Wednesday , 22 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » संसारी – व्यवसायी में भेद

संसारी – व्यवसायी में भेद

sansaaree-vyavasaayee-mein-bhed

sansaaree-vyavasaayee-mein-bhed

sansaaree - vyavasaayee mein bhed

sansaaree – vyavasaayee mein bhed

बुद्धि दो तरह की होती है – अव्यवसायात्मिका और व्यवसायात्मिका । जिसमें सांसारिक सुख, भोग, आराम, मान आदि प्राप्त करने का ध्येय होता है, वह बुद्धि ‘अव्यवसायात्मिका’ होती है । जिसमें समता की प्राप्ति करने का, अपना कल्याण करने का ही उद्देश्य रहता है, वह बुद्धि ‘व्यवसायात्मिका’ होती है । अव्यवसायात्मिका बुद्धि अनंत होती है और व्यवसायात्मिका बुद्धि एक होती है । जिसकी बुद्धि अव्यवसायात्मिका होती है, वह स्वयं अव्यवसायी होता है तथा वह संसारी होता है । जिसकी बुद्धि व्यवसायात्मिका होती है, वह स्वयं व्यवसायी होता है तथा वह साधक होता है । समता भी दो तरह की होती है – साधनरूप समता और साध्यरूप समता । साधनरूप समता अंत:करण की होती है और साध्यरूप समता परमात्मस्वरूप की होती है । सिद्धि – असिद्धि, अनुकूलता – प्रतिकूलता आदि में सम रहना अर्थात् अंत:करण में राग – द्वेष का न होना साधनरूप समता है । इस साधनरूप समता से जिस स्वत:सिद्ध समता की प्राप्ति होती है, वह साध्यरूप समता है । अब इन चारों भेदों को यों समझें कि एक संसारी होता है और एक साधक होता है, एक साधन होता है और एक साध्य होता है । भोग भोगना और संग्रह करना – यहीं जिसका उद्देश्य होता है, वह संसारी होता है । उसकी एक व्यवसायात्मिका बुद्धि नहीं होती, प्रत्युत कामनारूपी शाखाओं वाली अनंत बुद्धियां होती हैं । मुझे तो समता की प्राप्ति ही करनी है, चाहे जो हो जाएं – ऐसा निश्चय करने वाले की व्यवसायात्मिका बुद्धि होती है । ऐसा साधक जब व्यवहारक्षेत्र में आता है, तब उसके सामने सिद्धि – असिद्धि, लाभ – हानि, अनुकूल – प्रतिकूल परिस्थिति आदि आने पर उनमें सम रहता है, राग – द्वेष नहीं करता । इस साधनरूप समता से वह संसार से ऊंचा उठ जाता है । साधनरूप समता से स्वत:सिद्ध समरूप परमात्मा की प्राप्ति हो जाती है ।

wish4me to English

buddhi do tarah kee hotee hai – avyavasaayaatmika aur vyavasaayaatmika . jisamen saansaarik sukh, bhog, aaraam, maan aadi praapt karane ka dhyey hota hai, vah buddhi ‘avyavasaayaatmika’ hotee hai . jisamen samata kee praapti karane ka, apana kalyaan karane ka hee uddeshy rahata hai, vah buddhi ‘vyavasaayaatmika’ hotee hai . avyavasaayaatmika buddhi anant hotee hai aur vyavasaayaatmika buddhi ek hotee hai . jisakee buddhi avyavasaayaatmika hotee hai, vah svayan avyavasaayee hota hai tatha vah sansaaree hota hai . jisakee buddhi vyavasaayaatmika hotee hai, vah svayan vyavasaayee hota hai tatha vah saadhak hota hai . samata bhee do tarah kee hotee hai – saadhanaroop samata aur saadhyaroop samata . saadhanaroop samata ant:karan kee hotee hai aur saadhyaroop samata paramaatmasvaroop kee hotee hai . siddhi – asiddhi, anukoolata – pratikoolata aadi mein sam rahana arthaat ant:karan mein raag – dvesh ka na hona saadhanaroop samata hai . is saadhanaroop samata se jis svat:siddh samata kee praapti hotee hai, vah saadhyaroop samata hai . ab in chaaron bhedon ko yon samajhen ki ek sansaaree hota hai aur ek saadhak hota hai, ek saadhan hota hai aur ek saadhy hota hai . bhog bhogana aur sangrah karana – yaheen jisaka uddeshy hota hai, vah sansaaree hota hai . usakee ek vyavasaayaatmika buddhi nahin hotee, pratyut kaamanaaroopee shaakhaon vaalee anant buddhiyaan hotee hain . mujhe to samata kee praapti hee karanee hai, chaahe jo ho jaen – aisa nishchay karane vaale kee vyavasaayaatmika buddhi hotee hai . aisa saadhak jab vyavahaarakshetr mein aata hai, tab usake saamane siddhi – asiddhi, laabh – haani, anukool – pratikool paristhiti aadi aane par unamen sam rahata hai, raag – dvesh nahin karata . is saadhanaroop samata se vah sansaar se ooncha uth jaata hai . saadhanaroop samata se svat:siddh samaroop paramaatma kee praapti ho jaatee hai

Comments

comments