Saturday , 11 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » मैं दुनियां की हर मां के चरणों में ये शीश झुकाता हूं

मैं दुनियां की हर मां के चरणों में ये शीश झुकाता हूं

respect-every-mother-of-the-world

respect-every-mother-of-the-world

 

जब आंख खुली तो अम्‍मा की
गोदी का एक सहारा था
उसका नन्‍हा सा आंचल मुझको
भूमण्‍डल से प्‍यारा था

उसके चेहरे की झलक देख
चेहरा फूलों सा खिलता था
उसके स्‍तन की एक बूंद से
मुझको जीवन मिलता था

हाथों से बालों को नोंचा
पैरों से खूब प्रहार किया
फिर भी उस मां ने पुचकारा
हमको जी भर के प्‍यार किया

मैं उसका राजा बेटा था
वो आंख का तारा कहती थी
मैं बनूं बुढापे में उसका
बस एक सहारा कहती थी

उंगली को पकड. चलाया था
पढने विद्यालय भेजा था
मेरी नादानी को भी निज
अन्‍तर में सदा सहेजा था

मेरे सारे प्रश्‍नों का वो
फौरन जवाब बन जाती थी
मेरी राहों के कांटे चुन
वो खुद गुलाब बन जाती थी

मैं बडा हुआ तो कॉलेज से
इक रोग प्‍यार का ले आया
जिस दिल में मां की मूरत थी
वो रामकली को दे आया

शादी की पति से बाप बना
अपने रिश्‍तों में झूल गया
अब करवाचौथ मनाता हूं
मां की ममता को भूल गया

हम भूल गये उसकी ममता
मेरे जीवन की थाती थी
हम भूल गये अपना जीवन
वो अमृत वाली छाती थी

हम भूल गये वो खुद भूखी
रह करके हमें खिलाती थी
हमको सूखा बिस्‍तर देकर
खुद गीले में सो जाती थी

हम भूल गये उसने ही
होठों को भाषा सिखलायी थी
मेरी नीदों के लिए रात भर
उसने लोरी गायी थी

हम भूल गये हर गलती पर
उसने डांटा समझाया था
बच जाउं बुरी नजर से
काला टीका सदा लगाया था

हम बडे हुए तो ममता वाले
सारे बन्‍धन तोड. आए
बंगले में कुत्‍ते पाल लिए
मां को वृद्धाश्रम छोड आए

उसके सपनों का महल गिरा कर
कंकर-कंकर बीन लिए
खुदग़र्जी में उसके सुहाग के
आभूषण तक छीन लिए

हम मां को घर के बंटवारे की
अभिलाषा तक ले आए
उसको पावन मंदिर से
गाली की भाषा तक ले आए

मां की ममता को देख मौत भी
आगे से हट जाती है
गर मां अपमानित होती
धरती की छाती फट जाती है

घर को पूरा जीवन देकर
बेचारी मां क्‍या पाती है
रूखा सूखा खा लेती है
पानी पीकर सो जाती है

जो मां जैसी देवी घर के
मंदिर में नहीं रख सकते हैं
वो लाखों पुण्‍य भले कर लें
इंसान नहीं बन सकते हैं

मां जिसको भी जल दे दे
वो पौधा संदल बन जाता है
मां के चरणों को छूकर पानी
गंगाजल बन जाता है

मां के आंचल ने युगों-युगों से
भगवानों को पाला है
मां के चरणों में जन्‍नत है
गिरिजाघर और शिवाला है

हिमगिरि जैसी उंचाई है
सागर जैसी गहराई है
दुनियां में जितनी खुशबू है
मां के आंचल से आई है

मां कबिरा की साखी जैसी
मां तुलसी की चौपाई है
मीराबाई की पदावली
खुसरो की अमर रूबाई है

मां आंगन की तुलसी जैसी
पावन बरगद की छाया है
मां वेद ऋचाओं की गरिमा
मां महाकाव्‍य की काया है

मां मानसरोवर ममता का
मां गोमुख की उंचाई है
मां परिवारों का संगम है
मां रिश्‍तों की गहराई है

मां हरी दूब है धरती की
मां केसर वाली क्‍यारी है
मां की उपमा केवल मां है
मां हर घर की फुलवारी है

सातों सुर नर्तन करते जब
कोई मां लोरी गाती है
मां जिस रोटी को छू लेती है
वो प्रसाद बन जाती है

मां हंसती है तो धरती का
ज़र्रा-ज़र्रा मुस्‍काता है
देखो तो दूर क्षितिज अंबर
धरती को शीश झुकाता है

माना मेरे घर की दीवारों में
चन्‍दा सी मूरत है
पर मेरे मन के मंदिर में
बस केवल मां की मूरत है

मां सरस्‍वती लक्ष्‍मी दुर्गा
अनुसूया मरियम सीता है
मां पावनता में रामचरित
मानस है भगवत गीता है

अम्‍मा तेरी हर बात मुझे
वरदान से बढकर लगती है
हे मां तेरी सूरत मुझको
भगवान से बढकर लगती है

सारे तीरथ के पुण्‍य जहां
मैं उन चरणों में लेटा हूं
जिनके कोई सन्‍तान नहीं
मैं उन मांओं का बेटा हूं

हर घर में मां की पूजा हो
ऐसा संकल्‍प उठाता हूं
मैं दुनियां की हर मां के
चरणों में ये शीश झुकाता हूं…

In English

jab aankh khulee to am‍ma kee
godee ka ek sahaara tha
usaka nan‍ha sa aanchal mujhako
bhooman‍dal se p‍yaara tha

usake chehare kee jhalak dekh
chehara phoolon sa khilata tha
usake s‍tan kee ek boond se
mujhako jeevan milata tha

haathon se baalon ko noncha
pairon se khoob prahaar kiya
phir bhee us maan ne puchakaara
hamako jee bhar ke p‍yaar kiya

main usaka raaja beta tha
vo aankh ka taara kahatee thee
main banoon budhaape mein usaka
bas ek sahaara kahatee thee

ungalee ko pakad. chalaaya tha
padhane vidyaalay bheja tha
meree naadaanee ko bhee nij
an‍tar mein sada saheja tha

mere saare prash‍non ka vo
phauran javaab ban jaatee thee
meree raahon ke kaante chun
vo khud gulaab ban jaatee thee

main bada hua to kolej se
ik rog p‍yaar ka le aaya
jis dil mein maan kee moorat thee
vo raamakalee ko de aaya

shaadee kee pati se baap bana
apane rish‍ton mein jhool gaya
ab karavaachauth manaata hoon
maan kee mamata ko bhool gaya

ham bhool gaye usakee mamata
mere jeevan kee thaatee thee
ham bhool gaye apana jeevan
vo amrt vaalee chhaatee thee

ham bhool gaye vo khud bhookhee
rah karake hamen khilaatee thee
hamako sookha bis‍tar dekar
khud geele mein so jaatee thee

ham bhool gaye usane hee
hothon ko bhaasha sikhalaayee thee
meree needon ke lie raat bhar
usane loree gaayee thee

ham bhool gaye har galatee par
usane daanta samajhaaya tha
bach jaun buree najar se
kaala teeka sada lagaaya tha

ham bade hue to mamata vaale
saare ban‍dhan tod. aae
bangale mein kut‍te paal lie
maan ko vrddhaashram chhod aae

usake sapanon ka mahal gira kar
kankar-kankar been lie
khudagarjee mein usake suhaag ke
aabhooshan tak chheen lie

ham maan ko ghar ke bantavaare kee
abhilaasha tak le aae
usako paavan mandir se
gaalee kee bhaasha tak le aae

maan kee mamata ko dekh maut bhee
aage se hat jaatee hai
gar maan apamaanit hotee
dharatee kee chhaatee phat jaatee hai

ghar ko poora jeevan dekar
bechaaree maan k‍ya paatee hai
rookha sookha kha letee hai
paanee peekar so jaatee hai

jo maan jaisee devee ghar ke
mandir mein nahin rakh sakate hain
vo laakhon pun‍ya bhale kar len
insaan nahin ban sakate hain

maan jisako bhee jal de de
vo paudha sandal ban jaata hai
maan ke charanon ko chhookar paanee
gangaajal ban jaata hai

maan ke aanchal ne yugon-yugon se
bhagavaanon ko paala hai
maan ke charanon mein jan‍nat hai
girijaaghar aur shivaala hai

himagiri jaisee unchaee hai
saagar jaisee gaharaee hai
duniyaan mein jitanee khushaboo hai
maan ke aanchal se aaee hai

maan kabira kee saakhee jaisee
maan tulasee kee chaupaee hai
meeraabaee kee padaavalee
khusaro kee amar roobaee hai

maan aangan kee tulasee jaisee
paavan baragad kee chhaaya hai
maan ved rchaon kee garima
maan mahaakaav‍ya kee kaaya hai

maan maanasarovar mamata ka
maan gomukh kee unchaee hai
maan parivaaron ka sangam hai
maan rish‍ton kee gaharaee hai

maan haree doob hai dharatee kee
maan kesar vaalee k‍yaaree hai
maan kee upama keval maan hai
maan har ghar kee phulavaaree hai

saaton sur nartan karate jab
koee maan loree gaatee hai
maan jis rotee ko chhoo letee hai
vo prasaad ban jaatee hai

maan hansatee hai to dharatee ka
zarra-zarra mus‍kaata hai
dekho to door kshitij ambar
dharatee ko sheesh jhukaata hai

maana mere ghar kee deevaaron mein
chan‍da see moorat hai
par mere man ke mandir mein
bas keval maan kee moorat hai

maan saras‍vatee laksh‍mee durga
anusooya mariyam seeta hai
maan paavanata mein raamacharit
maanas hai bhagavat geeta hai

am‍ma teree har baat mujhe
varadaan se badhakar lagatee hai
he maan teree soorat mujhako
bhagavaan se badhakar lagatee hai

saare teerath ke pun‍ya jahaan
main un charanon mein leta hoon
jinake koee san‍taan nahin
main un maanon ka beta hoon

har ghar mein maan kee pooja ho
aisa sankal‍pa uthaata hoon
main duniyaan kee har maan ke
charanon mein ye sheesh jhukaata hoon…

Comments

comments