Saturday , 20 January 2018
Latest Happenings
Home » Do you Know? » विरोधी को मित्र बनाने का अचूक उपाय

विरोधी को मित्र बनाने का अचूक उपाय

the-perfect-way-to-make-the-opponent-friend

the-perfect-way-to-make-the-opponent-friend

the-perfect-way-to-make-the-opponent-friend

एक राजा था। उसने एक सपना देखा। सपने में उससे एक परोपकारी साधु कह रहा था कि, बेटा! कल रात को तुम्हें एक विषैला सांप काटेगा और उसके काटने से तुम्हारी मृत्यु हो जाएगी। वह सर्प अमुक पेड़ की जड़ में रहता है। वह तुसम पूर्व जन्म की शत्रुता का बदला लेना चाहता है।

सुबह हुई। राजा सोकर उठा। और सपने की बात अपनी आत्मरक्षा के लिए क्या उपाय करना चाहिए? इसे लेकर विचार करने लगा।

सोचते- सोचते राजा इस निर्णय पर पहुंचा कि मधुर व्यवहार से बढ़कर शत्रु को जीतने वाला और कोई हथियार इस पृथ्वी पर नहीं है। उसने सर्प के साथ मधुर व्यवहार करके उसका मन बदल देने का निश्चय किया।

शाम होते ही राजा ने उस पेड़ की जड़ से लेकर अपनी शय्या तक फूलों का बिछौना बिछवा दिया, सुगन्धित जलों का छिड़काव करवाया, मीठे दूध के कटोरे जगह जगह रखवा दिये और सेवकों से कह दिया कि रात को जब सर्प निकले तो कोई उसे किसी प्रकार कष्ट पहुंचाने की कोशिश न करें।

रात को सांप अपनी बांबी में से बाहर निकला और राजा के महल की तरफ चल दिया। वह जैसे आगे बढ़ता गया, अपने लिए की गई स्वागत व्यवस्था को देख देखकर आनन्दित होता गया। कोमल बिछौने पर लेटता हुआ मनभावनी सुगन्ध का रसास्वादन करता हुआ, जगह-जगह पर मीठा दूध पीता हुआ आगे बढ़ता था।

इस तरह क्रोध के स्थान पर सन्तोष और प्रसन्नता के भाव उसमें बढ़ने लगे। जैसे-जैसे वह आगे चलता गया, वैसे ही वैसे उसका क्रोध कम होता गया। राजमहल में जब वह प्रवेश करने लगा तो देखा कि प्रहरी और द्वारपाल सशस्त्र खड़े हैं, परन्तु उसे जरा भी हानि पहुंचाने की चेष्टा नहीं करते।

यह असाधारण सी लगने वाले दृश्य देखकर सांप के मन में स्नेह उमड़ आया। सद्व्यवहार, नम्रता, मधुरता के जादू ने उसे मंत्रमुग्ध कर लिया था। कहां वह राजा को काटने चला था, परन्तु अब उसके लिए अपना कार्य असंभव हो गया। हानि पहुंचाने के लिए आने वाले शत्रु के साथ जिसका ऐसा मधुर व्यवहार है, उस धर्मात्मा राजा को काटूं तो किस प्रकार काटूं? यह प्रश्न के चलते वह दुविधा में पढ़ गया।

राजा के पलंग तक जाने तक सांप का निश्चय पूरी तरह से बदल दिया। उधर समय से कुछ देर बाद सांप राजा के शयन कक्ष में पहुंचा। सांप ने राजा से कहा, राजन! मैं तुम्हें काटकर अपने पूर्व जन्म का बदला चुकाने आया था, परन्तु तुम्हारे सौजन्य और सद्व्यवहार ने मुझे परास्त कर दिया।

अब मैं तुम्हारा शत्रु नहीं मित्र हूं। मित्रता के उपहार स्वरूप अपनी बहुमूल्य मणि मैं तुम्हें दे रहा हूं। लो इसे अपने पास रखो। इतना कहकर और मणि राजा के सामने रखकर सांप चला गया।

Hindi to English

There was a king He saw a dream In a dream, a benevolent monk was saying that, son! Last night, you will bite a venomous snake and bite it, you will die. The serpent lives in the root of such a tree. She wants to take revenge for the pre-birth war.

Got in the morning The king woke up and woke up. And what is the point of dream to do for self defense? It started thinking about it.

Thinking-the king came to the conclusion that there is no more weapon to win the enemy than the sweet behavior and the earth is not on this earth. He decided to change his mind by behaving sweetly with the serpent.

In the evening, the king took the tree from the root of the tree, spread the flower bed of his bed, sprinkled fragrant flakes, kept the place of sweet milk in place, and told the servants that when the snake came out at night, Do not try to hurt.

At night the snake got out of his Bambi and walked towards the king’s palace. As he went ahead, he was delighted to see the welcome arrangements made for him. Lying on a soft bed, roasting the sweet fragrance, he used to grow sweet milk at the place.

In this way, the sense of satisfaction and happiness in place of anger is increasing in it. As soon as he went further, his anger would have diminished. When he entered the palace, he saw that the guards and guards were armed, but they did not want to harm anyone.

Seeing this extravagant scenes, the affection of the snake got over. The magic of goodness, humility, and mellowness made him mesmerized. Where did he go to cut the king, but now his work for him became impossible. How to cut the goddamn king, if there is such a sweet behavior with the enemy coming to harm? Due to this question, he read the dilemma.

The decision of the snake completely changed until the king’s bed. After a while, the snake reached the king’s bedroom. Snake said to the king, Rajan! I came to repay you for revenge of your former birth, but your courtesy and good conduct defeated me.

I am no friend of yours now. I am giving you my precious gem as a gift of friendship. Take it with you. By saying this and keeping Mani in front of the king, the snake went away.

Comments

comments