Monday , 3 July 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » हमारे आसपास हैं ये तीन डाकू

हमारे आसपास हैं ये तीन डाकू

these-three-robbers-are-around-us

these-three-robbers-are-around-us

हमारे आसपास हैं ये तीन डाकू

हमारे आसपास हैं ये तीन डाकू

बहुत पुरानी बात है। एक समय जंगल से एक यात्री अपनी मंजिल की ओर जा रहा था। अचानक उसे तीन डाकुओं ने घेर लिया और उसका सारा धन लूट लिया।

उस व्यक्ति को लूट लेने के बाद एक डाकू बोला,’अब इस आदमी को जिंदा छोड़ देने से क्या लाभ?’यह कहकर उसने म्यान से तलवार खींच ली।तब दूसरे डाकू ने उसे रोका और कहा,’जब हम इसका सब कुछ धन ले ही चुके हैं तो इसे मारने से क्या लाभ?’इसे रस्सी से बांधकर यहीं छोड़ जाते हैं। अगर भाग्य ने साथ दिया तो यह बच जाएगा नहीं तो यहीं किसी जंगली जानवर का भोज बन जाएगा।

तय रणनीति के तहत डाकुओं ने ऐसा ही किया। कुछ देर बाद तीसरा डाकू लौटकर आया,उसने उस यात्री की रस्सी खोल उसे मुक्त कर दिया और बोला,’भाई! मुझे अफसोस है। मैं तुम्हें सही रास्ते तक छोड़ देता हूं।’

तीसरे यात्री की कृतज्ञता देख यात्री ने कहा,’आप मेरे यहां आतिथ्य ग्रहण करो।’तीसरे डाकू ने कहा,’मैं किसी ओर दिन तुम्हें दूसरे वेश में मिलूंगा। यात्री अपने घर पहुंचा तो उसके चेहरे पर ग़म की वजह मुस्कान आ गई।’

क्योंकि उसका लुटा हुआ सामान पहले से यहां मौजूद था। साथ में एक पत्र रखा हुआ था उसमें लिखा था…

‘दुनिया एक जंगल है। उसमें तीन डाकू रहते हैं। वे हैं सत्व,रजस और तमस। तमस मनुष्य को समाप्त करने का प्रयत्न करता है। रजस उसे संसार में बांधता है। परंतु सत्व उसे तमस और रजस के चंगुल से छुड़ाकर उस मार्ग पर छोड़ता है,जहां कोई भय नहीं। यानी ईश्वर के चरणों में।’

Hindi to English

It’s a very old matter. One time a passenger from the forest was heading towards his destination. Suddenly the three robbers surrounded him and robbed him of all the money.

After robbing that person, a bandit said, ‘Now what benefit does this person have to give up?’ By saying this, he pulled the sword from the sheath. Then the other robbers stopped him and said, ‘When we take all the money If you have already done so, what benefit from killing it? ‘It is tied with a rope and left it right here. If fate has contributed, then it will be saved, otherwise it will be the feast of a wild animal.

Under the definite strategy, the dacoits did the same. After a while, the third bandit came back, opened the rope of that passenger and released him and said, ‘Brother! L am sorry. I leave you to the right path. ‘

Seeing the gratitude of the third passenger, the traveler said, ‘You take hospitality here.’ The three robbers said, ‘I will meet you someday in the other hand on the other day. When the traveler reached his house, his smile came due to the misery. ‘

Because his looted luggage was already present here. Together, a letter was kept in it …

‘The world is a jungle. There are three hawks in it. They are sattva, rajas and tamas. Tamas tries to eliminate humans. Rajas binds him into the world. But Satya saves him from the clutches of Tamas and Rajas and leaves it on that path, where there is no fear. That is, in the feet of God. ‘

Comments

comments