Thursday , 9 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Bhajan/Aarti / Mantra/ Chalisa Lyrics » एक ऐसा तीर्थ जहां स्वयं प्रभु राम ने की थी शिव जी की आराधना

एक ऐसा तीर्थ जहां स्वयं प्रभु राम ने की थी शिव जी की आराधना

ek-aisa-teerth-jahaan-svayan-prabhu-raam-ne-kee-thee-shiv-jee-kee-aaraadhana

ek-aisa-teerth-jahaan-svayan-prabhu-raam-ne-kee-thee-shiv-jee-kee-aaraadhana

Untitled-3-Recovered

रामेश्वर
ज्योतिर्लिंग में एकादशवें पर है श्री “रामेश्वर”। रामेश्वरतीर्थ को ही सेतुबन्ध तीर्थ कहा जाता है। यह स्थान तमिलनाडु के रामनाथम जनपद में स्थित है। यहाँ समुद्र के किनारे भगवान श्री रामेश्वरम का विशाल मन्दिर शोभित है।
कहा जाता है कि इसी स्थान पर श्रीरामचंद्रजी ने लंका के अभियान के पूर्व शिव की अराधना करके उनकी मूर्ति की स्थापना की थी। वास्तव में यह स्थान उत्तर और दक्षिण भारत की संस्कृतियों का संगम है। पुराणों में रामेश्वरम् का नाम गंधमादन है। रामेश्वरम का मुख्य मंदिर 120 फुट ऊंचा है। तीन प्रवेश द्वारों के भीतर शिव के प्रख्यात द्वादश ज्योतिर्लिंगों में से एक यहां स्थित है। मूर्ति के ऊपर शेषनाग अपने फनों से छाया करते हुए प्रदर्शित हैं। रामेश्वरम के मंदिर की भव्यता उसके सहस्रों स्तंभों वाले बरामदे के कारण है। यह 4000 फुट लंबा है। रामेश्वरम-मंदिर की कला में द्रविड़ शैली के सर्वोत्तम सौंदर्य तथा उसके दोषों दोनों ही का समावेश है। रामेश्वरम के निकट लक्ष्मणतीर्थ, रामतीर्थ, रामझरोखा (जहां श्रीराम के चरणचिह्न की पूजा होती है), सुग्रीव आदि उल्लेखनीय स्थान है। रामेश्वरम् से थोड़ी ही दूर पर जटा तीर्थ नामक कुंड है जहां किंदवती के अनुसार रामचन्द्र जी ने लंका युद्ध के पश्चात् अपने केशों का प्रक्षालन किया था। रामेश्वरम् का शायद रामपर्वत के नाम से महाभारत में उल्लेख है।

To English Wish4me

Raameshvar
jyotirling mein ekaadashaven par hai shree “raameshvar”. raameshvarateerth ko hee setubandh teerth kaha jaata hai. yah sthaan tamilanaadu ke raamanaatham janapad mein sthit hai. yahaan samudr ke kinaare bhagavaan shree raameshvaram ka vishaal mandir shobhit hai.
kaha jaata hai ki isee sthaan par shreeraamachandrajee ne lanka ke abhiyaan ke poorv shiv kee araadhana karake unakee moorti kee sthaapana kee thee. vaastav mein yah sthaan uttar aur dakshin bhaarat kee sanskrtiyon ka sangam hai. puraanon mein raameshvaram ka naam gandhamaadan hai. raameshvaram ka mukhy mandir 120 phut ooncha hai. teen pravesh dvaaron ke bheetar shiv ke prakhyaat dvaadash jyotirlingon mein se ek yahaan sthit hai. moorti ke oopar sheshanaag apane phanon se chhaaya karate hue pradarshit hain. raameshvaram ke mandir kee bhavyata usake sahasron stambhon vaale baraamade ke kaaran hai. yah 4000 phut lamba hai. raameshvaram-mandir kee kala mein dravid shailee ke sarvottam saundary tatha usake doshon donon hee ka samaavesh hai. raameshvaram ke nikat lakshmanateerth, raamateerth, raamajharokha (jahaan shreeraam ke charanachihn kee pooja hotee hai), sugreev aadi ullekhaneey sthaan hai. raameshvaram se thodee hee door par jata teerth naamak kund hai jahaan kindavatee ke anusaar raamachandr jee ne lanka yuddh ke pashchaat apane keshon ka prakshaalan kiya tha. raameshvaram ka shaayad raamaparvat ke naam se mahaabhaarat mein ullekh hai.

Comments

comments