Saturday , 11 February 2017
Latest Happenings
Home » Do you Know? »  गुरु पूर्णिमा आषाढ़ में क्यों? गुरु पूर्णिमा पर क्या करें!

 गुरु पूर्णिमा आषाढ़ में क्यों? गुरु पूर्णिमा पर क्या करें!

guru-purnima-oshad-main

guru-purnima-oshad-main

Guru Purnima oshad main story
आषाढ़ पूर्णिमा को वेद व्यासजी का अवतरण हुआ था. उन्होंने ही वेद-पुराणों से परिचित कराया, ईश्वर और मनुष्य के बीच सेतु बने. इसलिए आषाढ़ पूर्णिमा गुरू पूर्णिमा हुई. वेद व्यास जी अवतार हैं, आषाढी पूर्णिमा को तो चंद्रमा बादलों में छुपा ही रहता है उसी दिन क्यों! शरद पूर्णिमा जब चंद्रमा सबसे युवा और सबसे ज्यादा आकर्षक होता है, उस दिन गुरू पूर्णिमा क्यों नहीं!

आकाश में घिरे बादल जीव का प्रतीक हैं और चंद्रमा गुरू का. शिष्य जब गुरू के पास आता है तो वह आषाढी बादल की तरह अज्ञान के अंधकार में डूबा रहता है. गुरु अपनी ज्ञान की रोशनी से उसे दूध जैसा धवल बनाता है. दोनों का मिलन ही सार्थकता है. जो गुरुमुख हैं अर्थात जिन्होंने गुरू बनाए हैं उन्हें गुरू पूर्णिमा को गुरु की विधिवत पूजा करनी चाहिए. जिनके गुरू नहीं हैं वे जगदगुरू श्रीकृष्ण या पूरी सृष्टि के गुरू शिवजी में गुरु को देखें.

ज्योतिषशास्त्र गुरु पूर्णिमा को बहुत अहम मानता है. कुंडली में गुरु ग्रह प्रतिकूल हैं तो जीवन उतार-चढ़ाव से भरा रहता है. ऐसे लोगों के लिए गुरु पूर्णिमा पर कुछ उपाय कहे गए हैं-
– स्नान के बाद नाभि तथा मस्तक पर केसर का तिलक लगाएं.
– साधु, ब्राह्मण एवं पीपल के वृक्ष की पूजा करें।
– गुरु पूर्णिमा के दिन स्नान के जल में नागरमोथा नामक वनस्पति डालकर स्नान कर लें.
– घर में पीले फूलों के पौधे लगाएं और पीला रंग उपहार में दें.
– केले के दो पौधे विष्णु भगवान के मंदिर में लगाएं।
– गुरु पूर्णिमा के दिन साबूत मूंग मंदिर में दान करें और 12 वर्ष से छोटी कन्याओं के चरण स्पर्श करके उनसे आशीर्वाद लें.
– साधु संतों का भूले से भी अपमान न करें.

aashaadh poornima ko ved vyaasajee ka avataran hua tha. unhonne hee ved-puraanon se parichit karaaya, eeshvar aur manushy ke beech setu bane. isalie aashaadh poornima guroo poornima huee. ved vyaas jee avataar hain, aashaadhee poornima ko to chandrama baadalon mein chhupa hee rahata hai usee din kyon! sharad poornima jab chandrama sabase yuva aur sabase jyaada aakarshak hota hai, us din guroo poornima kyon nahin!

aakaash mein ghire baadal jeev ka prateek hain aur chandrama guroo ka. shishy jab guroo ke paas aata hai to vah aashaadhee baadal kee tarah agyaan ke andhakaar mein dooba rahata hai. guru apanee gyaan kee roshanee se use doodh jaisa dhaval banaata hai. donon ka milan hee saarthakata hai. jo gurumukh hain arthaat jinhonne guroo banae hain unhen guroo poornima ko guru kee vidhivat pooja karanee chaahie. jinake guroo nahin hain ve jagadaguroo shreekrshn ya pooree srshti ke guroo shivajee mein guru ko dekhen.

jyotishashaastr guru poornima ko bahut aham maanata hai. kundalee mein guru grah pratikool hain to jeevan utaar-chadhaav se bhara rahata hai. aise logon ke lie guru poornima par kuchh upaay kahe gae hain-
– snaan ke baad naabhi tatha mastak par kesar ka tilak lagaen.
– saadhu, braahman evan peepal ke vrksh kee pooja karen.
– guru poornima ke din snaan ke jal mein naagaramotha naamak vanaspati daalakar snaan kar len.
– ghar mein peele phoolon ke paudhe lagaen aur peela rang upahaar mein den.
– kele ke do paudhe vishnu bhagavaan ke mandir mein lagaen.
– guru poornima ke din saaboot moong mandir mein daan karen aur 12 varsh se chhotee kanyaon ke charan sparsh karake unase aasheervaad len.
– saadhu santon ka bhoole se bhee apamaan na karen.

 

Comments

comments