Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Story for Children] » सड़क यहीं रहती है | शेखचिल्ली के कारनामें

सड़क यहीं रहती है | शेखचिल्ली के कारनामें

sadak-yahi-rahti-h-sekhchilli-k-karname

sadak-yahi-rahti-h-sekhchilli-k-karname

sekhchili

sekhchili

क दिन शेखचिल्ली कुछ लड़कों के साथ, अपने कस्बे के बाहर एक पुलिया पर बैठा था। तभी एक सज्जन शहर से आए और लड़कों से पूछने लगे, “क्यों भाई, शेख साहब के घर को कौन-सी सड़क गई है ?”

शेखचिल्ली के पिता को सब ‘शेख साहब’ कहते थे । उस गाँव में वैसे तो बहुत से शेख थे, परंतु ‘शेख साहब’ चिल्ली के अब्बाजान ही कहलाते थे । वह व्यक्ति उन्हीं के बारे में पूछ रहा था। वह शेख साहब के घर जाना चाहता था ।

परन्तु उसने पूछा था कि शेख साहब के घर कौन-सा रास्ता जाता है। शेखचिल्ली को मजाक सूझा । उसने कहा, “क्या आप यह पूछ रहे हैं कि शेख साहब के घर कौन-सा रास्ता जाता है ?”

“‘हाँ-हाँ, बिल्कुल !” उस व्यक्ति ने जवाब दिया ।

इससे पहले कि कोई लड़का बोले, शेखचिल्ली बोल पड़ा, “इन तीनों में से कोई भी रास्ता नहीं जाता ।”

“‘तो कौन-सा रास्ता जाता है ?””‘कोई नहीं ।'”

“क्या कहते हो बेटे?’ शेख साहब का यही गाँव है न ? वह इसी गाँव में रहते हैं न ?”

“हाँ, रहते तो इसी गाँव में हैं ।””‘मैं यही तो पूछ रहा हूँ कि कौन-सा रास्ता उनके घर तक जाएगा ”

“साहब, घर तक तो आप जाएंगे ।” शेखचिल्ली ने उत्तर दिया, “यह सड़क और रास्ते यहीं रहते हैं और यहीं पड़े रहेंगे । ये कहीं नहीं जाते। ये बेचारे तो चल ही नहीं सकते। इसीलिए मैंने कहा था कि ये रास्ते, ये सड़कें कहीं नहीं जाती । यहीं पर रहती हैं । मैं शेख साहब का बेटा चिल्ली हूँ । मैं वह रास्ता बताता हूँ, जिस पर चलकर आप घर तक पहुँच जाएंगे ।”

“अरे बेटा चिल्ली !” वह आदमी प्रसन्न होकर बोला, “तू तो वाकई बड़ा समझदार और बुद्धिमान हो गया है । तू छोटा-सा था जब मैं गाँव आया था । मैंने गोद में खिलाया है तुझे । चल बेटा, घर चल मेरे साथ । तेरे अब्बा शेख साहब मेरे लँगोटिया यार हैं । और मैं तेरे रिश्ते की बात करने आया हूँ । मेरी बेटी तेरे लायक़ है । तुम दोनों की जोड़ी अच्छी रहेगी । अब तो मैं तुम दोनों की सगाई करके ही जाऊँगा ।”

शेखचिल्ली उस सज्जन के साथ हो लिया और अपने घर ले गया । कहते हैं, आगे चलकर यही सज्जन शेखचिल्ली के ससुर बने ।

wish4me In English

eka din shekhachillee kuchh ladakon ke saath, apane kasbe ke baahar ek puliya par baitha tha. tabhee ek sajjan shahar se aae aur ladakon se poochhane lage, “kyon bhaee, shekh saahab ke ghar ko kaun-see sadak gaee hai ?”

shekhachillee ke pita ko sab ‘shekh saahab kahate the . us gaanv mein vaise to bahut se shekh the, parantu ‘shekh saahab chillee ke abbaajaan hee kahalaate the . vah vyakti unheen ke baare mein poochh raha tha. vah shekh saahab ke ghar jaana chaahata tha .

parantu usane poochha tha ki shekh saahab ke ghar kaun-sa raasta jaata hai. shekhachillee ko majaak soojha . usane kaha, “kya aap yah poochh rahe hain ki shekh saahab ke ghar kaun-sa raasta jaata hai ?”

“‘haan-haan, bilkul !” us vyakti ne javaab diya .

isase pahale ki koee ladaka bole, shekhachillee bol pada, “in teenon mein se koee bhee raasta nahin jaata .”

“‘to kaun-sa raasta jaata hai ?””‘koee nahin .”

“kya kahate ho bete? shekh saahab ka yahee gaanv hai na ? vah isee gaanv mein rahate hain na ?”

“haan, rahate to isee gaanv mein hain .””‘main yahee to poochh raha hoon ki kaun-sa raasta unake ghar tak jaega ”

“saahab, ghar tak to aap jaenge .” shekhachillee ne uttar diya, “yah sadak aur raaste yaheen rahate hain aur yaheen pade rahenge . ye kaheen nahin jaate. ye bechaare to chal hee nahin sakate. iseelie mainne kaha tha ki ye raaste, ye sadaken kaheen nahin jaatee . yaheen par rahatee hain . main shekh saahab ka beta chillee hoon . main vah raasta bataata hoon, jis par chalakar aap ghar tak pahunch jaenge .”

“are beta chillee !” vah aadamee prasann hokar bola, “too to vaakee bada samajhadaar aur buddhimaan ho gaya hai . too chhota-sa tha jab main gaanv aaya tha . mainne god mein khilaaya hai tujhe . chal beta, ghar chal mere saath . tere abba shekh saahab mere langotiya yaar hain . aur main tere rishte kee baat karane aaya hoon . meree betee tere laayaq hai . tum donon kee jodee achchhee rahegee . ab to main tum donon kee sagaee karake hee jaoonga .”

shekhachillee us sajjan ke saath ho liya aur apane ghar le gaya . kahate hain, aage chalakar yahee sajjan shekhachillee ke sasur bane .

Comments

comments