Wednesday , 8 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Guru Parvachan » Budh » गौतम बुद्ध

गौतम बुद्ध

gautam-buddha

gautam-buddha

Gautam Buddha

Gautam Buddha

गौतम बुद्ध ज्ञान को उपलब्ध होने के बाद घर वापस लौटे। बारह साल बाद वापस लौटे। जिस दिन घर छोड़ा था, उनका बच्चा, उनका बेटा एक ही दिन का था। राहुल एक ही दिन का था। जब आए तो वह बारह वर्ष का हो चुका था। और बुद्ध की पत्नी यशोधरा बहुत नाराज थी। स्वभावत:। और उसके एक बहुत महत्वपूर्ण सवाल पूछा। उसने पूछा कि मैं इतना जानना चाहती हूं; क्या तुम्हें मेरा इतना भी भरोसा न था कि मुझसे कह देते कि मैं जा रहा हूं? क्या तुम सोचते हो कि मैं तुम्हें रोक लेती? मैं भी क्षत्राणी हूं। अगर हम युद्ध के मैदान पर तिलक और टीका लगा कर तुम्हें भेज सकते है, तो सत्य की खोज पर नहीं भेज सकेत? तुमने मेरा अपमान किया है। बुरा अपमान किया है। जाकर किया अपमान ऐसा नहीं। तुमने पूछा क्यों नहीं? तुम कह तो देते कि मैं जा रहा हूं। एक मौका तो मुझे देते। देख तो लेते कि मैं रोती हूं, चिल्लाती हूं, रूकावट डालती हूं।
कहते है बुद्ध से बहुत लोगों ने बहुत तरह के प्रश्न पूछे होंगे। मगर जिंदगी में एक मौका था जब वे चुप रह गए। जवाब न दे पाये। और यशोधरा ने एक के बाद एक तीर चलाए। और यशोधरा ने कहा कि मैं तुमसे दूसरी यह बात पूछती हूं कि जो तुमने जंगल में जाकर पाया, क्या तुम छाती पर हाथ रख कर कह सकते हो कि वह यहीं नहीं मिल सकता था?
यह भी भगवान बुद्ध कैसे कहें कि यहीं नहीं मिल सकता था। क्योंिकि सत्य तो सभी जगह है। और भ्रम वश कोई अंजान कह दे तो भी कोई बात मानी जाये, अब तो उन्होंझने खुद सत्य को जान लिया है, कि वह जंगल में मिल सकता है, तो क्यान बाजार में नहीं मिल सकता। पहले बाजार में थे तब तो लगता था सत्य तो यहां नहीं है। वह तो जंगल में ही है। वह संसार में कहां वह तो संसार के छोड़ देने पर ही मिल सकता है। पर सत्य के मिल जाने के बात तो फिर उसी संसार और बाजार में आना पडा तब जाना यहां भी जाना जा सकता था सत्य का नाहक भागे। पर यहां थोड़ा कठिन जरूर है, पर ऐसा कैसे कह दे की यहां नहीं है। वह तो सब जगह है। भगवान बुद्ध के पास इस बात का कोई उत्तर नहीं था। उन्होंलने आंखे झुका ली।
और तीसर प्रश्न जो यशोदा ने चोट की, शायद यशोदा समझ न सकी की बुद्ध पुरूष का यूं चुप रह जाना अति खतरनाक है। उस पर बार-बार चोट कर अपने आप को झंझट में डालने जैसा है, बुद्धों के पास क्या होता है। ध्या न-ध्या न-ध्यासन और सन्यागस। सो इस आखरी चोट में यशोदा उलझ गई। तीसरी बात उसने कहीं, राहुल को सामने किया और कहा कि ये तेरे पिता है। ये देख, ये जो भिखारी की तरह खड़ा है, हाथ में भिक्षा पात्र लिए। यहीं है तेरे पिता। ये तुझे पैदा होने के दिन छोड़ कर कायरों की तरह भाग गये थे। अंधेरे में अपना मुहँ छूपाये। जब तू मात्र के एक दिन का था। अभी पैदा हुआ नवजात। अब ये लौटे है, तेरे पिता, देख ले इन्हींव जी भर कर। शायद फिर आये या न आये। तुझे मिले या न मिले। इनसे तू अपनी वसीयत मांग ले। तेरे लिए क्या है इनके पास देने के लिए। वह मांग ले।
यह बड़ी गहरी चोट थी। बुद्ध के पास देने को था ही क्यात। यशोधरा प्रतिशोध ले रही थी बारह वर्षों का। उसके ह्रदय के घाव जो नासूर बन गये थे। बह रहा था पीड़ा और संताप का मवाद। नहीं सूखा था वो जख्म जो बुद्ध उस रात दे कर चले गये थे। लेकिन उसने कभी सोचा भी नहीं था कि ये घटना कोई नया मोड़ ले लेगी। वह तो भाव में बहीं जा रही थी। बात को इतने आगे तक खींच लिया था अब उस का तनाव उसकी तरफ वापस लौटेगा। इस की और उसका ध्या न गया ही नहीं। भगवान जो इतनी देर से शांत बैठे थे उनके चेहरे पर मंद हंसी आई, यशोधरा का क्रोध और भभक उठा। उस इस बात का एहसास भी नहीं हो रहा था की वह बंद रही है मकड़ी की तरह अपने ही ताने बाने में।
भगवान ने तत्क्षण अपना भिक्षा पात्र सामने खड़े राहुल के हाथ में दे दिया। यशोधरा कुछ कहें या कुछ बोले। यह इतनी जल्दीे हो गया। कि उसकी कुछ समझ में नहीं आया। इस के विषय में तो उसने सोचा भी नहीं था। भगवान ने कहा,बेटा मेरे पास देने को कुछ और है भी नहीं, लेकिन जो मैंने पाया है वह तुझे दूँगा। जिस सर्व सब के लिए मैने घर बार छोड़ा तुझे तेरी मां, और इस राज पाट को छोड़, और आज मुझे वो मिल गया है। मैं खुद चाहूंगा वही मेरे प्रिय पुत्र को भी मिल जाये। बाकी जो दिया जा सकता है। क्षणिक है। देने से पहले ही हाथ से फिसल जाता हे। बाकी रंग भी कोई रंग है। संध्याी के आसमान की तरह,जो पल-पल बदलते रहते है। में तो तुझे ऐसे रंग में रंग देना चाहता हूं जो कभी नहीं छुट सकता। तू संन्यीस्त हो जा।
बारह वर्ष के बेटे को संन्यिस्त कर दिया। यशोधरा की आंखों से झर-झर आंसू गिरने लगे। उसने कहां ये आप क्या कर रहे है।
पर बुद्ध ने कहा,जो मरी संपदा है वही तो दे सकता हूं। समाधि मेरी संपदा है, और बांटने का ढंग संन्यारस है। और यशोधरा, जो बीत गई बात उसे बिसार दे। आया ही इसलिए हूं कि तुझे भी ले जाऊँ। अब राहुल तो गया। तू भी चल। जिस संपदा का मैं मालिक हुआ हूं। उसकी तूँ भी मालिक हो जा।
और सच में ही यशोधरा ने सिद्ध कर दिया कि वह क्षत्राणी थी। तत्क्षरण पैरों में झुक गई और उसने कहा, मुझे भी दीक्षा दें। और दीक्षा लेकर भिक्षुओं में, संन्याोसियों में यूं खो गई कि फिर उसका कोई उल्लेीख नहीं है। पूरे धम्म पद में कोई उल्लेेख नहीं आता। हजारों संन्यासियों कि भीड़ में अपने को यूँ मिटा दिया। जैसे वो है ही नहीं। लोग उसके त्या ग को नहीं समझ सकते। अपने मान , सम्माेन, अहंकार को यूं मिटा दिया की संन्यामसी भूल ही गये की ये वहीं यशोधरा है। भगवान बुद्ध की पत्नीद। बहुत कठिन तपस्याख थ यशोधरा की। पर वो उसपर खरी उतरी। उसकी अस्मिाता यूं खो गई जैस कपूर। बौद्ध शास्त्रों में इस घटना के बाद उसका फिर कोई उल्ले ख नहीं आता। कैसे जीयी, कैसे मरी,कब तक जीयी, कब मरी, किसी को कुछ पता नहीं। हां राहुल का जरूर जिक्र आता है बौद्ध शास्त्रों में जब उसे ब्रह्म ज्ञान प्राप्त हुआ, शायद वह सोलह साल का था। उस रात उसे मार ने डराया, वह संन्याझसियों की कतार में बहुत दूर सोता था। एक साधारण सन्या्सी की तरह। उस रात वह जब मार ने उसे डराया, तब वह गंध कुटी के बहार आ कर सो गया। भगवान बुद्ध की कुटिया को गंध कुटी कहते थे। उसी रात राहुल ब्रह्म ज्ञान को उपलब्ध हुआ। मात्र राहुल का भी बौद्ध ग्रंथों में यही वर्णन आता है। कठिन था जीवन, रोज-रोज भिक्षा मांग कर खानी होती थी। और जब आप अति विशेष हो तो आपको अपनी अति विशेषता को छोड़ना अति कठिन है। यशोधरा और राहुल ने छोड़ा, उन संन्यासियों की भिड़ में ऐसे गुम हो गये। यूं लीन हो गये, यूं डूब गये, इसको कहते है आन। कि आने के पद चाप भी आप न देख सके कोई ध्वनि भी न हुई, कोई छावा तक नहीं बन। तभी कोई अपने घर आ सकता है। बेड़ बाजा बजा कर केवल आने का भ्रम पैदा कर देना है।

wish4me to English

gautam buddh gyaan ko upalabdh hone ke baad ghar vaapas laute. baarah saal baad vaapas laute. jis din ghar chhoda tha, unaka bachcha, unaka beta ek hee din ka tha. raahul ek hee din ka tha. jab aae to vah baarah varsh ka ho chuka tha. aur buddh kee patnee yashodhara bahut naaraaj thee. svabhaavat:. aur usake ek bahut mahatvapoorn savaal poochha. usane poochha ki main itana jaanana chaahatee hoon; kya tumhen mera itana bhee bharosa na tha ki mujhase kah dete ki main ja raha hoon? kya tum sochate ho ki main tumhen rok letee? main bhee kshatraanee hoon. agar ham yuddh ke maidaan par tilak aur teeka laga kar tumhen bhej sakate hai, to saty kee khoj par nahin bhej saket? tumane mera apamaan kiya hai. bura apamaan kiya hai. jaakar kiya apamaan aisa nahin. tumane poochha kyon nahin? tum kah to dete ki main ja raha hoon. ek mauka to mujhe dete. dekh to lete ki main rotee hoon, chillaatee hoon, rookaavat daalatee hoon.
kahate hai buddh se bahut logon ne bahut tarah ke prashn poochhe honge. magar jindagee mein ek mauka tha jab ve chup rah gae. javaab na de paaye. aur yashodhara ne ek ke baad ek teer chalae. aur yashodhara ne kaha ki main tumase doosaree yah baat poochhatee hoon ki jo tumane jangal mein jaakar paaya, kya tum chhaatee par haath rakh kar kah sakate ho ki vah yaheen nahin mil sakata tha?
yah bhee bhagavaan buddh kaise kahen ki yaheen nahin mil sakata tha. kyoniki saty to sabhee jagah hai. aur bhram vash koee anjaan kah de to bhee koee baat maanee jaaye, ab to unhonjhane khud saty ko jaan liya hai, ki vah jangal mein mil sakata hai, to kyaan baajaar mein nahin mil sakata. pahale baajaar mein the tab to lagata tha saty to yahaan nahin hai. vah to jangal mein hee hai. vah sansaar mein kahaan vah to sansaar ke chhod dene par hee mil sakata hai. par saty ke mil jaane ke baat to phir usee sansaar aur baajaar mein aana pada tab jaana yahaan bhee jaana ja sakata tha saty ka naahak bhaage. par yahaan thoda kathin jaroor hai, par aisa kaise kah de kee yahaan nahin hai. vah to sab jagah hai. bhagavaan buddh ke paas is baat ka koee uttar nahin tha. unhonlane aankhe jhuka lee.
aur teesar prashn jo yashoda ne chot kee, shaayad yashoda samajh na sakee kee buddh puroosh ka yoon chup rah jaana ati khataranaak hai. us par baar-baar chot kar apane aap ko jhanjhat mein daalane jaisa hai, buddhon ke paas kya hota hai. dhya na-dhya na-dhyaasan aur sanyaagas. so is aakharee chot mein yashoda ulajh gaee. teesaree baat usane kaheen, raahul ko saamane kiya aur kaha ki ye tere pita hai. ye dekh, ye jo bhikhaaree kee tarah khada hai, haath mein bhiksha paatr lie. yaheen hai tere pita. ye tujhe paida hone ke din chhod kar kaayaron kee tarah bhaag gaye the. andhere mein apana muhan chhoopaaye. jab too maatr ke ek din ka tha. abhee paida hua navajaat. ab ye laute hai, tere pita, dekh le inheenv jee bhar kar. shaayad phir aaye ya na aaye. tujhe mile ya na mile. inase too apanee vaseeyat maang le. tere lie kya hai inake paas dene ke lie. vah maang le.
yah badee gaharee chot thee. buddh ke paas dene ko tha hee kyaat. yashodhara pratishodh le rahee thee baarah varshon ka. usake hraday ke ghaav jo naasoor ban gaye the. bah raha tha peeda aur santaap ka mavaad. nahin sookha tha vo jakhm jo buddh us raat de kar chale gaye the. lekin usane kabhee socha bhee nahin tha ki ye ghatana koee naya mod le legee. vah to bhaav mein baheen ja rahee thee. baat ko itane aage tak kheench liya tha ab us ka tanaav usakee taraph vaapas lautega. is kee aur usaka dhya na gaya hee nahin. bhagavaan jo itanee der se shaant baithe the unake chehare par mand hansee aaee, yashodhara ka krodh aur bhabhak utha. us is baat ka ehasaas bhee nahin ho raha tha kee vah band rahee hai makadee kee tarah apane hee taane baane mein.
bhagavaan ne tatkshan apana bhiksha paatr saamane khade raahul ke haath mein de diya. yashodhara kuchh kahen ya kuchh bole. yah itanee jaldeee ho gaya. ki usakee kuchh samajh mein nahin aaya. is ke vishay mein to usane socha bhee nahin tha. bhagavaan ne kaha,beta mere paas dene ko kuchh aur hai bhee nahin, lekin jo mainne paaya hai vah tujhe doonga. jis sarv sab ke lie maine ghar baar chhoda tujhe teree maan, aur is raaj paat ko chhod, aur aaj mujhe vo mil gaya hai. main khud chaahoonga vahee mere priy putr ko bhee mil jaaye. baakee jo diya ja sakata hai. kshanik hai. dene se pahale hee haath se phisal jaata he. baakee rang bhee koee rang hai. sandhyaaee ke aasamaan kee tarah,jo pal-pal badalate rahate hai. mein to tujhe aise rang mein rang dena chaahata hoon jo kabhee nahin chhut sakata. too sannyeest ho ja.
baarah varsh ke bete ko sannyist kar diya. yashodhara kee aankhon se jhar-jhar aansoo girane lage. usane kahaan ye aap kya kar rahe hai.
par buddh ne kaha,jo maree sampada hai vahee to de sakata hoon. samaadhi meree sampada hai, aur baantane ka dhang sannyaaras hai. aur yashodhara, jo beet gaee baat use bisaar de. aaya hee isalie hoon ki tujhe bhee le jaoon. ab raahul to gaya. too bhee chal. jis sampada ka main maalik hua hoon. usakee toon bhee maalik ho ja.
aur sach mein hee yashodhara ne siddh kar diya ki vah kshatraanee thee. tatksharan pairon mein jhuk gaee aur usane kaha, mujhe bhee deeksha den. aur deeksha lekar bhikshuon mein, sannyaaosiyon mein yoon kho gaee ki phir usaka koee ulleeekh nahin hai. poore dhamm pad mein koee ulleekh nahin aata. hajaaron sannyaasiyon ki bheed mein apane ko yoon mita diya. jaise vo hai hee nahin. log usake tya ga ko nahin samajh sakate. apane maan , sammaaen, ahankaar ko yoon mita diya kee sannyaamasee bhool hee gaye kee ye vaheen yashodhara hai. bhagavaan buddh kee patneed. bahut kathin tapasyaakh th yashodhara kee. par vo usapar kharee utaree. usakee asmiaata yoon kho gaee jais kapoor. bauddh shaastron mein is ghatana ke baad usaka phir koee ulle kh nahin aata. kaise jeeyee, kaise maree,kab tak jeeyee, kab maree, kisee ko kuchh pata nahin. haan raahul ka jaroor jikr aata hai bauddh shaastron mein jab use brahm gyaan praapt hua, shaayad vah solah saal ka tha. us raat use maar ne daraaya, vah sannyaajhasiyon kee kataar mein bahut door sota tha. ek saadhaaran sanyasee kee tarah. us raat vah jab maar ne use daraaya, tab vah gandh kutee ke bahaar aa kar so gaya. bhagavaan buddh kee kutiya ko gandh kutee kahate the. usee raat raahul brahm gyaan ko upalabdh hua. maatr raahul ka bhee bauddh granthon mein yahee varnan aata hai. kathin tha jeevan, roj-roj bhiksha maang kar khaanee hotee thee. aur jab aap ati vishesh ho to aapako apanee ati visheshata ko chhodana ati kathin hai. yashodhara aur raahul ne chhoda, un sannyaasiyon kee bhid mein aise gum ho gaye. yoon leen ho gaye, yoon doob gaye, isako kahate hai aan. ki aane ke pad chaap bhee aap na dekh sake koee dhvani bhee na huee, koee chhaava tak nahin ban. tabhee koee apane ghar aa sakata hai. bed baaja baja kar keval aane ka bhram paida kar dena hai.

Comments

comments