Sunday , 12 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » मां से बढ़कर कोई नहीं

मां से बढ़कर कोई नहीं

ma-se-badh-kar-koi-nahi

ma-se-badh-kar-koi-nahi

Ma Se Badh Kar Koi Nahi Story

स्वामी विवेकानंद जी से एक जिज्ञासु ने प्रश्न किया, मां की महिमा संसार में किस कारण से गाई जाती है? स्वामी जी मुस्कराए, उस व्यक्ति से बोले, पांच सेर वजन का एक पत्थर ले आओ। जब व्यक्ति पत्थर ले आया तो स्वामी जी ने उससे कहा, अब इस पत्थर को किसी कपड़े में लपेटकर अपने पेट पर बाँध लो और चौबीस घंटे बाद मेरे पास आओ तो मैं तुम्हारे प्रश्न का उत्तर दूंगा।
स्वामी जी के आदेशानुसार उस व्यक्ति ने पत्थर को अपने पेट पर बांध लिया और चला गया। पत्थर बंधे हुए दिनभर वो अपना काम करता रहा, किन्तु हर क्षण उसे परेशानी और थकान महसूस हुई। शाम होते-होते पत्थर का बोझ संभाले हुए चलना फिरना उसके लिए असह्य हो उठा। थका मांदा वह स्वामी जी के पास पंहुचा और बोला मैं इस पत्थर को अब और अधिक देर तक बांधे नहीं रख सकूंगा।
एक प्रश्न का उत्तर पाने के लिए मैं इतनी कड़ी सजा नहीं भुगत सकता। स्वामी जी मुस्कुराते हुए बोले, पेट पर इस पत्थर का बोझ तुमसे कुछ घंटे भी नहीं उठाया गया। मां अपने गर्भ में पलने वाले शिशु को पूरे नौ माह तक ढ़ोती है और गृहस्थी का सारा काम करती है। संसार में मां के सिवा कोई इतना धैर्यवान और सहनशील नहीं है। इसलिए माँ से बढ़ कर इस संसार में कोई और नहीं।

svaamee  jee se ek jigyaasu ne prashn kiya, maan kee mahima sansaar mein kis kaaran se gaee jaatee hai? svaamee jee muskarae, us vyakti se bole, paanch ser vajan ka ek patthar le aao. jab vyakti patthar le aaya to svaamee jee ne usase kaha, ab is patthar ko kisee kapade mein lapetakar apane pet par baandh lo aur chaubees ghante baad mvivekaanandere paas aao to main tumhaare prashn ka uttar doonga.
svaamee jee ke aadeshaanusaar us vyakti ne patthar ko apane pet par baandh liya aur chala gaya. patthar bandhe hue dinabhar vo apana kaam karata raha, kintu har kshan use pareshaanee aur thakaan mahasoos huee. shaam hote-hote patthar ka bojh sambhaale hue chalana phirana usake lie asahy ho utha. thaka maanda vah svaamee jee ke paas panhucha aur bola main is patthar ko ab aur adhik der tak baandhe nahin rakh sakoonga.
ek prashn ka uttar paane ke lie main itanee kadee saja nahin bhugat sakata. svaamee jee muskuraate hue bole, pet par is patthar ka bojh tumase kuchh ghante bhee nahin uthaaya gaya. maan apane garbh mein palane vaale shishu ko poore nau maah tak dhotee hai aur grhasthee ka saara kaam


Comments

comments