Wednesday , 8 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » Hindu » काशी विश्वनाथ ज्योतिर्लिंग

काशी विश्वनाथ ज्योतिर्लिंग

kashi-vishwanath-jyotirlinga

kashi-vishwanath-jyotirlinga

KasheeVishvanath

KasheeVishvanath

श्री काशी विश्वनाथ ज्योतिर्लिंग वाराणसी (Kashi Vishwanath Temple, Varanasi) जनपद के काशी नगर में अवस्थित है। कहते है, काशी तीनों लोकों में न्यारी नगरी है, जो भोले बाबा के त्रिशूल पर विराजती है। इस मंदिर को कई बार बनाया गया। नवीनतम संरचना जो आज यहां दिखाई देती है वह 18वीं शताब्दी में बनी थी। कहा जाता है कि एक बार इंदौर की रानी अहिल्या बाई होलकर के स्वप्न में भगवान शिव आए। वे भगवान शिव की भक्त थीं। इसलिए उन्होंने 1777 में यह मंदिर निर्मित कराया।

काशी विश्वनाथ की महिमा (History of Kashi Vishwanath Temple)

काशी भगवान शिव की प्रिय नगरी है। “हर हर महादेव घर-घर महादेव” का जयघोष” काशी के लिए ही किया जाता है। काशी में भगवान शिव विश्वेश्वर नामक ज्योतिर्लिंग में निवास करते हैं। कहते हैं भगवान शिव के मन में एक बार एक से दो हो जाने की इच्छा जागृत हुई। उन्होंने खुद को रूपों में विभक्त कर लिया। एक शिव कहलाए और दूसरे शक्ति। लेकिन इस रूप में अपने माता-पिता को ना पाकर वह बेहद दुखी थे। उस समय आकाशवाणी ने उन्हें तपस्या करने की सलाह दी। तपस्या हेतु भगवान शिव ने अपने हाथों से पांच कोस लंबे भूभाग पर काशी का निर्माण किया। और यहां विश्वेश्वर के रूप में विराजमान हुए।

मान्यता (Importance of Kashi Vishwanath Temple)

शिव पुराण के अनुसार रोग ग्रस्त स्त्री या पुरुष, युवा हो या प्रौढ़, मोक्ष की प्राप्ति के लिए यहां जीवन में एक बार अवश्य आता है। ऐसा मानते हैं कि यहां पर आने वाला हर श्रद्धालु भगवान विश्वनाथ को अपनी इच्छा समर्पित करता है। काशी क्षेत्र में मरने वाले किसी भी प्राणी को निश्चित ही मुक्ति प्राप्त होती है। कहते हैं जब कोई यहां मर रहा होता है उस समय भगवान श्री विश्वनाथ उसके कानों में तारक मंत्र का उपदेश देते हैं जिससे वह आवागमन के चक्कर से अर्थात इस संसार से मुक्त हो जाता है।

wish4me to English

shree kaashee vishvanaath jyotirling vaaraanasee (kashi vishwanath taimplai, varanasi) janapad ke kaashee nagar mein avasthit hai. kahate hai, kaashee teenon lokon mein nyaaree nagaree hai, jo bhole baaba ke trishool par viraajatee hai. is mandir ko kaee baar banaaya gaya. naveenatam sanrachana jo aaj yahaan dikhaee detee hai vah 18veen shataabdee mein banee thee. kaha jaata hai ki ek baar indaur kee raanee ahilya baee holakar ke svapn mein bhagavaan shiv aae. ve bhagavaan shiv kee bhakt theen. isalie unhonne 1777 mein yah mandir nirmit karaaya.

kaashee vishvanaath kee mahima (history of kashi vishwanath taimplai)

kaashee bhagavaan shiv kee priy nagaree hai. “har har mahaadev ghar-ghar mahaadev” ka jayaghosh” kaashee ke lie hee kiya jaata hai. kaashee mein bhagavaan shiv vishveshvar naamak jyotirling mein nivaas karate hain. kahate hain bhagavaan shiv ke man mein ek baar ek se do ho jaane kee ichchha jaagrt huee. unhonne khud ko roopon mein vibhakt kar liya. ek shiv kahalae aur doosare shakti. lekin is roop mein apane maata-pita ko na paakar vah behad dukhee the. us samay aakaashavaanee ne unhen tapasya karane kee salaah dee. tapasya hetu bhagavaan shiv ne apane haathon se paanch kos lambe bhoobhaag par kaashee ka nirmaan kiya. aur yahaan vishveshvar ke roop mein viraajamaan hue.

maanyata (importanchai of kashi vishwanath taimplai)

shiv puraan ke anusaar rog grast stree ya purush, yuva ho ya praudh, moksh kee praapti ke lie yahaan jeevan mein ek baar avashy aata hai. aisa maanate hain ki yahaan par aane vaala har shraddhaalu bhagavaan vishvanaath ko apanee ichchha samarpit karata hai. kaashee kshetr mein marane vaale kisee bhee praanee ko nishchit hee mukti praapt hotee hai. kahate hain jab koee yahaan mar raha hota hai us samay bhagavaan shree vishvanaath usake kaanon mein taarak mantr ka upadesh dete hain jisase vah aavaagaman ke chakkar se arthaat is sansaar se mukt ho jaata hai.

Suggest an edit
Google Translate for Business:

Comments

comments