Thursday , 9 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » श्री विमलनाथ जी

श्री विमलनाथ जी

shree-vimalanaath-jee

shree-vimalanaath-jee

shree vimalanaath jee

shree vimalanaath jee

विमलनाथ जी जैन धर्म के तेरहवें तीर्थंकर हैं। प्रभु विमलनाथ जी का जन्म माघ मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया को भाद्रपद नक्षत्र में कम्पिला में हुआ। विमलनाथ जी के शरीर का रंग सुवर्ण (सुनहरा) और चिह्न शूकर था।

विमलनाथ जी का जीवन परिचय (Life of Jain Tirthankar Vimalnath Ji)

कालक्रम के अनुसार विमलनाथ जी ने राजपद का दायित्व भी निभाया। दीक्षावन में जामुन वृक्ष के नीचे तीन वर्ष तक ध्यानारूढ़ होकर भगवान, माघ शुक्ल षष्ठी के दिन केवली हो गये। अन्त में सम्मेद शिखर पर जाकर एक माह का योग निरोध कर आठ हजार छह सौ मुनियों के साथ आषाढ़ कृष्ण अष्टमी के दिन निर्वाण प्राप्त किया। ।

भगवान विमलनाथ के चिह्न का महत्त्व (Jain Trithankar Vimalnath Ji – Importance of Symbol)

भगवान विमलनाथ का चिह्न शूकर है, जो मलिनता का प्रतीक है। मलिन वृत्ति वाला पशु विमलनाथ भगवान के चरणों में जाकर आश्रय लेने पर शूकर ‘वराह’ कहलाता है। हिन्दू पुराणों के अनुसार भगवान विष्णु ने भी वराह का रूप धारण कर राक्षसों का अंत किया था। दृढ़ता एवं सहिष्णुता की शिक्षा हमें शुकर के जीवन से मिलती है।

wish4me to English

vimalanaath jee jain dharm ke terahaven teerthankar hain. prabhu vimalanaath jee ka janm maagh maas ke shukl paksh kee trteeya ko bhaadrapad nakshatr mein kampila mein hua. vimalanaath jee ke shareer ka rang suvarn (sunahara) aur chihn shookar tha.

vimalanaath jee ka jeevan parichay (lifai of jain tirthankar vimalnath ji)

kaalakram ke anusaar vimalanaath jee ne raajapad ka daayitv bhee nibhaaya. deekshaavan mein jaamun vrksh ke neeche teen varsh tak dhyaanaaroodh hokar bhagavaan, maagh shukl shashthee ke din kevalee ho gaye. ant mein sammed shikhar par jaakar ek maah ka yog nirodh kar aath hajaar chhah sau muniyon ke saath aashaadh krshn ashtamee ke din nirvaan praapt kiya. .

bhagavaan vimalanaath ke chihn ka mahattv (jain trithankar vimalnath ji – importanchai of symbol)

bhagavaan vimalanaath ka chihn shookar hai, jo malinata ka prateek hai. malin vrtti vaala pashu vimalanaath bhagavaan ke charanon mein jaakar aashray lene par shookar varaah kahalaata hai. hindoo puraanon ke anusaar bhagavaan vishnu ne bhee varaah ka roop dhaaran kar raakshason ka ant kiya tha. drdhata evan sahishnuta kee shiksha hamen shukar ke jeevan se milatee hai.

Comments

comments