Thursday , 9 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » राजा भोज और सत्य (Raja Bhoj and truth)

राजा भोज और सत्य (Raja Bhoj and truth)

raja-bhoj-and-truth

raja-bhoj-and-truth

Raja Bhoj and truth

Raja Bhoj and truth

एक दिन राजा भोज गहरी निद्रा में सोये हुए थे। उन्हें उनके स्वप्न में एक अत्यंत तेजस्वी वृद्ध पुरुष के दर्शन हुए।

राजन ने उनसे पुछा- “महात्मन! आप कौन हैं?”

वृद्ध ने कहा- “राजन मैं सत्य हूँ और तुझे तेरे कार्यों का वास्तविक रूप दिखाने आया हूँ। मेरे पीछे-पीछे चल आ और अपने कार्यों की वास्तविकता को देख!”

राजा भोज उस वृद्ध के पीछे-पीछे चल दिए। राजा भोज बहुत दान, पुण्य, यज्ञ, व्रत, तीर्थ, कथा-कीर्तन करते थे, उन्होंने अनेक तालाब, मंदिर, कुँए, बगीचे आदि भी बनवाए थे। राजा के मन में इन कार्यों के कारण अभिमान आ गया था। वृद्ध पुरुष के रूप में आये सत्य ने राजा भोज को अपने साथ उनकी कृतियों के पास ले गए। वहाँ जैसे ही सत्य ने पेड़ों को छुआ, सब एक-एक करके सूख गए, बागीचे बंज़र भूमि में बदल गए । राजा इतना देखते ही आश्चर्यचकित रह गया।। फिर सत्य राजा को मंदिर ले गया। सत्य ने जैसे ही मंदिर को छुआ, वह खँडहर में बदल गया। वृद्ध पुरुष ने राजा के यज्ञ, तीर्थ, कथा, पूजन, दान आदि के लिए बने स्थानों, व्यक्तियों, आदि चीजों को ज्यों ही छुआ, वे सब राख हो गए।।राजा यह सब देखकर विक्षिप्त-सा हो गया।

सत्य ने कहा-“ राजन! यश की इच्छा के लिए जो कार्य किये जाते हैं, उनसे केवल अहंकार की पुष्टि होती है, धर्म का निर्वहन नहीं।। सच्ची सदभावना से निस्वार्थ होकर कर्तव्यभाव से जो कार्य किये जाते हैं, उन्हीं का फल पुण्य के रूप मिलता है और यह पुण्य फल का रहस्य है।”

इतना कहकर सत्य अंतर्धान हो गए। राजा ने निद्रा टूटने पर गहरा विचार किया और सच्ची भावना से कर्म करना प्रारंभ किया ,जिसके बल पर उन्हें ना सिर्फ यश-कीर्ति की प्राप्ति हुए बल्कि उन्होंने बहुत पुण्य भी कमाया।

मित्रों , सच ही तो है , सिर्फ प्रसिद्धि और आदर पाने के नज़रिये से किया गया काम पुण्य नहीं देता। हमने देखा है कई बार लोग सिर्फ अखबारों और न्यूज़ चैनल्स पर आने के लिए झाड़ू उठा लेते हैं या किसी गरीब बस्ती का दौरा कर लेते हैं , ऐसा करना पुण्य नहीं दे सकता, असली पुण्य तो हृदय से की गयी सेवा से ही उपजता है , फिर वो चाहे हज़ारों लोगों की की गयी हो या बस किसी एक व्यक्ति की।

wish4me to English

ek din raaja bhoj gaharee nidra mein soye hue the. unhen unake svapn mein ek atyant tejasvee vrddh purush ke darshan hue.

raajan ne unase puchha- “mahaatman! aap kaun hain?”

vrddh ne kaha- “raajan main saty hoon aur tujhe tere kaaryon ka vaastavik roop dikhaane aaya hoon. mere peechhe-peechhe chal aa aur apane kaaryon kee vaastavikata ko dekh!”

raaja bhoj us vrddh ke peechhe-peechhe chal die. raaja bhoj bahut daan, puny, yagy, vrat, teerth, katha-keertan karate the, unhonne anek taalaab, mandir, kune, bageeche aadi bhee banavae the. raaja ke man mein in kaaryon ke kaaran abhimaan aa gaya tha. vrddh purush ke roop mein aaye saty ne raaja bhoj ko apane saath unakee krtiyon ke paas le gae. vahaan jaise hee saty ne pedon ko chhua, sab ek-ek karake sookh gae, baageeche banzar bhoomi mein badal gae . raaja itana dekhate hee aashcharyachakit rah gaya.. phir saty raaja ko mandir le gaya. saty ne jaise hee mandir ko chhua, vah khandahar mein badal gaya. vrddh purush ne raaja ke yagy, teerth, katha, poojan, daan aadi ke lie bane sthaanon, vyaktiyon, aadi cheejon ko jyon hee chhua, ve sab raakh ho gae..raaja yah sab dekhakar vikshipt-sa ho gaya.

saty ne kaha-“ raajan! yash kee ichchha ke lie jo kaary kiye jaate hain, unase keval ahankaar kee pushti hotee hai, dharm ka nirvahan nahin.. sachchee sadabhaavana se nisvaarth hokar kartavyabhaav se jo kaary kiye jaate hain, unheen ka phal puny ke roop milata hai aur yah puny phal ka rahasy hai.”

itana kahakar saty antardhaan ho gae. raaja ne nidra tootane par gahara vichaar kiya aur sachchee bhaavana se karm karana praarambh kiya ,jisake bal par unhen na sirph yash-keerti kee praapti hue balki unhonne bahut puny bhee kamaaya.

mitron , sach hee to hai , sirph prasiddhi aur aadar paane ke nazariye se kiya gaya kaam puny nahin deta. hamane dekha hai kaee baar log sirph akhabaaron aur nyooz chainals par aane ke lie jhaadoo utha lete hain ya kisee gareeb bastee ka daura kar lete hain , aisa karana puny nahin de sakata, asalee puny to hrday se kee gayee seva se hee upajata hai , phir vo chaahe hazaaron logon kee kee gayee ho ya bas kisee ek vyakti kee

Comments

comments