Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » स्वामी विवेकानंद जयंती

स्वामी विवेकानंद जयंती

svaamee-vivekaanand-jayantee

svaamee-vivekaanand-jayantee

svaamee vivekaanand jayantee

svaamee vivekaanand jayantee

स्वामी विवेकानंद आधुनिक युग के प्रथम पंक्ति के विश्व प्रसिद्ध महापुरुष थे । वे भारतीयता के आदर्श प्रतिनिधि होने के अतिरिक्त, वैदिक धर्म तथा संस्कृति के ओजस्वी वक्ता भी थे । वेदांत को आज के विज्ञान के सम्मुख जिस हृदयगंम रूप में उन्होंने प्रतिपादित किया यह उन की ओजस्वी प्रतिभा का प्रतिबिंब है । उनके स्फूर्तिदायी विचारों से केवल भारत ही नहीं वरन सम्पूर्ण पश्चिमी जगत भी लाभान्वित हुआ । स्वामी विवेकानंद के विचार एवं उपदेश मानव के सभी कार्यक्षेत्रों में यथार्थ मार्गदर्शी हैं । श्री रामकृष्ण परमहंस के आध्यात्मिक दाय को ग्रहण करके तथा उनके चिंतन के बीज कणों को सारे संसार में बिखेरने का भार जिस शिष्य के कंधे पर पड़ा, वह शारिरिक और नैतिक दृष्टियों से अपने गुरु से सर्वथा भिन्न थे । परमहंस की समानता का सौभाग्य उनके किसी अन्य शिष्य में भी न था, लेकिन विवेकानंद अपने गुरु की महानता तथा सर्मथ तक यदा कदा ऊंचाई पा जाते थे जो कि उन पर गुरु कृपा के कारण था । विवेकानंद के सिंह – हृदय में सामर्थ्य की भावनाएं उमड़ती रहती थी। वह मूर्तिमान तेज थे, तथा ‘कर्म’ ही संसार को उनका संदेश था । निष्क्रियता के विरोध में उनका अभिमता था – ‘बलवान बनो और पुरुषार्थ करो । पौरुष तथा सामर्थ्य युक्त दुष्ट व्यक्ति भी अपने सामर्थ्य के कारण एक दिन निज कुकर्मों को त्यागकर सत्य के समर्थन में उठ सकता है – यह उनका तर्क था ।’ विवेकानंद दर्शनीय स्वरूप को एक मोहक तथा प्रभावी व्यक्तित्व से प्रतिभा मंडित करते थे । उनकी दृष्टि का पैना जादू तथा आकर्षण उऩ में राजसी भाव उपजाता था । वे एक विराट के समान थे, जो भी उनके निकट आया उसने उनके सामने सिर नवा दिया । तीस वर्ष का यह अज्ञात नवयुवक जब ग्यारह सितंबर सन् 1893 में शिकागो के धर्म – सम्मेलन के उद्घाटन के अवसर पर खड़ा हुआ, तब उसकी भव्य आकृति के सम्मुख सब प्रतिनिधि भुला दिए गए । विवेकानंद की बलिष्ट देह, शालीन भंगिमा, प्रभावशाली मुद्रा, आंखों की गहरी चमक, गंभीर वाणी के दिव्य संबोधन, ‘अमेरिका निवासी भगिनी और भ्रातृगण’ के सुनते सात हजार श्रोताओं तथा दर्शकों से भरे हॉल में तुमुल तालियों की बौछार लगातार दो मिनट तक जारी रही । ऐसा सरल संबोधन वहां की जनता के लिए अनजान था । वहां स्वामी विवेकानंद के महान व्यक्तित्व, तेजस्वी मुख मंडल, गेरुआ वस्त्र आदि का इतना भव्य प्रभाव हुआ कि दूसरे दिन समाचार पत्रों ने उस पूरे धर्म – सम्मेलन में उन्हें सर्वश्रेष्ठ एवं महानतम् व्यक्ति कहकर वर्णित किया । स्वामी विवेकानंद पाश्चात्यों की अंधी नकल के तीव्र आलोचक थे और इसी प्रकार भारतीयों की रुढ़िवादिता, जाति संकीर्णता आदि के विरोधी थे । आज के वैज्ञानिक युग के मनुष्य के सम्मुख जो भी सामाजिक, आत्मिक, अधिभौतिक समस्याएं हैं, उनके लिए स्वामी जी ने वेदांत, भक्ति, योग के मार्ग द्वारा उपाय तथा पथ प्रशस्त किया । उन्होंने चिरंतन सत्य के यथार्थ तथा मानव – धर्म की शिक्षा के अतिरिक्त पूजाभाव से विश्व की जनता – जनार्दन की सेवा करने का पाठ पढ़ाया और अपनी रचनाओं द्वारा देश के स्वतंत्रता आंदोलन को प्रभावी योगदान मिलने के कारण स्वामी जी का जन्म दिवस राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में भारत सरकार द्वारा स्वीकृत है । सन् 1897 में स्वामी विवेकानंद द्वारा रामकृष्ण मिशन की स्थापना हुई जिसमें स्वामी रामकृष्ण परमहंस के सभी भक्त और संन्यासी सम्मिलित हुए । इस मिशन के उद्देश्य और आदर्श आध्यात्मिकता एवं मानव सेवा संबंधी हुए । अब रामकृष्ण मिशन के लिए स्वामी विवेकानंद का जीवन उत्सर्ग था । वे अतीत और वर्तमान, पूर्व और पश्चिम, स्वप्न और यथार्थ के प्रभउत्व के लिए अविरल जूझते रहें । इस कार्य के लिए उन्हें अपने जीवन की आहूति देनी पड़ी । उनके लिए जीवन और संग्राम पर्यायवाची थे । श्री रामकृष्ण परमहंस तथा उनके इस महान शिष्य की मृत्यु के बीच केवल सोलह वर्षों का अंतराल रहा । संघर्ष और विस्फोट से भरे हुए सोलह वर्ष – अभी विवेकानंद की आयु का चालीसवां वर्ष भी पूरा नहीं हुआ था कि वह बलवान शरीर चितारूढ़ हो गया । किंतु इस चिता की ज्वाला की राख से भारत की आत्मा उनके संदेषों को ग्रहण कर नया जन्म लेकर प्रकट हुई है ।

wish4me to English

svaamee vivekaanand aadhunik yug ke pratham pankti ke vishv prasiddh mahaapurush the . ve bhaarateeyata ke aadarsh pratinidhi hone ke atirikt, vaidik dharm tatha sanskrti ke ojasvee vakta bhee the . vedaant ko aaj ke vigyaan ke sammukh jis hrdayagamm roop mein unhonne pratipaadit kiya yah un kee ojasvee pratibha ka pratibimb hai . unake sphoortidaayee vichaaron se keval bhaarat hee nahin varan sampoorn pashchimee jagat bhee laabhaanvit hua . svaamee vivekaanand ke vichaar evan upadesh maanav ke sabhee kaaryakshetron mein yathaarth maargadarshee hain . shree raamakrshn paramahans ke aadhyaatmik daay ko grahan karake tatha unake chintan ke beej kanon ko saare sansaar mein bikherane ka bhaar jis shishy ke kandhe par pada, vah shaaririk aur naitik drshtiyon se apane guru se sarvatha bhinn the . paramahans kee samaanata ka saubhaagy unake kisee any shishy mein bhee na tha, lekin vivekaanand apane guru kee mahaanata tatha sarmath tak yada kada oonchaee pa jaate the jo ki un par guru krpa ke kaaran tha . vivekaanand ke sinh – hrday mein saamarthy kee bhaavanaen umadatee rahatee thee. vah moortimaan tej the, tatha ‘karm’ hee sansaar ko unaka sandesh tha . nishkriyata ke virodh mein unaka abhimata tha – ‘balavaan bano aur purushaarth karo . paurush tatha saamarthy yukt dusht vyakti bhee apane saamarthy ke kaaran ek din nij kukarmon ko tyaagakar saty ke samarthan mein uth sakata hai – yah unaka tark tha .’ vivekaanand darshaneey svaroop ko ek mohak tatha prabhaavee vyaktitv se pratibha mandit karate the . unakee drshti ka paina jaadoo tatha aakarshan un mein raajasee bhaav upajaata tha . ve ek viraat ke samaan the, jo bhee unake nikat aaya usane unake saamane sir nava diya . tees varsh ka yah agyaat navayuvak jab gyaarah sitambar san 1893 mein shikaago ke dharm – sammelan ke udghaatan ke avasar par khada hua, tab usakee bhavy aakrti ke sammukh sab pratinidhi bhula die gae . vivekaanand kee balisht deh, shaaleen bhangima, prabhaavashaalee mudra, aankhon kee gaharee chamak, gambheer vaanee ke divy sambodhan, ‘amerika nivaasee bhaginee aur bhraatrgan’ ke sunate saat hajaar shrotaon tatha darshakon se bhare hol mein tumul taaliyon kee bauchhaar lagaataar do minat tak jaaree rahee . aisa saral sambodhan vahaan kee janata ke lie anajaan tha . vahaan svaamee vivekaanand ke mahaan vyaktitv, tejasvee mukh mandal, gerua vastr aadi ka itana bhavy prabhaav hua ki doosare din samaachaar patron ne us poore dharm – sammelan mein unhen sarvashreshth evan mahaanatam vyakti kahakar varnit kiya . svaamee vivekaanand paashchaatyon kee andhee nakal ke teevr aalochak the aur isee prakaar bhaarateeyon kee rudhivaadita, jaati sankeernata aadi ke virodhee the . aaj ke vaigyaanik yug ke manushy ke sammukh jo bhee saamaajik, aatmik, adhibhautik samasyaen hain, unake lie svaamee jee ne vedaant, bhakti, yog ke maarg dvaara upaay tatha path prashast kiya . unhonne chirantan saty ke yathaarth tatha maanav – dharm kee shiksha ke atirikt poojaabhaav se vishv kee janata – janaardan kee seva karane ka paath padhaaya aur apanee rachanaon dvaara desh ke svatantrata aandolan ko prabhaavee yogadaan milane ke kaaran svaamee jee ka janm divas raashtreey yuva divas ke roop mein bhaarat sarakaar dvaara sveekrt hai . san 1897 mein svaamee vivekaanand dvaara raamakrshn mishan kee sthaapana huee jisamen svaamee raamakrshn paramahans ke sabhee bhakt aur sannyaasee sammilit hue . is mishan ke uddeshy aur aadarsh aadhyaatmikata evan maanav seva sambandhee hue . ab raamakrshn mishan ke lie svaamee vivekaanand ka jeevan utsarg tha . ve ateet aur vartamaan, poorv aur pashchim, svapn aur yathaarth ke prabhutv ke lie aviral joojhate rahen . is kaary ke lie unhen apane jeevan kee aahooti denee padee . unake lie jeevan aur sangraam paryaayavaachee the . shree raamakrshn paramahans tatha unake is mahaan shishy kee mrtyu ke beech keval solah varshon ka antaraal raha . sangharsh aur visphot se bhare hue solah varsh – abhee vivekaanand kee aayu ka chaaleesavaan varsh bhee poora nahin hua tha ki vah balavaan shareer chitaaroodh ho gaya . kintu is chita kee jvaala kee raakh se bhaarat kee aatma unake sandeshon ko grahan kar naya janm lekar prakat huee hai

Comments

comments