Friday , 10 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » गुलाम की सीख

गुलाम की सीख

gulaam-kee-seekh

gulaam-kee-seekh

gulaam kee seekh

gulaam kee seekh

दास प्रथा के दिनों में एक मालिक के पास अनेकों गुलाम हुआ करते थे। उन्हीं में से एक था लुक़मान।

लुक़मान था तो सिर्फ एक गुलाम लेकिन वह बड़ा ही चतुर और बुद्धिमान था। उसकी ख्याति दूर दराज़ के इलाकों में फैलने लगी थी।

एक दिन इस बात की खबर उसके मालिक को लगी, मालिक ने लुक़मान को बुलाया और कहा- सुनते हैं, कि तुम बहुत
बुद्धिमान हो। मैं तुम्हारी बुद्धिमानी की परीक्षा लेना चाहता हूँ। अगर तुम इम्तिहान में पास हो गए तो तुम्हें गुलामी से छुट्टी दे दी जाएगी। अच्छा जाओ, एक मरे हुए बकरे को काटो और उसका जो हिस्सा बढ़िया हो, उसे ले आओ।

लुक़मान ने आदेश का पालन किया और मरे हुए बकरे की जीभ लाकर मालिक के सामने रख दी।

कारण पूछने पर कि जीभ ही क्यों लाया ! लुक़मान ने कहा- अगर शरीर में जीभ अच्छी हो तो सब कुछ अच्छा-ही-अच्छा होता है।

 

मालिक ने आदेश देते हुए कहा- “अच्छा! इसे उठा ले जाओ और अब बकरे का जो हिस्सा बुरा हो उसे ले आओ।”

 

लुक़मान बाहर गया, लेकिन थोड़ी ही देर में उसने उसी जीभ को लाकर मालिक के सामने फिर रख दिया।

फिर से कारण पूछने पर लुक़मान ने कहा- “अगर शरीर में जीभ अच्छी नहीं तो सब बुरा-ही-बुरा है। “

उसने आगे कहते हुए कहा- “मालिक! वाणी तो सभी के पास जन्मजात होती है, परन्तु बोलना किसी-किसी को ही आता है…क्या बोलें? कैसे शब्द बोलें, कब बोलें.. इस एक कला को बहुत ही कम लोग जानते हैं। एक बात से प्रेम झरता है और दूसरी बात से झगड़ा होता है।

कड़वी बातों ने संसार में न जाने कितने झगड़े पैदा किये हैं। इस जीभ ने ही दुनिया में बड़े-बड़े कहर ढाये हैं।जीभ तीन इंच का वो हथियार है जिससे कोई छः फिट के आदमी को भी मार सकता है तो कोई मरते हुए इंसान में भी प्राण फूंक सकता है । संसार के सभी प्राणियों में वाणी का वरदान मात्र मानव को ही मिला है। उसके सदुपयोग से स्वर्ग पृथ्वी पर उतर सकता है और दुरूपयोग से स्वर्ग भी नरक में परिणत हो सकता है। भारत के विनाशकारी महाभारत का युद्ध वाणी के गलत प्रयोग का ही परिणाम था। “

मालिक, लुक़मान की बुद्धिमानी और चतुराई भरी बातों को सुनकर बहुत खुश हुए ; आज उनके गुलाम ने उन्हें एक बहुत बड़ी सीख दी थी और उन्होंने उसे आजाद कर दिया।

मित्रों, मधुर वाणी एक वरदान है जो हमें लोकप्रिय बनाती है वहीँ कर्कश या तीखी बोली हमें अपयश दिलाती है और हमारी प्रतिष्ठा को कम करती है। आपकी वाणी कैसी है ? यदि वो तीखी है या सामान्य भी है तो उसे मीठा बनाने का प्रयास करिये। आपकी वाणी आपके व्यत्कित्व का प्रतिबिम्ब है , उसे अच्छा होना ही चाहिए।

wish4me to English

daas pratha ke dinon mein ek maalik ke paas anekon gulaam hua karate the. unheen mein se ek tha luqamaan.

luqamaan tha to sirph ek gulaam lekin vah bada hee chatur aur buddhimaan tha. usakee khyaati door daraaz ke ilaakon mein phailane lagee thee.

ek din is baat kee khabar usake maalik ko lagee, maalik ne luqamaan ko bulaaya aur kaha- sunate hain, ki tum bahut
buddhimaan ho. main tumhaaree buddhimaanee kee pareeksha lena chaahata hoon. agar tum imtihaan mein paas ho gae to tumhen gulaamee se chhuttee de dee jaegee. achchha jao, ek mare hue bakare ko kaato aur usaka jo hissa badhiya ho, use le aao.

luqamaan ne aadesh ka paalan kiya aur mare hue bakare kee jeebh laakar maalik ke saamane rakh dee.

kaaran poochhane par ki jeebh hee kyon laaya ! luqamaan ne kaha- agar shareer mein jeebh achchhee ho to sab kuchh achchha-hee-achchha hota hai.

maalik ne aadesh dete hue kaha- “achchha! ise utha le jao aur ab bakare ka jo hissa bura ho use le aao.”

luqamaan baahar gaya, lekin thodee hee der mein usane usee jeebh ko laakar maalik ke saamane phir rakh diya.

phir se kaaran poochhane par luqamaan ne kaha- “agar shareer mein jeebh achchhee nahin to sab bura-hee-bura hai. “

usane aage kahate hue kaha- “maalik! vaanee to sabhee ke paas janmajaat hotee hai, parantu bolana kisee-kisee ko hee aata hai…kya bolen? kaise shabd bolen, kab bolen.. is ek kala ko bahut hee kam log jaanate hain. ek baat se prem jharata hai aur doosaree baat se jhagada hota hai.

kadavee baaton ne sansaar mein na jaane kitane jhagade paida kiye hain. is jeebh ne hee duniya mein bade-bade kahar dhaaye hain.jeebh teen inch ka vo hathiyaar hai jisase koee chhah phit ke aadamee ko bhee maar sakata hai to koee marate hue insaan mein bhee praan phoonk sakata hai . sansaar ke sabhee praaniyon mein vaanee ka varadaan maatr maanav ko hee mila hai. usake sadupayog se svarg prthvee par utar sakata hai aur duroopayog se svarg bhee narak mein parinat ho sakata hai. bhaarat ke vinaashakaaree mahaabhaarat ka yuddh vaanee ke galat prayog ka hee parinaam tha. “

maalik, luqamaan kee buddhimaanee aur chaturaee bharee baaton ko sunakar bahut khush hue ; aaj unake gulaam ne unhen ek bahut badee seekh dee thee aur unhonne use aajaad kar diya.

mitron, madhur vaanee ek varadaan hai jo hamen lokapriy banaatee hai vaheen karkash ya teekhee bolee hamen apayash dilaatee hai aur hamaaree pratishtha ko kam karatee hai. aapakee vaanee kaisee hai ? yadi vo teekhee hai ya saamaany bhee hai to use meetha banaane ka prayaas kariye. aapakee vaanee aapake vyatkitv ka pratibimb hai , use achchha hona hee chaahie

Comments

comments