Saturday , 11 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » यह जिन्दगी का कटु सत्य है। (This is the harsh reality of life.)

यह जिन्दगी का कटु सत्य है। (This is the harsh reality of life.)

this-is-the-harsh-reality-of-life

this-is-the-harsh-reality-of-life

This is the harsh reality of life

This is the harsh reality of life

पुराने ज़माने की बात है। किसी गाँव में एक सेठ रहेता था। उसका नाम था नाथालाल सेठ। वो जब भी गाँव के बाज़ार से निकलता था तब लोग उसे नमस्ते या सलाम करते थे , वो उसके जवाब में मुस्कुरा कर अपना सिर हिला देता था और बहुत धीरे से बोलता था की घर जाकर बोल दूंगा
एक बार किसी परिचित व्यक्ति ने सेठ को ये बोलते हुये सुन लिया। तो उसने कुतूहल वश सेठ को पूछ लिया कि सेठजी आप ऐसा क्यों बोलते हो के घर जाकर बोल दूंगा
तब सेठ ने उस व्यक्ति को कहा, में पहले धनवान नहीं था उस समय लोग मुझे नाथू कहकर बुलाते थे और आज के समय में धनवान हूँ तो लोग मुझे नाथालाल सेठ कहकर बुलाते है। ये इज्जत मुझे नहीं धन को दे रहे है ,
इस लिए में रोज़ घर जाकर तिज़ोरी खोल कर लक्ष्मीजी (धन) को ये बता देता हूँ कि आज तुमको कितने लोगो ने नमस्ते या सलाम किया। इससे मेरे मन में अभिमान या गलतफहमी नहीं आती कि लोग मुझे मान या इज्जत दे रहे हैं। … इज्जत सिर्फ पैसे की है इंसान की नहीं ..

wish4me to English

puraane zamaane kee baat hai. kisee gaanv mein ek seth raheta tha. usaka naam tha naathaalaal seth. vo jab bhee gaanv ke baazaar se nikalata tha tab log use namaste ya salaam karate the , vo usake javaab mein muskura kar apana sir hila deta tha aur bahut dheere se bolata tha kee ghar jaakar bol doonga
ek baar kisee parichit vyakti ne seth ko ye bolate huye sun liya. to usane kutoohal vash seth ko poochh liya ki sethajee aap aisa kyon bolate ho ke ghar jaakar bol doonga
tab seth ne us vyakti ko kaha, mein pahale dhanavaan nahin tha us samay log mujhe naathoo kahakar bulaate the aur aaj ke samay mein dhanavaan hoon to log mujhe naathaalaal seth kahakar bulaate hai. ye ijjat mujhe nahin dhan ko de rahe hai ,
is lie mein roz ghar jaakar tizoree khol kar lakshmeejee (dhan) ko ye bata deta hoon ki aaj tumako kitane logo ne namaste ya salaam kiya. isase mere man mein abhimaan ya galataphahamee nahin aatee ki log mujhe maan ya ijjat de rahe hain. … ijjat sirph paise kee hai insaan kee nahin

Comments

comments