Monday , 6 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Guru_Profile » Mahabharat » गुरुभक्ति के लिए एकलव्य का त्याग

गुरुभक्ति के लिए एकलव्य का त्याग

gurubhakti-ke-lie-ekalavy-ka-tyaag

gurubhakti-ke-lie-ekalavy-ka-tyaag

eklavya

निषादराज हिरण्यधनु का पुत्र एकलव्य एक दिन हस्तिनापुर में आया और उसने उस समय के धनुर्विद्या के सर्वश्रेष्ठ आचार्य, कौरव-पाण्डवों के शस्त्र-गुरु द्रोणाचार्य जी के चरणों में दूर से साष्टांग प्रणाम किया। अपनी वेश-भूषा से ही वह अपने वर्ण की पहचान दे रहा था। आचार्य द्रोण ने जब उससे अपने पास आने का कारण पूछा, तब उसने बताया—‘मैं श्रीचरणों के समीप रहकर धनुर्विद्या कि शिक्षा लेने आया हूं।’
आचार्य संकोच में पड़ गये। उस समय कौरव तथा पाण्डव बालक थे और आचार्य उन्हें शिक्षा दे रहे थे। एक निषाद-बालक को अपने साथ शिक्षा देना राजकुमारों को स्वीकार नहीं होता और यह उनकी मर्यादा के अनुरुप भी नहीं था। भीष्मपितामह को आचार्य ने राजकुमारों को शस्त्र-शिक्षा देने का वचन दे रखा था। अतएव उन्होंने कहा—‘बेटा एकलव्य! मुझे दुःख है कि मैं किसी द्विजेतर बालक को शस्त्र शिक्षा नहीं दे सकता।’
एकलव्य ने तो द्रोणाचार्य जी को मन-ही-मन गुरु मान लिया था। जिसे गुरु मान लिया, उसकी किसी भी बात को सुनकर रोष या दोषदृष्टि करने की तो बात मन में ही कैसे आती। निषाद के उस छोटे बालक के मन में निराशा भी नहीं हुई। उसने फिर आचार्य के सम्मुख भूमि में लेटकर प्रणाम किया और कहा—‘भगवन्! मैंने तो आपको गुरुदेव मान लिया है। मेरे किसी काम से आपको संकोच हो, यह मैं नहीं चाहता। मुझ पर आपकी कृपा रहनी चाहिये।’
बालक एकलव्य हस्तिनापुर से लौटकर घर नहीं गया। वह वन में चला गया और वहां उसने मिट्टि की द्रोणाचार्य की एक मूर्ति बनाकर स्थापित कर दी। उस मूर्ति को प्रणाम करके उसके सामने वह बाण-विद्या का अभ्यास करने लगा। ज्ञान के एकमात्र दाता तो भगवान् ही है। जहां अविचल श्रद्धा औक गूढ़ निश्चय होता है, वहां वे सब के हृदय में रहने वाले श्री हरि गुरु रुप में या बिना बाहरी गुरु के भी ज्ञान का प्रकाश कर देते हैं। महीने-पर-महीने बीतते गये, एकलव्य का अभ्यास अखण्ड चलता गया और वह महान् धनुर्धर हो गया।
एक दिन द्रोणाचार्य अपने शिष्य पाण्डव और कौरवों को बाण-विद्या का अभ्यास कराने के लिये आखेट करने वन में लिवा ले गये। संयोग वश उनके साथ का एक कुत्ता भटकता हुआ एकलव्य के स्थान के पास पहुंच गया और काले रंग के तथा विचित्र वेशधारी एकलव्य को देखकर भोकने लगा। एकलव्य के केश बढ़ गये थे और उसके पास वस्त्र के स्थान पर बाघ का चमड़ा ही था। वह उस समय अपना अभ्यास कर रहा था। कुत्ते के भोकने से बाधा पड़ते देख उसने सात बाण चलाकर कुत्ते का मूख बन्द कर दिया। कुत्ता भागता हुआ अपने स्वामी के पास पहंचा। सबने बड़े आश्चर्य से देखा कि बाणों से कुत्ते को कहीं भी चोट नहीं लगी, किंतु वे आड़े-तिरछे उसके मुख में इस प्रकार फंसे है कि कुत्ता बोल नहीं सकता। बिना चोट पहुंचाये इस प्रकार कुत्ते के मुख में बाण भर देना बाण चलाने का बहुत बड़ा कौशल है। पाण्डवों में से अर्जुन इस हस्तकौशल को देखकर बहुत चकित हुए। उन्होंने द्रोणाचार्य जी से कहा—‘गुरुदेव! आपने तो कहा था कि आप मुझे पृथ्वी पर सबसे बड़ा धनुर्धर बना देंगे, किंतु इतना हस्तकौशल तो मुझमें भी नहीं है।’
‘चलो! हमलोग उसे ढूंढें।’ द्रोणाचार्य जी ने सबको साथ लेकर उस बाण चलाने वाले को वन में ढूंढना प्रारम्भ किया और वे एकलव्य के आश्रम पर पहुंच गये। एकलव्य आचार्य के चरणों में आकर गिर पड़ा। द्रोणाचार्य ने पूछा-‘सौम्य! तुमने बाण-विद्या का इतना उत्तम अभ्यास किस से प्राप्त किया?’
नम्रतापूर्वक एकलव्य ने हाथ जोड़कर कहा—‘भगवन्! मैं तो आपके श्रीचरणों का ही दास हूं।’ उसने आचार्य की उस मिट्टी की मूर्ति कि ओर संकेत किया। द्रोणाचार्य ने कुछ सोचकर कहा—‘भद्र! मुझे गुरुदक्षिणा नहीं दोगे?’
‘आज्ञा करें भगवन्!’ एकलव्य ने बहुत अधिक आनन्द का अनुभव करते हुए कहा।
द्रोणाचार्य ने कहा—‘मुझे तुम्हारे दाहिने हाथ का अंगूठा चाहिये।’
दाहिने हाथ का अंगूठा! दाहिने हाथ का अंगूठा न रहे तो बाण चलाया ही कैसे जा सकता है? इतने दिनों की अभिलाषा, इतना बड़ा परिश्रम, इतना अभ्यास—सब व्यर्थ हुआ जा रहा था, किंतु एकलव्य के मुख पर खेद की एक रेखा तक नहीं आयी। उस वीर गुर भक्त बालक ने बायें हाथ में अस्त्र लिया और तुरंत अपने दीहिने हाथ का अंगूठा काटकर अपने हाथ में उठाकर गुरुदेव के सामने कर दिया।
भरे कण्ठ से द्रोणाचार्य ने कहा-‘बेटा! संसार में धनुर्विद्या के अनेकों महान् ज्ञाता हुए हैं और होंगे, किंतु मैं आशीर्वाद देता हूं कि तुम्हारे इस महान् त्याग का सुयश सदा अमर रहेगा।’

wish4me in English

nishaadaraaj hiranyadhanu ka putr ekalavy ek din hastinaapur mein aaya aur usane us samay ke dhanurvidya ke sarvashreshth aachaary, kaurav-paandavon ke shastr-guru dronaachaary jee ke charanon mein door se saashtaang pranaam kiya. apanee vesh-bhoosha se hee vah apane varn kee pahachaan de raha tha. aachaary dron ne jab usase apane paas aane ka kaaran poochha, tab usane bataaya—‘main shreecharanon ke sameep rahakar dhanurvidya ki shiksha lene aaya hoon.’
aachaary sankoch mein pad gaye. us samay kaurav tatha paandav baalak the aur aachaary unhen shiksha de rahe the. ek nishaad-baalak ko apane saath shiksha dena raajakumaaron ko sveekaar nahin hota aur yah unakee maryaada ke anurup bhee nahin tha. bheeshmapitaamah ko aachaary ne raajakumaaron ko shastr-shiksha dene ka vachan de rakha tha. atev unhonne kaha—‘beta ekalavy! mujhe duhkh hai ki main kisee dvijetar baalak ko shastr shiksha nahin de sakata.’
ekalavy ne to dronaachaary jee ko man-hee-man guru maan liya tha. jise guru maan liya, usakee kisee bhee baat ko sunakar rosh ya doshadrshti karane kee to baat man mein hee kaise aatee. nishaad ke us chhote baalak ke man mein niraasha bhee nahin huee. usane phir aachaary ke sammukh bhoomi mein letakar pranaam kiya aur kaha—‘bhagavan! mainne to aapako gurudev maan liya hai. mere kisee kaam se aapako sankoch ho, yah main nahin chaahata. mujh par aapakee krpa rahanee chaahiye.’
baalak ekalavy hastinaapur se lautakar ghar nahin gaya. vah van mein chala gaya aur vahaan usane mitti kee dronaachaary kee ek moorti banaakar sthaapit kar dee. us moorti ko pranaam karake usake saamane vah baan-vidya ka abhyaas karane laga. gyaan ke ekamaatr daata to bhagavaan hee hai. jahaan avichal shraddha auk goodh nishchay hota hai, vahaan ve sab ke hrday mein rahane vaale shree hari guru rup mein ya bina baaharee guru ke bhee gyaan ka prakaash kar dete hain. maheene-par-maheene beetate gaye, ekalavy ka abhyaas akhand chalata gaya aur vah mahaan dhanurdhar ho gaya.
ek din dronaachaary apane shishy paandav aur kauravon ko baan-vidya ka abhyaas karaane ke liye aakhet karane van mein liva le gaye. sanyog vash unake saath ka ek kutta bhatakata hua ekalavy ke sthaan ke paas pahunch gaya aur kaale rang ke tatha vichitr veshadhaaree ekalavy ko dekhakar bhokane laga. ekalavy ke kesh badh gaye the aur usake paas vastr ke sthaan par baagh ka chamada hee tha. vah us samay apana abhyaas kar raha tha. kutte ke bhokane se baadha padate dekh usane saat baan chalaakar kutte ka mookh band kar diya. kutta bhaagata hua apane svaamee ke paas pahancha. sabane bade aashchary se dekha ki baanon se kutte ko kaheen bhee chot nahin lagee, kintu ve aade-tirachhe usake mukh mein is prakaar phanse hai ki kutta bol nahin sakata. bina chot pahunchaaye is prakaar kutte ke mukh mein baan bhar dena baan chalaane ka bahut bada kaushal hai. paandavon mein se arjun is hastakaushal ko dekhakar bahut chakit hue. unhonne dronaachaary jee se kaha—‘gurudev! aapane to kaha tha ki aap mujhe prthvee par sabase bada dhanurdhar bana denge, kintu itana hastakaushal to mujhamen bhee nahin hai.’
‘chalo! hamalog use dhoondhen.’ dronaachaary jee ne sabako saath lekar us baan chalaane vaale ko van mein dhoondhana praarambh kiya aur ve ekalavy ke aashram par pahunch gaye. ekalavy aachaary ke charanon mein aakar gir pada. dronaachaary ne poochha-‘saumy! tumane baan-vidya ka itana uttam abhyaas kis se praapt kiya?’
namrataapoorvak ekalavy ne haath jodakar kaha—‘bhagavan! main to aapake shreecharanon ka hee daas hoon.’ usane aachaary kee us mittee kee moorti ki or sanket kiya. dronaachaary ne kuchh sochakar kaha—‘bhadr! mujhe gurudakshina nahin doge?’
‘aagya karen bhagavan!’ ekalavy ne bahut adhik aanand ka anubhav karate hue kaha.
dronaachaary ne kaha—‘mujhe tumhaare daahine haath ka angootha chaahiye.’
daahine haath ka angootha! daahine haath ka angootha na rahe to baan chalaaya hee kaise ja sakata hai? itane dinon kee abhilaasha, itana bada parishram, itana abhyaas—sab vyarth hua ja raha tha, kintu ekalavy ke mukh par khed kee ek rekha tak nahin aayee. us veer gur bhakt baalak ne baayen haath mein astr liya aur turant apane deehine haath ka angootha kaatakar apane haath mein uthaakar gurudev ke saamane kar diya.
bhare kanth se dronaachaary ne kaha-‘beta! sansaar mein dhanurvidya ke anekon mahaan gyaata hue hain aur honge, kintu main aasheervaad deta hoon ki tumhaare is mahaan tyaag ka suyash sada amar rahega.’

Comments

comments