Wednesday , 8 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » Hindu » अमरनाथ धाम का महात्म्य एवं यात्रा का फल(Importance of Amarnaath Dhaam Yatra)

अमरनाथ धाम का महात्म्य एवं यात्रा का फल(Importance of Amarnaath Dhaam Yatra)

importance-of-amarnaath-dhaam-yatra

importance-of-amarnaath-dhaam-yatra

Importance of Amarnaath Dhaam Yatra

Importance of Amarnaath Dhaam Yatra

कहते हैं जिस पर भोले बाबा की कृपा होती है वही अमरनाथ धाम पहुंचता है. यहां पहुंचना ही सबसे बड़ा पुण्य है. जो भक्त बाबा हिमानी का दर्शन करता है उसे इस संसार में सर्व सुख की प्राप्ति होती है. व्यक्ति के कई जन्मों के पाप कटित हो जाते हैं और शरीर त्याग करने के पश्चात उत्तम लोक में स्थान प्राप्त होता है.

कश्मीर में श्रीनगर से करीब 135 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है हिन्दूओं का परम पवित्र तीर्थस्थल अमरनाथ धाम। यहां समुद्रतल से 13 हजार 600 फुट की दूरी पर बसा है पवित्र गुफा जिसमें भगवान भोलेनाथ देवी पार्वती के साथ विराजमान रहते हैं।

पुराणों के अनुसार यही वह स्थान है जहां भगवान शिव ने पहली बार अमरत्व का रहस्य प्रकट किया था। इस तीर्थ के मार्ग में कई पड़ाव हैं जो तीर्थ स्वरूप माने जाते हैं।

इस तीर्थ की सबसे खास बात है बर्फ से प्राकृतिक शिवलिंग का निर्मित होना। प्राकृतिक हिम से निर्मित होने के कारण इसे स्वयंभू हिमानी शिवलिंग भी कहते हैं।

शिवलिंग श्रावण पूर्णिमा को अपने पूरे आकार में आ जाता है। आश्चर्य की बात यह है कि यह शिवलिंग ठोस वर्फ का निर्मित होता है। जबकि पूरी गुफा पर नजर डालेंगे तो आपको हर तरफ कच्ची बर्फ ही नजर आएगी।

wish4me to English

kahate hain jis par bhole baaba kee krpa hotee hai vahee amaranaath dhaam pahunchata hai. yahaan pahunchana hee sabase bada puny hai. jo bhakt baaba himaanee ka darshan karata hai use is sansaar mein sarv sukh kee praapti hotee hai. vyakti ke kaee janmon ke paap katit ho jaate hain aur shareer tyaag karane ke pashchaat uttam lok mein sthaan praapt hota hai.

kashmeer mein shreenagar se kareeb 135 kilomeetar kee dooree par sthit hai hindooon ka param pavitr teerthasthal amaranaath dhaam. yahaan samudratal se 13 hajaar 600 phut kee dooree par basa hai pavitr gupha jisamen bhagavaan bholenaath devee paarvatee ke saath viraajamaan rahate hain.

puraanon ke anusaar yahee vah sthaan hai jahaan bhagavaan shiv ne pahalee baar amaratv ka rahasy prakat kiya tha. is teerth ke maarg mein kaee padaav hain jo teerth svaroop maane jaate hain.

is teerth kee sabase khaas baat hai barph se praakrtik shivaling ka nirmit hona. praakrtik him se nirmit hone ke kaaran ise svayambhoo himaanee shivaling bhee kahate hain.

shivaling shraavan poornima ko apane poore aakaar mein aa jaata hai. aashchary kee baat yah hai ki yah shivaling thos varph ka nirmit hota hai. jabaki pooree gupha par najar daalenge to aapako har taraph kachchee barph hee najar aaegee.

Comments

comments