Thursday , 20 June 2019
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Guru_Profile » Rama » श्री शबरी जी की भक्ति

श्री शबरी जी की भक्ति

shree-shabaree-jee-kee-bhakti

shree-shabaree-jee-kee-bhakti

shree shabaree jee kee bhakti

shree shabaree jee kee bhakti

सबको परमगति प्रदान करते हुए उदारशिरोमणि भगवान शबरी को भी गति देने के लिए उसके आश्रम में पधारे । ‘आश्रम’ शब्द से शबरी जी का विरक्त होना सूचित किया गया है, क्योंकि वन में बहुत – से कोल – किरात आदि भी निवास करते हैं, परंतु उनके घरों को कभी ‘आश्रम’ नहीं कहा जाता । शबरी जी मन, वचन और शरीर – सर्वांग से श्रीभगवान के शुद्ध प्रेम में सराबोर थीं । वस्तुत: भगवान में शबरी जी की निष्ठा, माता कौसल्या जी के समान ही, वात्सल्यभाव की थी ।

जैसे माता अपने बच्चे के लिए अच्छी प्रकार चीजें संग्रह करके रखती है, वैसे ही उसने वे सुंदर फल भगवान के लिए लाकर उन्हें मानो अमृत से हजारों गुने सुंदर स्नेह के रस में डुबाकर रखा । श्रीराम जी भाव के भूखे हैं, इसलिए उन्होंने भाई लक्ष्मण जी के सहित उसका माता के समान आदर किया । श्रीरघुनाथ जी ने उसे माता के समान अपने हाथों से जलांजलि दी ।

जिस दिन श्रीमतंग ऋषि द्वारा उन्हें यह आदेश मिला कि श्रीरघुनाथ जी इसी आश्रम में अवश्य आकर मिलेंगे, उसी दिन से वे प्रतिदिन सबेरे सोकर उठते ही यह निश्चय करतीं कि ‘भगवान आज अवश्य पधारेंगे ।’ फिर आश्रम को झाड़ – बुहारकर स्वागत की तैयारी करतीं, अच्छे – अच्छे मीठे – मीठे फल मूल पत्तों के दोनों में सजाकर रखतीं और बार बार बाहर आतर श्रीरघुनाथ जी की बाट जोहतीं । इस प्रकार भगवान की प्रतीक्षा में ही उनके दिन बीतते थे ।

श्रीशबरी जी ने संतशिरोमणि महर्षि श्रीमतंग मुनि जी महाराज की शरणगति प्राप्त कर ली थी और वे भी उसे स्वीकार करके उनके अनुकूल हो गये थे, तात्पर्य यह है कि जब कोई बड़भागी जीव अपनी प्रवृत्ति का त्याग करके विरक्त हो जाता है और किन्हीं सच्चे संत सद् गुरु की शरण ग्रहण कर लेता है तो वहीं उसकी प्रथम भक्ति होती है । दूसरी भक्ति जब संत – सद् गुरु श्रीरामकथा (जो संतों का जीवन – प्राण है) का श्रवण कराने लगते हैं, तब उसमें ‘रीति’ (प्रेम) होने को कहते हैं । तीसरी भक्ति मानरहित होकर उन संत – सद् गुरु के चरण कमलों की सेवा करना है । चौथी भक्ति भगवान के गुणों का स्वयं निष्कपट भाव से गायन करना है । अर्थात् जब श्रीगुरु की सेवा – संगति में सदा रहते रहते और उनके मुख से श्रीभगवान का यश सुनते सुनते जब श्रीरामयश का गान होने लगे, तब चौथी भक्ति संपन्न होती है ।

जब शरणागत मुमुश्रु इन चार प्रकार की भक्तियों से संपन्न हो जाता है, तब संत – सद् गुरु उसे अधिकारी जानकर श्रीराम – मंत्र की दीक्षा देते हैं । अत: श्रीरघुनाथ जी शबरी जी से अपने मंत्र का दृढ़ विश्वास के साथ जप करने को पांचवीं भक्ति बतला रहे हैं । छठी भक्ति इंद्रियों का दमन, बहुमुखी कर्मों की प्रवृत्ति से वैराग्य और सज्जनधर्म के पालन में सर्वदा तत्पर रहना बतलायी गयी है । तात्पर्य यह कि गृहस्थी के जंजाल में, कर्मों के प्रपंच में विशेष प्रवृत्ति होने का जो अभ्यास है, उसे रोककर तथा इंद्रियों को उनके विषयों से एकदम हटाकर संत स्वभाव का पालन एवं भगवान के नाम रूप लीला धामादि की ही सेवा भजन पूजन में समय व्यतीत होने लगना छठी भक्ति है । सातवीं भक्ति समस्त जगत को राममय देखना, सभी के प्रति समान भाव रखना, पर संतों को सबसे बढ़कर मानना है ।

यहां भी संत सद् गुरु की महामहिमा का वर्णन यह भाव सूचित करता है कि भगवान की प्राप्ति के साधन संत ही हैं । आठवीं भक्ति यदृच्छालाभसंतोष अर्थात् जो कुछ प्राप्त हो जाएं, उसी में संतुष्ट रहना और स्वप्न में भी पराये दोष को न देखना बतायी गयी है । अर्थात् भक्ति की आठवीं सीढ़ी तक पहुंचने पर शरणागत शिष्य की भी संत – वृत्ति बन जाती है । उसे बिना कोई उद्योग किये अनिच्छितरूप से जो कुछ प्राप्त होता रहता है, उसी को वह अपने शरीर का प्रारब्ध मान कर उसी से अघाये रहता है और भूलकर भी किसी जीव में दोष – दृष्टि नहीं करता, बल्कि ‘अवगुन में गुन गहानि सदा है’ की वृत्ति रखता है । अत: कृपाधाम श्रीभगवान इन वृत्तियों को भी अपना भजन मानते हैं और इसे आठवीं भक्ति बतलाते हैं ।

अंत में श्री प्रभु जी अपनी नवीं भक्ति के लक्षण इस प्रकार बतलाते हैं – ‘स्वभाव से सरल होना (किसी से भी कठोर व्यवहार न करना), मन से निश्छल होना (कपट का लेश भी न होना) आदि का उपदेश किया गया हैं । और मेरे ही भरोसे पर दृढ़ रहकर हृदय में किंचित भी हर्ष – विषाद का अनुभव न करना ।’

श्रीभगवान कहते हैं कि ‘शबरी ! इन नौ भक्तियों में से एक भी भक्ति जिसे जिसे प्राप्त हो वह स्त्री – पुरुष, जड़ चेतन कोई भी हो, मुझे अत्यंत प्रिय है, फिर तुममे तो ये नवों भक्तियां दृढ़रूप से विद्यमान हैं ।’

wish4me to English

sabako paramagati pradaan karate hue udaarashiromani bhagavaan shabaree ko bhee gati dene ke lie usake aashram mein padhaare . ‘aashram’ shabd se shabaree jee ka virakt hona soochit kiya gaya hai, kyonki van mein bahut – se kol – kiraat aadi bhee nivaas karate hain, parantu unake gharon ko kabhee ‘aashram’ nahin kaha jaata . shabaree jee man, vachan aur shareer – sarvaang se shreebhagavaan ke shuddh prem mein saraabor theen . vastut: bhagavaan mein shabaree jee kee nishtha, maata kausalya jee ke samaan hee, vaatsalyabhaav kee thee .

jaise maata apane bachche ke lie achchhee prakaar cheejen sangrah karake rakhatee hai, vaise hee usane ve sundar phal bhagavaan ke lie laakar unhen maano amrt se hajaaron gune sundar sneh ke ras mein dubaakar rakha . shreeraam jee bhaav ke bhookhe hain, isalie unhonne bhaee lakshman jee ke sahit usaka maata ke samaan aadar kiya . shreeraghunaath jee ne use maata ke samaan apane haathon se jalaanjali dee .

jis din shreematang rshi dvaara unhen yah aadesh mila ki shreeraghunaath jee isee aashram mein avashy aakar milenge, usee din se ve pratidin sabere sokar uthate hee yah nishchay karateen ki ‘bhagavaan aaj avashy padhaarenge .’ phir aashram ko jhaad – buhaarakar svaagat kee taiyaaree karateen, achchhe – achchhe meethe – meethe phal mool patton ke donon mein sajaakar rakhateen aur baar baar baahar aatar shreeraghunaath jee kee baat johateen . is prakaar bhagavaan kee prateeksha mein hee unake din beetate the .

shreeshabaree jee ne santashiromani maharshi shreematang muni jee mahaaraaj kee sharanagati praapt kar lee thee aur ve bhee use sveekaar karake unake anukool ho gaye the, taatpary yah hai ki jab koee badabhaagee jeev apanee pravrtti ka tyaag karake virakt ho jaata hai aur kinheen sachche sant sad guru kee sharan grahan kar leta hai to vaheen usakee pratham bhakti hotee hai . doosaree bhakti jab sant – sad guru shreeraamakatha (jo santon ka jeevan – praan hai) ka shravan karaane lagate hain, tab usamen ‘reeti’ (prem) hone ko kahate hain . teesaree bhakti maanarahit hokar un sant – sad guru ke charan kamalon kee seva karana hai . chauthee bhakti bhagavaan ke gunon ka svayan nishkapat bhaav se gaayan karana hai . arthaat jab shreeguru kee seva – sangati mein sada rahate rahate aur unake mukh se shreebhagavaan ka yash sunate sunate jab shreeraamayash ka gaan hone lage, tab chauthee bhakti sampann hotee hai .

jab sharanaagat mumushru in chaar prakaar kee bhaktiyon se sampann ho jaata hai, tab sant – sad guru use adhikaaree jaanakar shreeraam – mantr kee deeksha dete hain . at: shreeraghunaath jee shabaree jee se apane mantr ka drdh vishvaas ke saath jap karane ko paanchaveen bhakti batala rahe hain . chhathee bhakti indriyon ka daman, bahumukhee karmon kee pravrtti se vairaagy aur sajjanadharm ke paalan mein sarvada tatpar rahana batalaayee gayee hai . taatpary yah ki grhasthee ke janjaal mein, karmon ke prapanch mein vishesh pravrtti hone ka jo abhyaas hai, use rokakar tatha indriyon ko unake vishayon se ekadam hataakar sant svabhaav ka paalan evan bhagavaan ke naam roop leela dhaamaadi kee hee seva bhajan poojan mein samay vyateet hone lagana chhathee bhakti hai . saataveen bhakti samast jagat ko raamamay dekhana, sabhee ke prati samaan bhaav rakhana, par santon ko sabase badhakar maanana hai .

yahaan bhee sant sad guru kee mahaamahima ka varnan yah bhaav soochit karata hai ki bhagavaan kee praapti ke saadhan sant hee hain . aathaveen bhakti yadrchchhaalaabhasantosh arthaat jo kuchh praapt ho jaen, usee mein santusht rahana aur svapn mein bhee paraaye dosh ko na dekhana bataayee gayee hai . arthaat bhakti kee aathaveen seedhee tak pahunchane par sharanaagat shishy kee bhee sant – vrtti ban jaatee hai . use bina koee udyog kiye anichchhitaroop se jo kuchh praapt hota rahata hai, usee ko vah apane shareer ka praarabdh maan kar usee se aghaaye rahata hai aur bhoolakar bhee kisee jeev mein dosh – drshti nahin karata, balki ‘avagun mein gun gahaani sada hai’ kee vrtti rakhata hai . at: krpaadhaam shreebhagavaan in vrttiyon ko bhee apana bhajan maanate hain aur ise aathaveen bhakti batalaate hain .

ant mein shree prabhu jee apanee naveen bhakti ke lakshan is prakaar batalaate hain – ‘svabhaav se saral hona (kisee se bhee kathor vyavahaar na karana), man se nishchhal hona (kapat ka lesh bhee na hona) aadi ka upadesh kiya gaya hain . aur mere hee bharose par drdh rahakar hrday mein kinchit bhee harsh – vishaad ka anubhav na karana .’

shreebhagavaan kahate hain ki ‘shabaree ! in nau bhaktiyon mein se ek bhee bhakti jise jise praapt ho vah stree – purush, jad chetan koee bhee ho, mujhe atyant priy hai, phir tumame to ye navon bhaktiyaan drdharoop se vidyamaan hain .’

Comments

comments