Friday , 9 June 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » God Leela » काकासुर की हार

काकासुर की हार

kakasur-defeat

kakasur-defeat

krishana

 

कंस ने दूसरे दिन अपने दरबार में मंत्रियों को बुलवाया और योगमाया की सारी बातें उनसे बतायीं। कंस के मंत्री दैत्य होने के कारण स्वभाव से ही क्रूर थे। वे सब देवताओं के प्रति शत्रुता का भाव रखते थे। अपने स्वामी कंस की बात सुनकर उन सबों ने कहा- ‘यदि आपके शत्रु विष्णु ने कहीं और जन्म ले लिया है तो इस दस दिन के भीतर जन्में सभी बच्चों को आज ही मार डालेंगे। हम आज ही बड़े-बड़े नगरों, छोटे-छोटे गावों, अहीरों की बस्तियों में और अन्य स्थानों में जितने भी बच्चे पैदा हुए हैं, उन्हें खोजकर मारना शुरू कर देते हैं। शत्रु को कभी छोटा नहीं समझना चाहिए। इसलिए उसे जड़ से उखाड़ फेंकने के लिए आप हम जैसे सेवकों को आदेश दीजिए’। एक तो कंस की बुद्धि वैसे ही बिगड़ी हुई थी, दूसरे उसके मंत्री उससे भी अधिक दुष्ट थे। कंस के आदेश से दुष्ट दैत्य नवजात बच्चों को जहां पाते, वहीं मार देते। गोकुल में भी उत्पात शुरू हो गए। अभी छठी के दिन भगवान का जात कर्म संस्कार ही हुआ था कि कंस के द्वारा भेजी गई पूतना श्रीकृष्ण को मारने के लिए नंद बाबा के घर पहुंची। उसने सुंदर गोपी का वेष बनाकर श्रीकृष्ण को गोद में उठा लिया और अपने विष लगे स्तनों का दूध पिलाने लगी। श्रीकृष्ण ने दूध के साथ उसके प्राणों को भी खींच लिया और उसे यमलोक भेज दिया। एक दिन की बात है, नन्हें-से कन्हाई पालने में लेटे हुए अकेले ही कुछ हूं-हां कर रहे थे और अपने हाथ, पैरों को हिला रहे थे। उसी समय कंस का भेजा हुआ एक दुष्ट राक्षस कौवे का वेष बनाकर उड़ता हुआ वहां आ पहुंचा।

वह बहुत विकराल था और अपने पंखों को फड़फड़ा रहा था। वह पहले तो भयकंर रूप से बार-बार श्रीकृष्ण को डराने का प्रयास करने लगा, पर श्रीकृष्ण मुस्कुराते रहे। फिर वह क्रोधित होकर बालकृष्ण को मारने के लिए झपटा। बालरूप भगवान श्रीकृष्ण ने बायें हाथ से कसकर उसके गले को पकड़ लिया। उसके प्राण छटपटाने लगे। भगवान ने उसे घुमाकर इतनी जोर से फेंका कि वह कंस के सभा मंडप में जा गिरा। बड़ी मुश्किल से उसे होश में लाया गया। कंस ने घबड़ाकर उससे पूछा- तुम्हारी ये दशा किसने की? काकासुर ने कहा – राजन जिसने मेरी गर्दन मरोड़कर यहां फेंक दिया, वे कोई साधारण बालक नहीं हो सकता। निश्चित ही भगवान श्रीहरि ने अवतार ले लिया है।

In English

kans ne doosare din apane darabaar mein mantriyon ko bulavaaya aur yogamaaya kee saaree baaten unase bataayeen. kans ke mantree daity hone ke kaaran svabhaav se hee kroor the. ve sab devataon ke prati shatruta ka bhaav rakhate the. apane svaamee kans kee baat sunakar un sabon ne kaha- ‘yadi aapake shatru vishnu ne kaheen aur janm le liya hai to is das din ke bheetar janmen sabhee bachchon ko aaj hee maar daalenge. ham aaj hee bade-bade nagaron, chhote-chhote gaavon, aheeron kee bastiyon mein aur any sthaanon mein jitane bhee bachche paida hue hain, unhen khojakar maarana shuroo kar dete hain. shatru ko kabhee chhota nahin samajhana chaahie. isalie use jad se ukhaad phenkane ke lie aap ham jaise sevakon ko aadesh deejie’. ek to kans kee buddhi vaise hee bigadee huee thee, doosare usake mantree usase bhee adhik dusht the. kans ke aadesh se dusht daity navajaat bachchon ko jahaan paate, vaheen maar dete. gokul mein bhee utpaat shuroo ho gae. abhee chhathee ke din bhagavaan ka jaat karm sanskaar hee hua tha ki kans ke dvaara bhejee gaee pootana shreekrshn ko maarane ke lie nand baaba ke ghar pahunchee. usane sundar gopee ka vesh banaakar shreekrshn ko god mein utha liya aur apane vish lage stanon ka doodh pilaane lagee. shreekrshn ne doodh ke saath usake praanon ko bhee kheench liya aur use yamalok bhej diya. ek din kee baat hai, nanhen-se kanhaee paalane mein lete hue akele hee kuchh hoon-haan kar rahe the aur apane haath, pairon ko hila rahe the. usee samay kans ka bheja hua ek dusht raakshas kauve ka vesh banaakar udata hua vahaan aa pahuncha.

vah bahut vikaraal tha aur apane pankhon ko phadaphada raha tha. vah pahale to bhayakanr roop se baar-baar shreekrshn ko daraane ka prayaas karane laga, par shreekrshn muskuraate rahe. phir vah krodhit hokar baalakrshn ko maarane ke lie jhapata. baalaroop bhagavaan shreekrshn ne baayen haath se kasakar usake gale ko pakad liya. usake praan chhatapataane lage. bhagavaan ne use ghumaakar itanee jor se phenka ki vah kans ke sabha mandap mein ja gira. badee mushkil se use hosh mein laaya gaya. kans ne ghabadaakar usase poochha- tumhaaree ye dasha kisane kee? kaakaasur ne kaha – raajan jisane meree gardan marodakar yahaan phenk diya, ve koee saadhaaran baalak nahin ho sakata. nishchit hee bhagavaan shreehari ne avataar le liya hai.

Comments

comments