Monday , 6 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » परंपरा का निर्माण

परंपरा का निर्माण

parampara-ka-nirmaan-2

parampara-ka-nirmaan-2

brahmaजीवन के साथ आयुर्वेद का गहरा संबंध होने के कारण पितामह ब्रह्मा ने आयुर्वेद के पठन – पाठन की परंपरा स्थापित की । ब्रह्मा जी ने इस चिकित्सा – शास्त्र को अपने मानसपुत्र दक्ष को और दक्ष ने अश्विनीकुमारों को तथा अश्विनीकुमारों ने देवराज इंद्र को पढ़ाया । इस तरह यह परंपरा आजतक चलती चली आ रही है । यद्यपि आयुर्वेद के मूल आविर्भावक और प्रथम ग्रंथकार पितामह ब्रह्मा हैं, फिर भी इन्होंने इसके प्रयोग का पूरा भार अश्विनीकुमारों पर डाल दिया तथापि इनके अंतरंग जीवन में एक ऐसी घटना घटी कि इनको भी औषध का प्रयोग करना पड़ा – ब्रह्मा जी की एक पुत्री का नाम सीतासावित्री था । पितामह की यह लाडली कन्या थी । वे चाहते थे कि इसका विवाह सोम से हो, किंतु सोम का आकर्षण सीतासावित्री पर न था । इधर पिता की तरह पुत्री भी सोम को ही चाहती थी । परंतु अपने ऊपर सोम का आकर्षण न देखकर बेचारी चिंतित रहने लगी । अंत में उसने पिता से इसके लिए सहायता मांगी । तब ब्रह्मा ने अपने औषध – ज्ञान का उपयोग किया । स्थागर नामक वनस्पति का उपयोग उन्होंने इस कार्य में किया । यह औषधि बहुत ही सुगंधित और आकर्षण भी होती है । इसमें वशीकरण की छिपी हुई बहुत बड़ी शक्ति है । पिता ने इस स्थागर वनस्पति को घिसकर और अभिमंत्रितकर पुत्री को टीका की तरह लगा दिया । इसके बाद पुत्री को सोम के पास भेज दिया । वनस्पति ने अपना अद्भुत चमत्कार दिखाया । सोम जो सीतासावित्री से खिंचा – खिंचा रहता था, इसपर न्योछावर हो गया । इसे जीवनसंगिनी बनाने के लिए उसने आकाश – पाताल एक कर दिया । ब्रह्मा जी यही चाहते थे । स्थागर वनस्पति उनकी और उनकी पुत्री की सारी चिंता मिटा दी । यह तो पितामह ब्रह्माजी के द्वारा वनस्पति प्रयोग की बात हुई, पितामह कभी – कभी किसी दवा का प्रयोग न कर रोग के नाश का उपाय भी बता दिया करते थे । एक बार अग्निदेव को अजीर्ण – रोग हो गया, किसी का हविष्य ग्रहण करने की उनकी इच्छा ही नहीं होती थी । शरीर में विवर्णता आ गई,कांति फीकी पड़ गयी । पहले की तरह वे प्रकाशित भी नहीं हो रहे थे । धीरे – धीरे उनके मन पर ग्लानि ने अधिकार जमा लिया । अग्निदेव समझ गए कि हमें रोग लग गया है, इसकी चिकित्सा होनी चाहिए । चिकित्सा के लिए वे ब्रह्मा जी के पास पहुंचे । अग्नि देव ने पितामह ब्रह्मा से अपनी अरुचि – रोग होने की बात बतायी । पितामह ब्रह्मा ने सबसे पहले निदान करते हुए बताया – ‘महाभाग ! तुमने बारह वर्षों तक वसुधारा की आहुति के रूप में प्राप्त हुए घृत का निरंतर उपयोग किया है, इसी से तुम्हें यह अरुचि – रोग हो गया है । तुम चिंता न करो, स्वस्थ हो जाओगे ।’ मैं तुम्हारी अरुचि नष्ट कर दूंगा । तुम खाण्डववन को जलाओ, वहां कुछ ऐसी वस्तुएं हैं, जो तुम्हारे लिए औषधि बन जाएंगी और तुम स्वस्थ हो जाओगे । ब्रह्मा जी ने जिन प्रणियों की सृष्टि की, उन्हें चार श्रेणियों में बांटा गया है – 1) उद्भिज्ज, 2) स्वेदज, 3) अण्डज और 4) जरायुज । इन चार श्रेणियों के प्राणियों के उपयोग में आने वाले औषधों का ब्रह्मा जी ने अपने आयुर्वेद – ग्रंथ में वर्णन किया । वनस्पतियों के लिए वृक्षायुर्वेद, जंतुओं के लिए तिर्यगायुर्वेद, पशुओं के लिए गवायुर्वेद, अश्वायुर्वेद, हस्त्यायुर्वेद आदि तथा मनुष्यों और देवता आदि के लिए आयुर्वेद बनाया । इस तरह प्राणियों के खाने – पीने और स्वस्थ रहने के लिए उनकी उत्पत्ति के पहले ही लोकपितामह ब्रह्मा ने व्यवस्था कर दी थी ।


 

jeevan ke saath aayurved ka gahara sambandh hone ke kaaran pitaamah brahma ne aayurved ke pathan – paathan kee parampara sthaapit kee . brahma jee ne is chikitsa – shaastr ko apane maanasaputr daksh ko aur daksh ne ashvineekumaaron ko tatha ashvineekumaaron ne devaraaj indr ko padhaaya . is tarah yah parampara aajatak chalatee chalee aa rahee hai . yadyapi aayurved ke mool aavirbhaavak aur pratham granthakaar pitaamah brahma hain, phir bhee inhonne isake prayog ka poora bhaar ashvineekumaaron par daal diya tathaapi inake antarang jeevan mein ek aisee ghatana ghatee ki inako bhee aushadh ka prayog karana pada – brahma jee kee ek putree ka naam seetaasaavitree tha . pitaamah kee yah laadalee kanya thee . ve chaahate the ki isaka vivaah som se ho, kintu som ka aakarshan seetaasaavitree par na tha . idhar pita kee tarah putree bhee som ko hee chaahatee thee . parantu apane oopar som ka aakarshan na dekhakar bechaaree chintit rahane lagee . ant mein usane pita se isake lie sahaayata maangee . tab brahma ne apane aushadh – gyaan ka upayog kiya . sthaagar naamak vanaspati ka upayog unhonne is kaary mein kiya . yah aushadhi bahut hee sugandhit aur aakarshan bhee hotee hai . isamen vasheekaran kee chhipee huee bahut badee shakti hai . pita ne is sthaagar vanaspati ko ghisakar aur abhimantritakar putree ko teeka kee tarah laga diya . isake baad putree ko som ke paas bhej diya . vanaspati ne apana adbhut chamatkaar dikhaaya . som jo seetaasaavitree se khincha – khincha rahata tha, isapar nyochhaavar ho gaya . ise jeevanasanginee banaane ke lie usane aakaash – paataal ek kar diya . brahma jee yahee chaahate the . sthaagar vanaspati unakee aur unakee putree kee saaree chinta mita dee . yah to pitaamah brahmaajee ke dvaara vanaspati prayog kee baat huee, pitaamah kabhee – kabhee kisee dava ka prayog na kar rog ke naash ka upaay bhee bata diya karate the . ek baar agnidev ko ajeern – rog ho gaya, kisee ka havishy grahan karane kee unakee ichchha hee nahin hotee thee . shareer mein vivarnata aa gaee,kaanti pheekee pad gayee . pahale kee tarah ve prakaashit bhee nahin ho rahe the . dheere – dheere unake man par glaani ne adhikaar jama liya . agnidev samajh gae ki hamen rog lag gaya hai, isakee chikitsa honee chaahie . chikitsa ke lie ve brahma jee ke paas pahunche . agni dev ne pitaamah brahma se apanee aruchi – rog hone kee baat bataayee . pitaamah brahma ne sabase pahale nidaan karate hue bataaya – ‘mahaabhaag ! tumane baarah varshon tak vasudhaara kee aahuti ke roop mein praapt hue ghrt ka nirantar upayog kiya hai, isee se tumhen yah aruchi – rog ho gaya hai . tum chinta na karo, svasth ho jaoge .’ main tumhaaree aruchi nasht kar doonga . tum khaandavavan ko jalao, vahaan kuchh aisee vastuen hain, jo tumhaare lie aushadhi ban jaengee aur tum svasth ho jaoge . brahma jee ne jin praniyon kee srshti kee, unhen chaar shreniyon mein baanta gaya hai – 1) udbhijj, 2) svedaj, 3) andaj aur 4) jaraayuj . in chaar shreniyon ke praaniyon ke upayog mein aane vaale aushadhon ka brahma jee ne apane aayurved – granth mein varnan kiya . vanaspatiyon ke lie vrkshaayurved, jantuon ke lie tiryagaayurved, pashuon ke lie gavaayurved, ashvaayurved, hastyaayurved aadi tatha manushyon aur devata aadi ke lie aayurved banaaya . is tarah praaniyon ke khaane – peene aur svasth rahane ke lie unakee utpatti ke pahale hee lokapitaamah brahma ne vyavastha kar dee thee .

Comments

comments