Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » द्वादश ज्योतिर्लिंगों के अर्चा विग्रह – 5) श्री केदारेश्वर

द्वादश ज्योतिर्लिंगों के अर्चा विग्रह – 5) श्री केदारेश्वर

dvadash-jyotirling-5

dvadash-jyotirling-5

Dvadash Jyotirling -5

केदारनाथ पर्वतराज हिमालय के केदार नाम श्रृंगपर अवस्थित हैं । शिखर के पूर्व अलकनंदा के सुरम्य तट पर बदरीनारायण अवस्थित हैं और पश्चिम में मंदाकिनी के किनारे श्रीकेदारनाथ विराजमान हैं । यह स्थान हरिद्वार से लगभग 150 मील और ऋषिकेश से 132 मील उत्तर हैं । भगवान विष्णु के अवतार नर नारायण ने भरतखण्ड के बदरिकाश्रम में तप किया था । वे नित्य पार्थिव शिवलिंग की पूजा किया करते थे और भगवान शिव नित्य ही उस अर्चालिंग में आते थे । कालांतर में आशुतोष भगवान शिव प्रसन्न होकर प्रकट हो गये । उन्होंने नर नारायण से कहा ‘मैं आपकी आराधना से प्रसन्न हूं, आप अपना वाञ्छित वर मांग लें ।’ नर नारायण ने कहा – ‘देवेश ! यदि आप प्रसन्न हैं और वर देना चाहते हैं तो आप अपने स्वरूप से यहीं प्रतिष्ठित हो जाएं, पूजा – अर्चाका प्राप्त करते रहें एवं भक्तों दु:खों को दूर करते रहें ।’ उनके इस प्रकार प्रकार कहने पर ज्योतिर्लिंगरूप से भगवान शंकर केदार में स्वयं प्रतिष्ठित हो गये । तदनंतर नर नारायण ने उनकी अर्चना की । उसी समय से वे वहां ‘केदारेश्वर’ नाम से विख्यात हो गये । ‘केदारेश्वर’ के दर्शन पूजन से भक्तों को मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है ।

सत्ययुग में उपमन्यु जी ने यहीं भगवन शंकर की आराधना की थी । द्वापर में पाण्डवों ने यहीं भगवान शंकर की आराधना की थी । द्वापर में पाण्डवों ने यहां तपस्या की । केदारनाथ में भगवान शंकर का नित्य सान्निध्य बताया गया है और यहां के दर्शनों की बड़ी महिमा गयी है ।

wish4me in English

kedaaranaath parvataraaj himaalay ke kedaar naam shrrngapar avasthit hain . shikhar ke poorv alakananda ke suramy tat par badareenaaraayan avasthit hain aur pashchim mein mandaakinee ke kinaare shreekedaaranaath viraajamaan hain . yah sthaan haridvaar se lagabhag 150 meel aur rshikesh se 132 meel uttar hain . bhagavaan vishnu ke avataar nar naaraayan ne bharatakhand ke badarikaashram mein tap kiya tha . ve nity paarthiv shivaling kee pooja kiya karate the aur bhagavaan shiv nity hee us archaaling mein aate the . kaalaantar mein aashutosh bhagavaan shiv prasann hokar prakat ho gaye . unhonne nar naaraayan se kaha ‘main aapakee aaraadhana se prasann hoon, aap apana vaanchhit var maang len .’ nar naaraayan ne kaha – ‘devesh ! yadi aap prasann hain aur var dena chaahate hain to aap apane svaroop se yaheen pratishthit ho jaen, pooja – archaaka praapt karate rahen evan bhakton du:khon ko door karate rahen .’ unake is prakaar prakaar kahane par jyotirlingaroop se bhagavaan shankar kedaar mein svayan pratishthit ho gaye . tadanantar nar naaraayan ne unakee archana kee . usee samay se ve vahaan ‘kedaareshvar’ naam se vikhyaat ho gaye . ‘kedaareshvar’ ke darshan poojan se bhakton ko manovaanchhit phal kee praapti hotee hai .

satyayug mein upamanyu jee ne yaheen bhagavan shankar kee aaraadhana kee thee . dvaapar mein paandavon ne yaheen bhagavaan shankar kee aaraadhana kee thee . dvaapar mein paandavon ne yahaan tapasya kee . kedaaranaath mein bhagavaan shankar ka nity saannidhy bataaya gaya hai aur yahaan ke darshanon kee badee mahima gayee hai

Comments

comments