Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religious Places » श्री पद्मनाभ स्वामी मंदिर

श्री पद्मनाभ स्वामी मंदिर

padmanabha-swamy-mandir

padmanabha-swamy-mandir

Padmanabha Swamy Mandir Story

श्री पद्मनाभ स्वामी मंदिर केरल राज्य के तिरुअनन्तपुरम शहर में स्थित है। यह मंदिर जगत पालक भगवान विष्णु को समर्पित है। यह मंदिर केरल के प्रसिद्ध धार्मिक स्थानों में से एक है। मान्यता है कि देश में भगवान विष्णु को समर्पित 108 देशम है और श्री पद्मनाभ स्वामी मंदिर भी उनमें से एक हैं।

श्री पद्मनाभ स्वामी मंदिर का धार्मिक महत्त्व (Religious Significance of Sree PadmanabhaSwamy Temple)

पौराणिक कथा के अनुसार भगवान विष्णु की सबसे पहली प्रतिमा इसी स्थान से मिली थी। जिसके बाद इस स्थान पर भगवान का मंदिर बनवा दिया गया। वह दूसरी एक कथा के अनुसार भगवान विष्णु ने पृथ्वी पर प्रकट होकर तीन स्थानों को वैकुंठ कहा और वही विराजमान हो गए। उन्हीं तीन प्रमुख स्थानों में से एक तिरुअनन्तपुरम है।
श्री पद्मनाभ स्वामी मंदिर का पुनर्निर्माण त्रावनकोर के राजा मार्तण्ड ने करवाया था। इस मंदिर में  द्रविड़ एवं केरल वास्तु कला का मिला जुला प्रयोग देखने को मिलता है।

श्री पद्मनाभ स्वामी मंदिर में स्थित मूर्ति 
इस मंदिर की एक प्रमुख खासियत है यहां स्थित भगवान विष्णु जी की मूर्ति। मंदिर के गर्भगृह में भगवान विष्णु की विशाल मूर्ति विराजमान है। इस मूर्ति में भगवान विष्णु शेषनाग पर शयन मुद्रा में विराजमान हैं। भगवान विष्णु की विश्राम अवस्था को ‘पद्मनाभं’ कहा जाता है। इस मूर्ति के कारण ही मंदिर का नाम पद्मनाभ स्वामी पड़ा। एक और चीज जो इस मंदिर को खास बनाती है वह है यहां मौजुद तहखाने। मान्यता है कि मंदिर के संरक्षकों ने लुटेरों से धन की सुरक्षा के लिए कई तिलिस्मी तलघरों में सुरक्षित रखा है, जो आज भी मौजूद है।
मंदिर में जानें के लिए है विशेष वस्त्र (Special Clothing to Enter The Temple)

श्री पद्मनाभ स्वामी मंदिर में परिवेश के लिए पुरुषों को धोती तथा महिलाओं का साड़ी पहनना अनिवार्य है। मंदिर में प्रवेश के लिए परिधान मंदिर के ही समीप किराये पर दिए जाते हैं। इसके अलावा इस मंदिर की यह खासियत भी है कि इसमें केवल हिन्दू धर्म के लोग ही प्रवेश कर सकते हैं।

मंदिर में होने वाले वार्षिक उत्सव (Annual Festival of The Temple)

मंदिर में एक पवित्र कुंड और दो मंडप है, जो इस मंदिर के महत्त्व को और अधिक बढ़ा देता है। इस मंदिर में हर वर्ष दो महोत्सव मनाए जाते हैं। यह त्यौहार पंकुनी(मार्च-अप्रैल) और ऐप्पसी (अक्टूबर-नवंबर) महीने में मनाया जाता है। इस दौरान यहां भक्तों की भारी भीड़ देखने को मिलती है।


 

shree padmanaabh svaamee mandir keral raajy ke tiruanantapuram shahar mein sthit hai. yah mandir jagat paalak bhagavaan vishnu ko samarpit hai. yah mandir keral ke prasiddh dhaarmik sthaanon mein se ek hai. maanyata hai ki desh mein bhagavaan vishnu ko samarpit 108 desham hai aur shree padmanaabh svaamee mandir bhee unamen se ek hain.

shree padmanaabh svaamee mandir ka dhaarmik mahattv (shree padmanaabh mandir ka dhaarmik mahatv)

pauraanik katha ke anusaar bhagavaan vishnu kee sabase pahalee pratima isee sthaan se milee thee. jisake baad is sthaan par bhagavaan ka mandir banava diya gaya. vah doosaree ek katha ke anusaar bhagavaan vishnu ne prthvee par prakat hokar teen sthaanon ko vaikunth kaha aur vahee viraajamaan ho gae. unheen teen pramukh sthaanon mein se ek tiruanantapuram hai.
shree padmanaabh svaamee mandir ka punarnirmaan traavanakor ke raaja maartand ne karavaaya tha. is mandir mein dravid evan keral vaastu kala ka mila jula prayog dekhane ko milata hai.

shree padmanaabh svaamee mandir mein sthit moorti
is mandir kee ek pramukh khaasiyat hai yahaan sthit bhagavaan vishnu jee kee moorti. mandir ke garbhagrh mein bhagavaan vishnu kee vishaal moorti viraajamaan hai. is moorti mein bhagavaan vishnu sheshanaag par shayan mudra mein viraajamaan hain. bhagavaan vishnu kee vishraam avastha ko padmanaabhan kaha jaata hai. is moorti ke kaaran hee mandir ka naam padmanaabh svaamee pada. ek aur cheej jo is mandir ko khaas banaatee hai vah hai yahaan maujud tahakhaane. maanyata hai ki mandir ke sanrakshakon ne luteron se dhan kee suraksha ke lie kaee tilismee talagharon mein surakshit rakha hai, jo aaj bhee maujood hai.
mandir mein jaanen ke lie hai vishesh vastr (vishesh kapade mandir mein pravesh karane ke lie)

shree padmanaabh svaamee mandir mein parivesh ke lie purushon ko dhotee tatha mahilaon ka sari pahanana anivaary hai. mandir mein pravesh ke lie paridhaan mandir ke hee sameep kiraaye par die jaate hain. isake alaava is mandir kee yah khaasiyat bhee hai ki isamen keval hindoo dharm ke log hee pravesh kar sakate hain.

mandir mein hone vaale vaarshik utsav (mandir ke vaarshik utsav)

mandir mein ek pavitr kund aur do mandap hai, jo is mandir ke mahattv ko aur adhik badha deta hai. is mandir mein har varsh do mahotsav manae jaate hain. yah tyauhaar pankunee (maarch-aprail) aur aippasee (aktoobar-navambar) maheene mein manaaya jaata hai. is dauraan yahaan bhakton kee bhaaree bheed dekhane ko milatee hai.

Comments

comments