Saturday , 11 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » क्या बनना चाहेंगे आप कैरट्स , एग्स या कॉफ़ी बीन्स

क्या बनना चाहेंगे आप कैरट्स , एग्स या कॉफ़ी बीन्स

kya-aap-banena-chahege-caters-agges-ya-coffie-beans

kya-aap-banena-chahege-caters-agges-ya-coffie-beans

Kya Aap Banena Chahege Caters, Agges Ya Coffie Beans Storyकुछ दिनों से उदास रह रही अपनी बेटी को देखकर माँ ने पूछा , ” क्या हुआ बेटा , मैं देख रही हूँ तुम बहुत उदास रहने लगी हो …सब ठीक तो है न ?”

” कुछ भी ठीक नहीं है माँ … ऑफिस में बॉस की फटकार , दोस्तों की बेमतलब की नाराजगी ….पैसो की दिक्कत …मेरा मन बिल्कुल अशांत रहेने लगा है माँ , जी में तो आता है कि ये सब छोड़ कर कहीं चली जाऊं ….” , बेटी ने रुआंसे होते हुए कहा .

माँ ये सब सुनकर गंभीर हो गयीं और बेटी का सिर सहलाते हुए किचन में ले गयीं .

वहां उन्होंने तीन पैन उठाये और उनमे पानी भर दिया .उसके बाद उन्होंने पहले पैन में कैरट , दूसरे में एग्स और तीसरे में कुछ कॉफ़ी बीन्स डाल दी .

फिर उन्होंने तीनो पैन्स को चूल्हे पे चढ़ा दिया और बिना कुछ बोले उनके खौलने का इंतज़ार करने लगीं .

लगभग बीस मिनट बाद उन्होंने गैस बंद कर दी, और फिर एक – एक कर के कैरट्स और एग्स अलग-अलग प्लेट्स में निकाल दिए और अंत में एक मग में कॉफ़ी उड़ेल दी .

“बताओ तुमने क्या देखा “, माँ ने बेटी से पूछा .

“कैरट्स , एग्स , कॉफ़ी … और क्या ??…लेकिन ये सब करने का क्या मतलब है .”, जवाब आया .

माँ बोलीं ,” मेरे करीब आओ …और इन कैरट्स को छू कर देखो !”

बेटी ने छू कर देखा , कैरट नर्म हो चुके थे .

“अब एग्स को देखो ..”

बेटी ने एक एग हाथ में लिया और देखने लगी …एग बाहर से तो पहले जैसा ही था पर अन्दर से सख्त हो चुका-था .

और अंत में माँ ने कॉफ़ी वाला मग उठा कर देखने को कहा ….
” …इसमे क्या देखना है…ये तो कॉफ़ी बन चुका है …लेकिन ये सब करने का मतलब क्या है ….???’ , बेटी ने कुछ झुंझलाते हुए पूछा .

माँ बोलीं , ” इन तीनो चीजों को एक ही तकलीफ से होकर गुजरना पड़ा — खौलता पानी . लेकिन हर एक ने अलग अलग तरीके से रियेक्ट किया .

कैरट पहले तो ठोस था पर खुलते पानी रुपी मुसीबत आने पर कमजोर और नरम पड़ गया , वहीँ एग पहले ऊपर से सख्त और अन्दर से सॉफ्ट था पर मुसीबत आने के बाद उसे झेल तो गया पर वह अन्दर से बदल गया, कठोर हो गया,सख्त दिल बन गया ….लेकिन कॉफ़ी बीन्स तो बिल्कुल अलग थीं …उनके सामने जो दिक्कत आयी उसका सामना किया और मूल रूप खोये बिना खौलते पानी रुपी मुसीबत को कॉफ़ी की सुगंध में बदल दिया…

” तुम इनमे से कौन हो ?” माँ ने बेटी से पूछा .
” जब तुम्हारी ज़िन्दगी में कोई दिक्कत आती है तो तुम किस तरह रियेक्ट करती हो ? तुम क्या हो …कैरट , एग या कॉफ़ी बीन्स ?”

बेटी माँ की बात समझ चुकी थी , और उसने माँ से वादा किया कि वो अब उदास नहीं होगी और विपरीत परिस्थितियों का सामना अच्छे से करेगी .


 

kuchh dinon se udaas rah rahee apanee betee ko dekhakar maan ne poochha, “kya hua beta, main dekh rahee hoon tum bahut udaas rahane lagee ho … sab theek to hai na?”

“kuchh bhee theek nahin hai maan … ophis mein bos kee phatakaar, doston kee bematalab kee naaraajagee … .paiso kee dikkat … mera man bilkul ashaant rahene laga hai maan, jee mein to aata hai ki ye sab chhod kar kaheen chalee jaoon ….” , betee ne ruaanse hote hue kaha.

maan ye sab sunakar gambheer ho gayeen aur betee ka sir sahalaate hue kichan mein le gayeen.

vahaan unhonne teen pain uthaaye aur uname paanee bhar diya .usake baad unhonne pahale pain mein kairat, doosare mein egs aur teesare mein kuchh kofee beens daal dee.

phir unhonne teeno pains ko choolhe pe chadha diya aur bina kuchh bole unake khaulane ka intazaar karane lageen.

lagabhag bees minat baad unhonne gais band kar dee, aur phir ek – ek kar ke kairats aur egs alag-alag plets mein nikaal die aur ant mein ek mag mein kofee udel dee.

“batao tumane kya dekha”, maan ne betee se poochha.

“kairats, egs, kofee … aur kya ?? … lekin ye sab karane ka kya matalab hai.”, javaab aaya.

maan boleen, “mere kareeb aao … aur in kairats ko chhoo kar dekho!”

betee ne chhoo kar dekha, kairat narm ho chuke the.

“ab egs ko dekho ..”

betee ne ek eg haath mein liya aur dekhane lagee … eg baahar se to pahale jaisa hee tha par andar se sakht ho chuka tha-.

aur ant mein maan ne kofee vaala mag utha kar dekhane ko kaha ….
“… isame kya dekhana hai … ye to kofee ban chuka hai … lekin ye sab karane ka matalab kya hai …. ??? , betee ne kuchh jhunjhalaate hue poochha.

maan boleen, “in teeno cheejon ko ek hee takaleeph se hokar gujarana pada – khaulata paanee. lekin har ek ne alag alag tareeke se riyekt kiya.

kairat pahale to thos tha par khulate paanee rupee museebat aane par kamajor aur naram pad gaya, vaheen eg pahale oopar se sakht aur andar se sopht tha par museebat aane ke baad use jhel to gaya par vah andar se badal gaya, kathor ho gaya, sakht dil ban gaya … .lekin kofee beens to bilkul alag theen … unake saamane jo dikkat aayee usaka saamana kiya aur mool roop khoye bina khaulate paanee rupee museebat ko kofee kee sugandh mein badal diya …

“tum iname se kaun ho?” maan ne betee se poochha.
“jab tumhaaree zindagee mein koee dikkat aatee hai to tum kis tarah riyekt karatee ho? tum kya ho … kairat, eg ya kofee beens? “

Comments

comments