Sunday , 12 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » पितृभक्त बालक पिप्पलाद

पितृभक्त बालक पिप्पलाद

pitrbhakt-baalak-pippalaad

pitrbhakt-baalak-pippalaad

85

वृत्रासुर ने स्वर्ग पर अधिकार कर लिया था। इन्द्र देवताओं के साथ स्वर्ग छोड़कर भाग गये थे। देवताओं के कोई भी अस्त्र-शस्त्र वृत्रासुर को मार नहीं सकते थे। अन्त में इन्द्र ने तपस्या तथा प्रार्थना करके भगवान् को प्रसन्न किया। भगवान् ने बताया कि महर्षि दधीचि की हड्डियों से विश्वकर्मा वज्र बनावे तो उससे वृत्रासुर मर सकता है। महर्षि दधीचि बड़े भारी तपस्वी थे। उनकी तपस्या के प्रभाव से उनकी आज्ञा सभी जीव-जन्तु तथा वृक्ष तक मानते थे। उन तेजस्वी ऋषिको देवता मार तो सकते नहीं थे, उन्होंने जाकर उनकी हड्डियां मांगीं।

महर्षि दधीचि ने कहा—‘ यह शरीर तो एक दिन नष्ट ही होगा। मरना तो सबको पड़ेगा ही, किसी का उपकार करके मृत्यु हो, शरीर किसी की भलाई में लग जाय; इससे अच्छी भला और क्या बात होगी। मैं योग से अपना शरीर छोड़ देता हूं। आप लोग हड्डियां ले लें।’

महर्षि दधीचि ने योग से शरीर छोड़ दिया। वे मरकर मुक्त हो गये। उनके शरीर की हड्डियों से विश्वकर्मा  को स्वर्ग मिल गया।

महर्षि दधीचि की स्त्री का नाम प्रातिथेयी था। इनके एक पुत्र भी थे। महर्षि दधीचि के पुत्र भी बड़े तपस्वी थे। वे पीपल के फल (गोदा) खाकर रहते थे, इससे उनका नाम पिप्पलाद पड़ गया था। पिप्पलाद ने जब सुना कि देवताओं को हड्डियां देने के कारण उनके पिता मरे तो पिप्पलाद को बड़ा क्रोध आया। उन्होंने देवताओं से बदला लेने का विचार किया।

पिप्पलाद देवताओं से बदला लेने के लिये भगवान् शंकर जी की उपासना और तपस्या करने लगे। उन्होंने बहुत दिनों तक तपस्या की और तब शंकरजी उनपर प्रसन्न होकर प्रकट हुए। शंकर जी ने उनसे वरदान मांगने को कहा, पिप्पलाद ने कहा —‘आप मुझे ऐसी शक्ति दीजिये कि मैं अपने पिता के मारनेवालों को नष्ट कर दूं।’

शंकरजी ने एक बड़ी भयानक राक्षसी उत्पन्न करके पिप्पलाद को दे दी। राक्षसी ने पिप्पलाद से पूछा—‘ आप आज्ञा दें, मैं क्या करुं?’

पिप्पलाद ने कहा—‘तुम सब देवताओं को खा लो।’ वह राक्षसी अपना बड़ा भारी मुख फाड़कर पिप्पलाद को ही खाने दौड़ी। डरकर पिप्पलाद ने पूछा—‘तू मुझे क्यों खाने आती है?’

राक्षसी बोली —‘सब जीवों के अंगो में उन अंगो के देवता रहते हैं। जैसे नेत्रों में सूर्य, हाथो में इन्द्र, जीभ में वरुण। इसी प्रकार दूसरे देवता भी दूसरे अंगों में रहते हैं। स्वर्ग देवता तो दूर हैं, पहले जो लोग पास हैं, उन्हें तो खा लूं। मेरे सबसे पास तो तुम्हीं हो।’

पिप्पलाद बहुत डरे और भगवान् शंकरजी की शरण में गये। शंकरजी ने पिप्पलाद से कहा—‘बेटा! क्रोध बहुत बुरा होता है। क्रोध के वश में न होने से बहुत पाप होते हैं। देखो, मैं यदि इस राक्षसी को तुम्हें खाने से रोक भी दूं, तो यह दूसरे सब जीवों को खा जायगी। तुम्हें ही सारे संसार को मारने का पाप लगेगा। मान लो कि यह स्वर्ग के देवताओं को ही मार डाले तब भी सारे संसार का नाश हो जायगा। आँखों के देवता सूर्य हैं, सूर्य न रहेंगे तो सब लोग अन्धे हो जायंगे। हाथ के देवता इन्द्र हैं, इन्द्र न रहेंगे तो कोई हाथ हिला ही नहीं सकेगा। इसी प्रकार जिस अंग के जो देवता हैं, उस देवता की शक्ति से ही जीवों के वह अंग काम करते हैं। देवता न रहेंगे तो तुम्हारा भी कोई अंग काम नहीं करेगा। इसलिये तुम देवताओंपर क्रोध मत करो। देवताओं ने तुम्हारे पिता से उनकी हड्डियां भिक्षा में मांगी थी। तुम्हारे पिता इतने बड़े दानी और उपकारी थे कि उन्होंने अपनी हड्डियां भी दे दीं। तुम इतने बड़े महात्मा के पुत्र हो। अपने पिता के सामने भिखारी बनने वालों पर तुम्हें क्रोध नहीं करना चाहिये।’

भगवान् शंकर का उपदेश सुनकर पिप्पलाद का क्रोध दूर हो गया। उन्होंने कहा—‘भगवान्! आपकी आज्ञा मानकर मैं देवताओं को क्षमा करता हूं।’ राक्षसी भी चली गयी।

पिप्पलाद की क्षमा से शंकर जी ने प्रसन्न होकर उन्हें वरदान दिया कि वे जहां तपस्या करते थे; वह स्थान पिप्पलतीर्थ हो जायगा और उस तीर्थ में स्नान करने वाले सब पापों से छूटकर भगवान् के धाम जायंगे।

पिप्पलाद की इच्छा अपने पिता महर्षि दधीचि का दर्शन करने की थी। देवताओं की प्रार्थना से ऋषियों के लोक से महर्षि दधीचि और पिप्पलाद की माता प्रातिथेयीजी विमान में बैठकर वहां आये और उन्होंने पिप्पलाद को आशीर्वाद दिया।

बालक पिप्पलाद आगे बड़े भारी विद्वान् और ब्रह्मर्षि हुए। इनका वर्णन प्रश्नोपनिषद् और शिवपुराण में भी आता है।

wish4me in English

vrtraasur ne svarg par adhikaar kar liya tha. indr devataon ke saath svarg chhodakar bhaag gaye the. devataon ke koee bhee astr-shastr vrtraasur ko maar nahin sakate the. ant mein indr ne tapasya tatha praarthana karake bhagavaan ko prasann kiya. bhagavaan ne bataaya ki maharshi dadheechi kee haddiyon se vishvakarma vajr banaave to usase vrtraasur mar sakata hai. maharshi dadheechi bade bhaaree tapasvee the. unakee tapasya ke prabhaav se unakee aagya sabhee jeev-jantu tatha vrksh tak maanate the. un tejasvee rshiko devata maar to sakate nahin the, unhonne jaakar unakee haddiyaan maangeen.

maharshi dadheechi ne kaha—‘ yah shareer to ek din nasht hee hoga. marana to sabako padega hee, kisee ka upakaar karake mrtyu ho, shareer kisee kee bhalaee mein lag jaay; isase achchhee bhala aur kya baat hogee. main yog se apana shareer chhod deta hoon. aap log haddiyaan le len.’

maharshi dadheechi ne yog se shareer chhod diya. ve marakar mukt ho gaye. unake shareer kee haddiyon se vishvakarma  ko svarg mil gaya.

maharshi dadheechi kee stree ka naam praatitheyee tha. inake ek putr bhee the. maharshi dadheechi ke putr bhee bade tapasvee the. ve peepal ke phal (goda) khaakar rahate the, isase unaka naam pippalaad pad gaya tha. pippalaad ne jab suna ki devataon ko haddiyaan dene ke kaaran unake pita mare to pippalaad ko bada krodh aaya. unhonne devataon se badala lene ka vichaar kiya.

pippalaad devataon se badala lene ke liye bhagavaan shankar jee kee upaasana aur tapasya karane lage. unhonne bahut dinon tak tapasya kee aur tab shankarajee unapar prasann hokar prakat hue. shankar jee ne unase varadaan maangane ko kaha, pippalaad ne kaha —‘aap mujhe aisee shakti deejiye ki main apane pita ke maaranevaalon ko nasht kar doon.’

shankarajee ne ek badee bhayaanak raakshasee utpann karake pippalaad ko de dee. raakshasee ne pippalaad se poochha—‘ aap aagya den, main kya karun?’

pippalaad ne kaha—‘tum sab devataon ko kha lo.’ vah raakshasee apana bada bhaaree mukh phaadakar pippalaad ko hee khaane daudee. darakar pippalaad ne poochha—‘too mujhe kyon khaane aatee hai?’

raakshasee bolee —‘sab jeevon ke ango mein un ango ke devata rahate hain. jaise netron mein soory, haatho mein indr, jeebh mein varun. isee prakaar doosare devata bhee doosare angon mein rahate hain. svarg devata to door hain, pahale jo log paas hain, unhen to kha loon. mere sabase paas to tumheen ho.’

pippalaad bahut dare aur bhagavaan shankarajee kee sharan mein gaye. shankarajee ne pippalaad se kaha—‘beta! krodh bahut bura hota hai. krodh ke vash mein na hone se bahut paap hote hain. dekho, main yadi is raakshasee ko tumhen khaane se rok bhee doon, to yah doosare sab jeevon ko kha jaayagee. tumhen hee saare sansaar ko maarane ka paap lagega. maan lo ki yah svarg ke devataon ko hee maar daale tab bhee saare sansaar ka naash ho jaayaga. aankhon ke devata soory hain, soory na rahenge to sab log andhe ho jaayange. haath ke devata indr hain, indr na rahenge to koee haath hila hee nahin sakega. isee prakaar jis ang ke jo devata hain, us devata kee shakti se hee jeevon ke vah ang kaam karate hain. devata na rahenge to tumhaara bhee koee ang kaam nahin karega. isaliye tum devataompar krodh mat karo. devataon ne tumhaare pita se unakee haddiyaan bhiksha mein maangee thee. tumhaare pita itane bade daanee aur upakaaree the ki unhonne apanee haddiyaan bhee de deen. tum itane bade mahaatma ke putr ho. apane pita ke saamane bhikhaaree banane vaalon par tumhen krodh nahin karana chaahiye.’

bhagavaan shankar ka upadesh sunakar pippalaad ka krodh door ho gaya. unhonne kaha—‘bhagavaan! aapakee aagya maanakar main devataon ko kshama karata hoon.’ raakshasee bhee chalee gayee.

pippalaad kee kshama se shankar jee ne prasann hokar unhen varadaan diya ki ve jahaan tapasya karate the; vah sthaan pippalateerth ho jaayaga aur us teerth mein snaan karane vaale sab paapon se chhootakar bhagavaan ke dhaam jaayange.

pippalaad kee ichchha apane pita maharshi dadheechi ka darshan karane kee thee. devataon kee praarthana se rshiyon ke lok se maharshi dadheechi aur pippalaad kee maata praatitheyeejee vimaan mein baithakar vahaan aaye aur unhonne pippalaad ko aasheervaad diya.

baalak pippalaad aage bade bhaaree vidvaan aur brahmarshi hue. inaka varnan prashnopanishad aur shivapuraan mein bhee aata hai.

Comments

comments