Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Guru_Profile » Krishna » भक्तों की तीन श्रेणियां (Three categories of devotees)

भक्तों की तीन श्रेणियां (Three categories of devotees)

three-categories-of-devotees

three-categories-of-devotees

Three categories of devotees

Three categories of devotees

भक्तों की तीन श्रेणियां होती हैं । एक तो वे होते हैं जो किसी फल की कामना से भगवान को भजते हैं । भगवान कहते हैं – उनकी भक्ति वास्तविक भक्ति नहीं, वह तो एक प्रकार की स्वार्थपरायणता है । दूसरी श्रेणी के भक्त वे हैं जो बिना किसी फल की इच्छा के अपना सर्वस्व उन्हें समर्पित कर सदा उनकी सेवा ही करना चाहते हैं । इस श्रेणी के भक्त सच्चे भक्त समझे जाते हैं । भगवान ने दुर्वासा मुनि से अत्यंत करुणापूर्ण शब्दों में कहा है – कि ऐसे भक्त मुझे अपने अधीन बना लेते हैं, मेरी स्वतंत्रता को हर लेते हैं । ये भक्त मुझे ‘देने’ का आनंद न लेने देकर केवल ‘लेने’ का ही सुख देते हैं । उत्तम से उत्तम वस्तु को भी जिसे मैं इन्हें देता हूं ये इंकार कर देते हैं जिससे मैं इनके सामने बहुत छोटा हो जाता हूं और इनका ऋणी बन जाता हूं । वे मुझे ‘सेवा कराने’ का ही आनंद देते हैं, ‘सेवा करने का’ नहीं । भगवान प्रेम से परिपूर्ण होने के कारण भक्तों के हठ के सामने अपना सिर झुका देते हैं और अपनी इच्छा को उनके अधीन बना देने में ही संतुष्ट होते हैं और स्थलों में भगवान स्वामी बनकर ही रहते हैं सेवक बनकर कदापि नहीं रह सकते, परंतु प्रेम – स्वातंत्र्य के लिए तो निरतिशय समानता होनी चाहिए । परस्पर आदान – प्रदान और सेवा करने कराने में पूर्ण स्वतंत्रतायुक्त समान बर्ताव होना चाहिए । यह बात उन्हें ब्रज और वृंदावन में ही मिली । क्योंकि व्रज में प्रेम का ही एकच्छत्र राज्य था । वहां ऊंचा – नीचा, छोटे – बड़े या जीव ईश्वर का कोई भेद नहीं था । जब वे अपनी माता को खिझाते थे तो वह उन्हें ऊखल से बांध दिया करती थी । कहीं खेल में यदि हार जाते तो उन्हें अपने साथियों को पीठ पर लाद कर दम्ड चुकाना पड़ता था और सखा हार जाते थे तो वे भी भगवान को पीठपर चढ़ा कर ले जाते थे । व्रजवासियों की अभिलाषाएं केवल भगवान के आनंद की वृद्धि के लिए ही होती थीं, उनकी प्रसन्नता भगवान की प्रसन्नता में और भगवान की प्रसन्नता उनकी प्रसन्नता में थी । उनकी निष्ठा थी ‘तत्सुख सुखित्वम्’ अर्थात् अपने प्रियतम के आनंद में आनंदित रहना । उनके अंदर ऐसा सभी गुण विद्यमान थे जो भगवान के आनंद को बढ़ाते थे । वह आनंद आदान और उपभोग के द्वारा हो , चाहे प्रदान और सेवा के द्वारा हो । जिस वस्तु के प्राप्त करने की प्रेमास्पद को अत्यंत तीव्र अभिलाषा है, उसके प्रदान में प्रेमी को और भी अधिक आनंद मिलता है । इसलिए वे लोग भगवान को देने अथवा उनकी सेवा करने के लिए आग्रह करते थे । इसी तरह आदान और उपभोग का आनंद उसी समय अधिक होता है, जब कि प्राप्त वस्तु बड़ी कठिनाई और परिश्रम से मिलती है । इसलिए देने के पूर्व वे भगवान को उत्कण्ठित किया करते थे । सखियां भगवान को श्रीराधा जी के दर्शन के लिए वृक्षों के कोटरों में छिपाकर प्रतीक्षा करवाया करती थीं । व्रज में समस्त कार्यों का छिपा हुआ उद्देश्य तथा प्रयोजन सर्वथा स्वतंत्र, समान और पारस्परिक प्रेम एवं सेवा का एक महान समन्वय था ।एकता की कुंजी प्रत्येक मनुष्य का स्वार्थत्यागपूर्वक व्रजवासियों जैसे प्रेम के साथ दूसरों की भलाई के लिए चेष्टा करना ही है । यहीं यज्ञ का मार्ग है, जिसे भगवान ने मनुष्य मात्र की एकता और समृद्धि का एकमात्र उपाय बतलाया है ।

wish4me to English

bhakton kee teen shreniyaan hotee hain . ek to ve hote hain jo kisee phal kee kaamana se bhagavaan ko bhajate hain . bhagavaan kahate hain – unakee bhakti vaastavik bhakti nahin, vah to ek prakaar kee svaarthaparaayanata hai . doosaree shrenee ke bhakt ve hain jo bina kisee phal kee ichchha ke apana sarvasv unhen samarpit kar sada unakee seva hee karana chaahate hain . is shrenee ke bhakt sachche bhakt samajhe jaate hain . bhagavaan ne durvaasa muni se atyant karunaapoorn shabdon mein kaha hai – ki aise bhakt mujhe apane adheen bana lete hain, meree svatantrata ko har lete hain . ye bhakt mujhe ‘dene’ ka aanand na lene dekar keval ‘lene’ ka hee sukh dete hain . uttam se uttam vastu ko bhee jise main inhen deta hoon ye inkaar kar dete hain jisase main inake saamane bahut chhota ho jaata hoon aur inaka rnee ban jaata hoon . ve mujhe ‘seva karaane’ ka hee aanand dete hain, ‘seva karane ka’ nahin . bhagavaan prem se paripoorn hone ke kaaran bhakton ke hath ke saamane apana sir jhuka dete hain aur apanee ichchha ko unake adheen bana dene mein hee santusht hote hain aur sthalon mein bhagavaan svaamee banakar hee rahate hain sevak banakar kadaapi nahin rah sakate, parantu prem – svaatantry ke lie to niratishay samaanata honee chaahie . paraspar aadaan – pradaan aur seva karane karaane mein poorn svatantrataayukt samaan bartaav hona chaahie . yah baat unhen braj aur vrndaavan mein hee milee . kyonki vraj mein prem ka hee ekachchhatr raajy tha . vahaan ooncha – neecha, chhote – bade ya jeev eeshvar ka koee bhed nahin tha . jab ve apanee maata ko khijhaate the to vah unhen ookhal se baandh diya karatee thee . kaheen khel mein yadi haar jaate to unhen apane saathiyon ko peeth par laad kar damd chukaana padata tha aur sakha haar jaate the to ve bhee bhagavaan ko peethapar chadha kar le jaate the . vrajavaasiyon kee abhilaashaen keval bhagavaan ke aanand kee vrddhi ke lie hee hotee theen, unakee prasannata bhagavaan kee prasannata mein aur bhagavaan kee prasannata unakee prasannata mein thee . unakee nishtha thee ‘tatsukh sukhitvam’ arthaat apane priyatam ke aanand mein aanandit rahana . unake andar aisa sabhee gun vidyamaan the jo bhagavaan ke aanand ko badhaate the . vah aanand aadaan aur upabhog ke dvaara ho , chaahe pradaan aur seva ke dvaara ho . jis vastu ke praapt karane kee premaaspad ko atyant teevr abhilaasha hai, usake pradaan mein premee ko aur bhee adhik aanand milata hai . isalie ve log bhagavaan ko dene athava unakee seva karane ke lie aagrah karate the . isee tarah aadaan aur upabhog ka aanand usee samay adhik hota hai, jab ki praapt vastu badee kathinaee aur parishram se milatee hai . isalie dene ke poorv ve bhagavaan ko utkanthit kiya karate the . sakhiyaan bhagavaan ko shreeraadha jee ke darshan ke lie vrkshon ke kotaron mein chhipaakar prateeksha karavaaya karatee theen . vraj mein samast kaaryon ka chhipa hua uddeshy tatha prayojan sarvatha svatantr, samaan aur paarasparik prem evan seva ka ek mahaan samanvay tha .ekata kee kunjee pratyek manushy ka svaarthatyaagapoorvak vrajavaasiyon jaise prem ke saath doosaron kee bhalaee ke lie cheshta karana hee hai . yaheen yagy ka maarg hai, jise bhagavaan ne manushy maatr kee ekata aur samrddhi ka ekamaatr upaay batalaaya hai

Comments

comments