Thursday , 9 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » God Goddess » पापाकुंशा एकादशी

पापाकुंशा एकादशी

papkunsa-ekadasi

papkunsa-ekadasi

Papkunsa Ekadasi'

Papkunsa Ekadasi

पापाकुंशा एकादशी व्रत आश्विन माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी के दिन किया जाता है. पापाकुंशा एकादशी के दिन मनोवांछित फल कि प्राप्ति के लिये श्री विष्णु भगवान कि पूजा की जाती है. इस वर्ष 12 अक्तूबर 2016 को यह व्रत किया जाएगा. एकादशी के पूजने से व्यक्ति को स्वर्ग लोक की प्राप्ति होती है. भगवान विष्णु का भक्ति भाव से पूजन आदि करके भोग लगाया जाता है.

पापाकुंशा एकादशी हजार अश्वमेघ और सौ सूर्ययज्ञ करने के समान फल प्रदान करने वाली होती है. इस एकादशी व्रत के समान अन्य कोई व्रत नहीं है. इसके अतिरिक्त जो व्यक्ति इस एकादशी की रात्रि में जागरण करता है वह स्वर्ग का भागी बनता है. इस एकादशी के दिन दान करने से शुभ फलों की प्राप्ति होती है. श्रद्धालु भक्तों के लिए एकादशी के दिन व्रत करना प्रभु भक्ति के मार्ग में प्रगति करने का माध्यम बनता है.

पापाकुंशा एकादशी व्रत विधि | Papankusha Ekadashi Vrat Katha

एकादशी व्रत में श्री विष्णु जी का पूजन करने के लिए वह धूप, दीप, नारियल और पुष्प का प्रयोग किया जाता है.  एकादशी तिथि के दिन सुबह उठकर स्नान आदि कार्य करने के बाद व्रत का संकल्प लेना चाहिए. संकल्प लेने के बाद घट स्थापना की जाती है और उसके ऊपर श्री विष्णु जी की मूर्ति रखी जाती है.

इसके साथ भगवान विष्णु का स्मरण एवं उनकी कथा का श्रवण किया जाता है. इस व्रत को करने वाले को विष्णु के सहस्त्रनाम का पाठ करना चाहिए. इस व्रत का समापन एकादशी तिथि में नहीं होता है. बल्कि द्वादशी तिथि की प्रात: में ब्राह्माणों को अन्न का दान और दक्षिणा देने के बाद ही यह व्रत समाप्त होता है.

पापांकुशा एकादशी व्रत कथा | Papankusha Ekadashi Vrat Vidhi

पापांकुशा एकादशी व्रत की कथा अनुसार विन्ध्यपर्वत पर महा क्रुर और अत्यधिक क्रोधन नामक एक बहेलिया रहता था. जीवन के अंतिम समय पर यमराज ने उसे अपने दरबार में लाने की आज्ञा दी. दूतोण ने यह बात उसे समय से पूर्व ही बता दी.

मृत्युभय से डरकर वह अंगिरा ऋषि के आश्रम में गया और यमलोक में जाना न पडे इसकी विनती करने लगा. अंगिरा ऋषि ने उसे आश्चिन मास कि शुक्ल पक्ष कि एकादशी के दिन श्री विष्णु जी का पूजन करने की सलाह देते हैं. इस एकादशी का पूजन और व्रत करने से वह अपने सभी पापों से मुक्त होकर विष्णु लोक को गया.

पापांकुशा एकादशी महत्व | Papankusha Ekadashi Importance

पापांकुशा एकादशी व्रत में यथासंभव दान व दक्षिणा देनी चाहिए. पूर्ण श्रद्धा के साथ यह व्रत करने से समस्त पापों से छुटकारा प्राप्त होता है. शास्त्रों में एकादशी के दिन की महत्ता को पूर्ण रुप से प्रतिपादित किया गया है. इस दिन उपवास रखने से पुण्य फलों की प्राप्ति होती है. जो लोग पूर्ण रूप से उपवास नहीं कर सकते उनके लिए मध्याह्न या संध्या काल में एक समय भोजन करके एकादशी व्रत करने की बात कही गई है.

एकादशी जीवों के परम लक्ष्य, भगवद भक्ति, को प्राप्त करने में सहायक होती है. यह दिन प्रभु की पूर्ण श्रद्धा से सेवा करने के लिए अति शुभकारी एवं फलदायक माना गया है. इस दिन व्यक्ति इच्छाओं से मुक्त हो कर यदि शुद्ध मन से भगवान की भक्तिमयी सेवा करता है तो वह अवश्य ही प्रभु की कृपापात्र बनता है.

Wish4Me to English

Paapaakunshaa ekaadashee vrat aashvin maah ke shukl pakṣ kee ekaadashee ke din kiyaa jaataa hai. Paapaakunshaa ekaadashee ke din manovaanchhit fal ki praapti ke liye shree viṣṇau bhagavaan ki poojaa kee jaatee hai. Is varṣ 12 aktoobar 2016 ko yah vrat kiyaa jaa_egaa. Ekaadashee ke poojane se vyakti ko svarg lok kee praapti hotee hai. Bhagavaan viṣṇau kaa bhakti bhaav se poojan aadi karake bhog lagaayaa jaataa hai. Paapaakunshaa ekaadashee hajaar ashvamegh aur sau sooryayagy karane ke samaan fal pradaan karane vaalee hotee hai. Is ekaadashee vrat ke samaan any koii vrat naheen hai. Isake atirikt jo vyakti is ekaadashee kee raatri men jaagaraṇa karataa hai vah svarg kaa bhaagee banataa hai. Is ekaadashee ke din daan karane se shubh falon kee praapti hotee hai. Shraddhaalu bhakton ke lie ekaadashee ke din vrat karanaa prabhu bhakti ke maarg men pragati karane kaa maadhyam banataa hai. Paapaakunshaa ekaadashee vrat vidhi .

vekaadashee vrat men shree viṣṇau jee kaa poojan karane ke lie vah dhoop, deep, naariyal aur puṣp kaa prayog kiyaa jaataa hai. Ekaadashee tithi ke din subah uṭhakar snaan aadi kaary karane ke baad vrat kaa snkalp lenaa chaahie. Snkalp lene ke baad ghaṭ sthaapanaa kee jaatee hai aur usake oopar shree viṣṇau jee kee moorti rakhee jaatee hai. Isake saath bhagavaan viṣṇau kaa smaraṇa evn unakee kathaa kaa shravaṇa kiyaa jaataa hai. Is vrat ko karane vaale ko viṣṇau ke sahastranaam kaa paaṭh karanaa chaahie. Is vrat kaa samaapan ekaadashee tithi men naheen hotaa hai. Balki dvaadashee tithi kee praatah men braahmaaṇaon ko ann kaa daan aur dakṣiṇaa dene ke baad hee yah vrat samaapt hotaa hai. Paapaankushaa ekaadashee vrat kathaa .

Papankusha ekadashi rat vidhi

paapaankushaa ekaadashee vrat kee kathaa anusaar vindhyaparvat par mahaa krur aur atyadhik krodhan naamak ek baheliyaa rahataa thaa. Jeevan ke antim samay par yamaraaj ne use apane darabaar men laane kee aagyaa dee. Dootoṇa ne yah baat use samay se poorv hee bataa dee. Mrityubhay se ḍaarakar vah angiraa rriṣi ke aashram men gayaa aur yamalok men jaanaa n paḍae isakee vinatee karane lagaa. Angiraa rriṣi ne use aashchin maas ki shukl pakṣ ki ekaadashee ke din shree viṣṇau jee kaa poojan karane kee salaah dete hain. Is ekaadashee kaa poojan aur vrat karane se vah apane sabhee paapon se mukt hokar viṣṇau lok ko gayaa. Paapaankushaa ekaadashee mahatv .

Papankusha ekadashi importance

paapaankushaa ekaadashee vrat men yathaasnbhav daan v dakṣiṇaa denee chaahie. Poorṇa shraddhaa ke saath yah vrat karane se samast paapon se chhuṭakaaraa praapt hotaa hai. Shaastron men ekaadashee ke din kee mahattaa ko poorṇa rup se pratipaadit kiyaa gayaa hai. Is din upavaas rakhane se puṇay falon kee praapti hotee hai. Jo log poorṇa roop se upavaas naheen kar sakate unake lie madhyaahn yaa sndhyaa kaal men ek samay bhojan karake ekaadashee vrat karane kee baat kahee ga_ii hai. Ekaadashee jeevon ke param lakṣy, bhagavad bhakti, ko praapt karane men sahaayak hotee hai. Yah din prabhu kee poorṇa shraddhaa se sevaa karane ke lie ati shubhakaaree evn faladaayak maanaa gayaa hai. Is din vyakti ichchhaa_on se mukt ho kar yadi shuddh man se bhagavaan kee bhaktimayee sevaa karataa hai to vah avashy hee prabhu kee kripaapaatr banataa hai.

Comments

comments