Monday , 6 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » Hindu » वैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग

वैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग

vaidyanath-jyotirlinga

vaidyanath-jyotirlinga

vaidyanath-jyotirlinga

vaidyanath-jyotirlinga

एक धार्मिक मान्यता है कि परली ग्राम के निकट स्थित वैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग (Vaidyanath Jyotirling Temple) वास्तविक ज्योतिर्लिंग है. “परलीग्राम” निज़ाम हैदराबाद क्षेत्र के अंतर्गत पड़ता है. यहां का मन्दिर अत्यन्त पुराना है, जिसका जीर्णोद्धार रानी अहिल्याबाई ने कराया था. लेकिन शिव पुराण के अनुसार झारखण्ड प्रान्त के जसीडीह के समीप देवघर का श्री वैद्यनाथ शिवलिंग ही वास्तविक वैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग है.

रावण से जुड़ी है वैद्यनाथ शिवलिंग की कथा (Story of Baba Dham or Baidyanath Jyotirling Temple): कहते हैं एक बार राक्षस राज रावण ने हिमालय पर भगवान शिव की घोर तपस्या की. तपस्या में रावण ने एक एक करके नौ सिर काटकर शिवलिंग पर चढ़ा दिया. दसवें सिर के समय भोलेनाथ प्रसन्न हो उठे और रावण को वर मांगने को कहा. रावण ने भगवान शिव को लंका ले जाने का वर मांगा। देवों के देव महादेव ने राक्षस राज को मनोवांछित वर देते हुए कहा कि मुझे शिवलिंग के रूप में ले जाओ। लेकिन साथ ही यह भी बताया कि यदि तुम इस लिंग को ले जाते समय रास्ते में धरती पर रखोगे तो यह वहीं स्थापित हो जाएगा.

रावण से हुई गलती :शिवलिंग को ले जाते समय रावण जैसे चिताभूमि में प्रवेश किया उसे लघुशंका करने कि प्रवृति हुई. उसने उस लिंग को एक अहीर को पकड़ा किया और लघुशंका करने चला गया. इधर शिवलिंग भारी होने लगा जिसके कारण उस अहीर ने उसे भूमि पर रख दिया. वह लिंग वही अचल हो गया. तब से यह वैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग के रूप में जाना जाने लगा. यह मनुष्य को उसकी इच्छा के अनुकूल फल देनेवाला माना जाता है. कहते हैं श्री वैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग कि लगातार आरती-दर्शन करने से लोगों को रोगों से मुक्ति मिलती है.

wish4me to English

ek dhaarmik maanyata hai ki paralee graam ke nikat sthit vaidyanaath jyotirling (vaidyanath jyotirling taimplai) vaastavik jyotirling hai. “paraleegraam” nizaam haidaraabaad kshetr ke antargat padata hai. yahaan ka mandir atyant puraana hai, jisaka jeernoddhaar raanee ahilyaabaee ne karaaya tha. lekin shiv puraan ke anusaar jhaarakhand praant ke jaseedeeh ke sameep devaghar ka shree vaidyanaath shivaling hee vaastavik vaidyanaath jyotirling hai.

raavan se judee hai vaidyanaath shivaling kee katha (story of bab dham or baidyanath jyotirling taimplai): kahate hain ek baar raakshas raaj raavan ne himaalay par bhagavaan shiv kee ghor tapasya kee. tapasya mein raavan ne ek ek karake nau sir kaatakar shivaling par chadha diya. dasaven sir ke samay bholenaath prasann ho uthe aur raavan ko var maangane ko kaha. raavan ne bhagavaan shiv ko lanka le jaane ka var maanga. devon ke dev mahaadev ne raakshas raaj ko manovaanchhit var dete hue kaha ki mujhe shivaling ke roop mein le jao. lekin saath hee yah bhee bataaya ki yadi tum is ling ko le jaate samay raaste mein dharatee par rakhoge to yah vaheen sthaapit ho jaega.

raavan se huee galatee :shivaling ko le jaate samay raavan jaise chitaabhoomi mein pravesh kiya use laghushanka karane ki pravrti huee. usane us ling ko ek aheer ko pakada kiya aur laghushanka karane chala gaya. idhar shivaling bhaaree hone laga jisake kaaran us aheer ne use bhoomi par rakh diya. vah ling vahee achal ho gaya. tab se yah vaidyanaath jyotirling ke roop mein jaana jaane laga. yah manushy ko usakee ichchha ke anukool phal denevaala maana jaata hai. kahate hain shree vaidyanaath jyotirling ki lagaataar aaratee-darshan karane se logon ko rogon se mukti milatee hai.

Comments

comments