Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » Hindu » बाबा बैजनाथ धाम की कथा

बाबा बैजनाथ धाम की कथा

story-of-baba-baijnaath-dhaam

story-of-baba-baijnaath-dhaam

story of baba baijnaath dhaam

story of baba baijnaath dhaam

भगवान शिव के भक्त रावण और बाबा बैजनाथ की कहानी बड़ी निराली है. पौराणिक कथा के अनुसार दशानन रावण भगवान शंकर को प्रसन्न करने के लिए हिमालय पर तप कर रहा था. वह एक-एक करके अपने सिर काटकर शिवलिंग पर चढ़ा रहा था. 9 सिर चढ़ाने के बाद जब रावण 10वां सिर काटने वाला था तो भोलेनाथ ने प्रसन्न होकर उसे दर्शन दिए और उससे वर मांगने को कहा.

तब रावण ने ‘कामना लिंग’ को ही लंका ले जाने का वरदान मांग लिया. रावण के पास सोने की लंका के अलावा तीनों लोकों में शासन करने की शक्ति तो थी ही साथ ही उसने कई देवता, यक्ष और गंधर्वो को कैद कर के भी लंका में रखा हुआ था. इस वजह से रावण ने ये इच्छा जताई कि भगवान शिव कैलाश को छोड़ लंका में रहें. महादेव ने उसकी इस मनोकामना को पूरा तो किया पर साथ ही एक शर्त भी रखी. उन्होंने कहा कि अगर तुमने शिवलिंग को रास्ते में कही भी रखा तो मैं फिर वहीं रह जाऊंगा और नहीं उठूंगा. रावण ने शर्त मान ली.

इधर भगवान शिव की कैलाश छोड़ने की बात सुनते ही सभी देवता चिंतित हो गए. इस समस्या के समाधान के लिए सभी भगवान विष्णु के पास गए. तब श्री हरि ने लीला रची. भगवान विष्णु ने वरुण देव को आचमन के जरिए रावण के पेट में घुसने को कहा. इसलिए जब रावण आचमन करके शिवलिंग को लेकर श्रीलंका की ओर चला तो देवघर के पास उसे लघुशंका लगी.

ऐसे में रावण एक ग्वाले को शिवलिंग देकर लघुशंका करने चला गया. कहते हैं उस बैजू नाम के ग्वाले के रूप में भगवान विष्णु थे. इस वहज से भी यह तीर्थ स्थान बैजनाथ धाम और रावणेश्वर धाम दोनों नामों से विख्यात है. पौराणिक ग्रंथों के मुताबिक रावण कई घंटो तक लघुशंका करता रहा जो आज भी एक तालाब के रूप में देवघर में है. इधर बैजू ने शिवलिंग धरती पर रखकर को स्थापित कर दिया.

जब रावण लौट कर आया तो लाख कोशिश के बाद भी शिवलिंग को उठा नहीं पाया. तब उसे भी भगवान की यह लीला समझ में आ गई और वह क्रोधित शिवलिंग पर अपना अंगूठा गढ़ाकर चला गया. उसके बाद ब्रह्मा, विष्णु आदि देवताओं ने आकर उस शिवलिंग की पूजा की. शिवजी का दर्शन होते ही सभी देवी देवताओं ने शिवलिंग की उसी स्थान पर स्थापना कर दी और शिव-स्तुति करके वापस स्वर्ग को चले गए. तभी से महादेव ‘कामना लिंग’ के रूप में देवघर में विराजते हैं.

wish4me to English

bhagavaan shiv ke bhakt raavan aur baaba baijanaath kee kahaanee badee niraalee hai. pauraanik katha ke anusaar dashaanan raavan bhagavaan shankar ko prasann karane ke lie himaalay par tap kar raha tha. vah ek-ek karake apane sir kaatakar shivaling par chadha raha tha. 9 sir chadhaane ke baad jab raavan 10vaan sir kaatane vaala tha to bholenaath ne prasann hokar use darshan die aur usase var maangane ko kaha.

tab raavan ne kaamana ling ko hee lanka le jaane ka varadaan maang liya. raavan ke paas sone kee lanka ke alaava teenon lokon mein shaasan karane kee shakti to thee hee saath hee usane kaee devata, yaksh aur gandharvo ko kaid kar ke bhee lanka mein rakha hua tha. is vajah se raavan ne ye ichchha jataee ki bhagavaan shiv kailaash ko chhod lanka mein rahen. mahaadev ne usakee is manokaamana ko poora to kiya par saath hee ek shart bhee rakhee. unhonne kaha ki agar tumane shivaling ko raaste mein kahee bhee rakha to main phir vaheen rah jaoonga aur nahin uthoonga. raavan ne shart maan lee.

idhar bhagavaan shiv kee kailaash chhodane kee baat sunate hee sabhee devata chintit ho gae. is samasya ke samaadhaan ke lie sabhee bhagavaan vishnu ke paas gae. tab shree hari ne leela rachee. bhagavaan vishnu ne varun dev ko aachaman ke jarie raavan ke pet mein ghusane ko kaha. isalie jab raavan aachaman karake shivaling ko lekar shreelanka kee or chala to devaghar ke paas use laghushanka lagee.

aise mein raavan ek gvaale ko shivaling dekar laghushanka karane chala gaya. kahate hain us baijoo naam ke gvaale ke roop mein bhagavaan vishnu the. is vahaj se bhee yah teerth sthaan baijanaath dhaam aur raavaneshvar dhaam donon naamon se vikhyaat hai. pauraanik granthon ke mutaabik raavan kaee ghanto tak laghushanka karata raha jo aaj bhee ek taalaab ke roop mein devaghar mein hai. idhar baijoo ne shivaling dharatee par rakhakar ko sthaapit kar diya.

jab raavan laut kar aaya to laakh koshish ke baad bhee shivaling ko utha nahin paaya. tab use bhee bhagavaan kee yah leela samajh mein aa gaee aur vah krodhit shivaling par apana angootha gadhaakar chala gaya. usake baad brahma, vishnu aadi devataon ne aakar us shivaling kee pooja kee. shivajee ka darshan hote hee sabhee devee devataon ne shivaling kee usee sthaan par sthaapana kar dee aur shiv-stuti karake vaapas svarg ko chale gae. tabhee se mahaadev kaamana ling ke roop mein devaghar mein viraajate hain

Comments

comments