata durga aur shivajee se sambaddh rakhane vaale par in dhaarmik sthalon ko hindoo shraddhaalu pavitr maanate hain.

maanyata hai ki chaar dhaamon kee pavitr yaatra va darshan karane se sabhee paapon ka naash hota hai. saath hee manushy jeevan-mrtyu ke bandhanon se mukt ho jaata hai. chhota chaar dhaam kee yaatra ke dauraan sabase pahale yamunotree (yamuna) va gangotree (ganga) ke darshan karate hai tatha pavitr jal lekar kedaareshvar ka abhishek karate hain.

yamunotree (yamunotri)
yamunotree uttaraakhand ke behad prasiddh dhaarmik sthalon mein se ek hai. yah chhota chaar dhaam yaatra ka pahala padaav hai. maanyata hai ki yamuna soory kee putree aur yam unaka putr hai. kaha jaata hai ki yamuna mein snaan kie logon ke saath yamaraaj sakhtee nahin baratate. yamaraaj ko maut ka devata maana jaata hai. yamuna mein snaan karane se mrtyu ka bhay door ho jaata hai.
mandir ke paas garam paanee ke kaee sote hai, jisamen soory kund atyadhik prasiddh hai. shraddhaalu is kund ke garam paanee mein aaloo va chaaval paka kar prasaad ke taur par ghar le jaate hain.

gangotree (gangotri)
maanyata hai ki pavitr ganga nadee sarvapratham gangotree mein hee avatarit huee theen. gangotree ko ganga ka udgam sthal maana jaata hai. kedaarakhand kee teerth yaatra mein yamunotree kee yaatra ke baad gangotree kee yaatra ka vidhaan hai. yahaan ganga mandir (shankaraachaary dvaara sthaapit pratima), sooryakund, vishnukund, brahmakund aadi pavitr sthal hain. gangotree ko mokshadaayinee bhoomi maana jaata hai. ganga saptamee, akshay trteeya aur yam trteeya ke din yahaan vishesh pooja-archana kee jaatee hai.

kedaaranaath (kaidarnath)
yamunotree ke pavitr jal se kedaaranaath ke jyotirlingon ka abhishek karana shubh maana jaata hai. vaayupuraan ke anusaar maanav jaati ke kalyaan ke lie bhagavaan naaraayan (vishnu) badreenaath mein avatarit hue. badreenaath mein pahale bhagavaan shiv ka vaas tha, kintu jagatapaalak naaraayan ke lie shiv badreenaath chhod kar kedaaranaath chale gae. bhagavaan shiv dvaara kie tyaag ke kaaran kedaaranaath ko aham praathamikata dee jaatee hai.
kedaaranaath mein bhagavaan shiv ke saath bhagavaan ganesh, paarvatee, vishnu aur lakshmee, krshn, kuntee, draupadee, yudhishthir, bheem, arjun, nakul aur sahadev kee pooja archana bhee kee jaatee hai.

badreenaath (badrinath)

nadee ke tat par sthit badreenaath teerthasthaan samudr se 3050 meetar kee oonchaee par himaalay mein hai, jo nar aur naaraayan parvat (alakananda nadee ke baen tat par sthit) ke beech sthit hai. badreenaath ka naamakaran yahaan kee jangalee beree badree ke naam par kiya gaya hai. badreenaath mandir mein achal gyaanajyoti ka prateek kahe jaane vaalee akhand-jyot hamesha jalatee rahatee hai.

In Uttarakhand, Badrinath, Kedarnath, Gangotri and Yamunotri the “Chota Char Dham” is called. The four shrines have different beliefs. The Chardham devotees due to the same state are considered accessible. Goddess Durga and Shiva, who are associated with these shrines sacred Hindu devotees.

Recognize that the four pilgrimages to sacred journey and philosophy is to destroy all sins. The man becomes free from the shackles of life and death. During the short visit, the first of four Yamunotri Dham (Yamuna) and Gangotri (Ganges) is the embodiment of the sacred water to anoint the Kedareshwar.

Comments

comments