Thursday , 9 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » सर्वप्रथम गणेश का ही पूजन क्यों

सर्वप्रथम गणेश का ही पूजन क्यों

sarvapratham-ganesh-ka-hee-poojan-kyon

sarvapratham-ganesh-ka-hee-poojan-kyon

65भारतीय देव परंपरा में गणेश आदिदेव हैं। हिंदू धर्म में किसी भी शुभकार्य का आरंभ करने के पूर्व गणेश जी पूजा करना आवश्यक माना गया है क्योंकि उन्हें विघ्नहर्ता व ऋद्धि- सिद्धि का स्वामी कहा जाता है। इनके स्मरण, ध्यान, जप, आराधना से कामनाओं की पूर्ति होती है व विघ्न का विनाश होता है। वे एकदंत, विकट, लंबोदर और विनायक है। वे शीघ्र प्रसन्न होने वाले बुद्धि के अधिष्ठाता और साक्षात् प्रणवरूप हैं। गणेश का अर्थ है- गणों का ईश। अर्थात् गणों का स्वामी। किसी पूजा, आराधना, अनुष्ठान व कार्य में गणेश जी के गण कोई बाधा न पहुंचाएं, इसलिए सर्वप्रथम गणेश पूजा करके उसकी कृपा प्राप्त की जाती है । प्रत्येक शुभकार्य के पूर्व श्रीगणेशाय नम: का उच्चारण कर उनकी स्तुति में यह मंत्र बोला जाता है –

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ: ।
निर्विघ्नं कुरुमे देव सर्वकार्येषु सर्वदा ।।
अर्थात्, विशाल आकार और टेढ़ी सूंड वाले करोड़ों सूर्यों के समान तेज वाले हे देव (गणेशजी), मेरे समस्त कार्यों को सदा विघ्नरहित पूर्ण करें।

वेदों में भी गणेश की महत्ता व उनके विघ्नहर्ता स्वरूप की ब्रह्मरूप में स्तुति व आह्वान करते हुए कहा गया है-

गणनां त्वा गणपतिं हवामहे कविं कबीना मुपश्रवस्तमम् ।
ज्येष्ठरांज ब्रह्ममणस्पत आ न: श्रृण्वन्न् तिभि: सीदसादनम् ।।
-ऋग्वेद 2/23/1
गणेश जन आस्थाओं में अमूर्त रूप से जीवित थे, वह आस्थाओं से मूर्तियों में ढल गए। गजमुख, एकदंत लंबोदर आदि नामों और आदिम समाजों के कुल लक्षणों से गणेश को जोड़कर जहां गुप्तों ने अपने साम्राज्य के विस्तार का मार्ग प्रशस्त किया वहीं पूजकों को भी अपनी सीमा विस्तृत करने का अवसर मिला। गणेश सभी वर्गों की आस्थाओं का केंद्र बन गए। एक प्रकार से देखा जाए गणेश व्यापक समाज और समुदाय को एकता के सूत्र में पिरोने का आधार बने, वहीं सभी धर्मों की आस्था का केंद्र बिंदु भी सिद्ध हुए। उनका मंगलकारी व विघ्नहर्ता रूप सभी वर्गों को भाया। इस विराट विस्तार ने ही गणेश को न केवल संपूर्ण भारत बल्कि विदेशों तक पूज्य बना दिया और अब तो विश्व का संभव: ही ऐसा कोई कोना हो जहां गणेश न हों।

वेदों और पुराणों में सर्वत्र प्रथम पूजनीय गणपति बुद्धि, साहस और शक्ति के देवता के रूप में भी देखे जाते हैं। सिंदूर वीरों का अलंकरण माना जाता है। गणेश, हनुमान और भैरव को इसलिए सिंदूर चढ़ाया जाता है। गणपत्य संप्रदाय के एकमात्र आराध्य के रूप में देश में गणेश की उपासना सदियों से प्रचलित है।

आज भी गणपति मंत्र उत्तर से दक्षिण तक सभी मांगलिक कार्यों मे बोले जाते हैं। नगर-नगर में गणेश मंदिर हैं जिनमें सिंदूर, मोदक, दूर्वा और गन्ने चढ़ाए जाते हैं। सिंदूर शौर्य के देवता के रूप में मोदक तृप्ति और समृद्धि के देवता के रूप में तथा दूर्वा और गन्ना हाथी के शरीर वाले देवता के रूप में गणेश को प्रिय माना जाता है ।

wish4me to English

bhaarateey dev parampara mein ganesh aadidev hain. hindoo dharm mein kisee bhee shubhakaary ka aarambh karane ke poorv ganesh jee pooja karana aavashyak maana gaya hai kyonki unhen vighnaharta va rddhi- siddhi ka svaamee kaha jaata hai. inake smaran, dhyaan, jap, aaraadhana se kaamanaon kee poorti hotee hai va vighn ka vinaash hota hai. ve ekadant, vikat, lambodar aur vinaayak hai. ve sheeghr prasann hone vaale buddhi ke adhishthaata aur saakshaat pranavaroop hain. ganesh ka arth hai- ganon ka eesh. arthaat ganon ka svaamee. kisee pooja, aaraadhana, anushthaan va kaary mein ganesh jee ke gan koee baadha na pahunchaen, isalie sarvapratham ganesh pooja karake usakee krpa praapt kee jaatee hai . pratyek shubhakaary ke poorv shreeganeshaay nam: ka uchchaaran kar unakee stuti mein yah mantr bola jaata hai –

vakratund mahaakaay sooryakoti samaprabh: .
nirvighnan kurume dev sarvakaaryeshu sarvada ..
arthaat, vishaal aakaar aur tedhee soond vaale karodon sooryon ke samaan tej vaale he dev (ganeshajee), mere samast kaaryon ko sada vighnarahit poorn karen.

vedon mein bhee ganesh kee mahatta va unake vighnaharta svaroop kee brahmaroop mein stuti va aahvaan karate hue kaha gaya hai-

gananaan tva ganapatin havaamahe kavin kabeena mupashravastamam .
jyeshtharaanj brahmamanaspat aa na: shrrnvann tibhi: seedasaadanam ..
-rgved 2/23/1
ganesh jan aasthaon mein amoort roop se jeevit the, vah aasthaon se moortiyon mein dhal gae. gajamukh, ekadant lambodar aadi naamon aur aadim samaajon ke kul lakshanon se ganesh ko jodakar jahaan gupton ne apane saamraajy ke vistaar ka maarg prashast kiya vaheen poojakon ko bhee apanee seema vistrt karane ka avasar mila. ganesh sabhee vargon kee aasthaon ka kendr ban gae. ek prakaar se dekha jae ganesh vyaapak samaaj aur samudaay ko ekata ke sootr mein pirone ka aadhaar bane, vaheen sabhee dharmon kee aastha ka kendr bindu bhee siddh hue. unaka mangalakaaree va vighnaharta roop sabhee vargon ko bhaaya. is viraat vistaar ne hee ganesh ko na keval sampoorn bhaarat balki videshon tak poojy bana diya aur ab to vishv ka sambhav: hee aisa koee kona ho jahaan ganesh na hon.

vedon aur puraanon mein sarvatr pratham poojaneey ganapati buddhi, saahas aur shakti ke devata ke roop mein bhee dekhe jaate hain. sindoor veeron ka alankaran maana jaata hai. ganesh, hanumaan aur bhairav ko isalie sindoor chadhaaya jaata hai. ganapaty sampradaay ke ekamaatr aaraadhy ke roop mein desh mein ganesh kee upaasana sadiyon se prachalit hai.

aaj bhee ganapati mantr uttar se dakshin tak sabhee maangalik kaaryon me bole jaate hain. nagar-nagar mein ganesh mandir hain jinamen sindoor, modak, doorva aur ganne chadhae jaate hain. sindoor shaury ke devata ke roop mein modak trpti aur samrddhi ke devata ke roop mein tatha doorva aur ganna haathee ke shareer vaale devata ke roop mein ganesh ko priy maana jaata hai .

Comments

comments