Saturday , 11 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Guru Parvachan » मगर ईश्वर पर मुझे भरोसा नहीं आता: ओशो

मगर ईश्वर पर मुझे भरोसा नहीं आता: ओशो

magar-ishver-per-mujhe

magar-ishver-per-mujhe

magar ishver per mujhe

मैंने सुना. पुरी के शंकराचार्य दिल्ली में ठहरे हुए थे। और एक आदमी ने खड़े होकर उनसे जिज्ञासा की कि मैं खोजी हूं। मगर ईश्वर पर मुझे भरोसा नहीं आता, विश्वास नहीं होता। मुझे भरोसा दिलवाइए। कुछ ऐसा प्रमाण दीजिए कि ईश्वर है। और पता है, शंकराचार्य ने क्या कहा! शंकराचार्य ने उस आदमी की तरफ क्रोध से देखा और पूछा कि तुमने पतलून क्यों पहन रखी है?

वह बेचारा ईश्वर की जिज्ञासा कर रहा है! वे पूछते हैं तुमने पतलून क्यों पहन रखी है? और वहां बैठे होंगे चुटैयाधारी और भी लोग। क्योंकि पुरी के शंकराचार्य के पास और कौन जाएगा! मूढ़ों की जमात होगी वहां। वे सब हंसने लगे। और यह बेचारा एकदम दीन—हीन हो गया। पतलून पहने हुए खड़ा हुआ है! होगा दिल्ली के किसी दफ्तर में क्लर्क।

तुमने पतलून क्यों पहन रखी है? भारतीय संस्कृति का क्या हुआ? तुम्हारी चोटी कहां है?

वह बेचारा ईश्वर का प्रमाण लेने आया है! अब उसकी चोटी भी नहीं है। गया नर्क में। गया काम से। और पतलून पहन रखी है!

और फिर बात यहीं खतम नहीं हो गयी। वे लोग और हंसने लगे। वह तो थोड़ा चिंता में पड़ गया होगा कि यह मैं कैसा प्रश्न पूछ बैठा! यहां चार आदमी के सामने फजीहत हो गयी।

जो उन्होंने और आगे बात की, वह तो बहुत गजब की है—ब्रह्म—ज्ञान की! उन्होंने कहा कि तुम पतलून ही पहनकर पेशाब भी करते हो? तो तुम अशुद्ध हो। खड़े होकर पेशाब करते हो? क्योंकि पतलून पहने हो, तो बैठकर कैसे करोगे?

यह ब्रह्म—ज्ञान चल रहा है! और वे सारे लोग हंसने लगे। उस आदमी की तरफ किसी का खयाल नहीं है। और उसने एक ऐसी बात पूछी थी, जो सभी के भीतर है। और यह मैंने शंकराचार्य की पत्रिका में ही पढ़ा। तो मतलब जिसने छापा है, वे शंकराचार्य की पत्रिका वाले लोग इसको बड़े गौरव से छापे हैं कि देखो, शंकराचार्य ने कैसा नास्तिक को ठीक किया!

किसी को ठीक कर रहे हो कि किसी को सहारा देना है! और जो आदमी ऐसी बातें कह रहा है, यह शंकराचार्य, इससे ऊंचाई पर नहीं हो सकता; इससे ज्यादा ऊंचाई पर नहीं हो सकता।

इस आदमी के अपमान में पूरी मनुष्य जाति का अपमान कर दिया गया। और जो आदमी यह कर रहा है, वह गहन प्रकार से दंभ का रोगी है।

इन्हीं शंकराचार्य के साथ एक दफा पटना में मेरा मिलना हो गया—स्थ ही मंच पर। मैत्रेय जी तुम्हें पूरी कहानी बता सकेंगे। संयोजकों ने मुझे भी बुला लिया, उनको भी बुला लिया। उन्होंने मुझे देखते ही से संयोजकों को कहा कि अगर ये सज्जन यहां बोलेंगे, तो मैं यहां नहीं बोल सकता!

अब संयोजक बड़ी मुश्किल में पड़ गए कि अब करना क्या भू: अड़चन खडी हो गयी। मुझे निमंत्रित किया है; दूर से मुझे बुलाया है। और ये कहते हैं कि अगर मैं बोला, तो वे नहीं बोलेंगे!

मैंने संयोजकों को कहा कि उनको कहो कि पहले मैं बोल देता हूं। फिर पीछे वे बोलें। और दिल भरकर जो आलोचना करनी हो, वह कर लें। यह बात उन्हें जंची।

फिर वे मुश्किल में पड़ गए। वे तो इतने क्रोध में आ गए कि आलोचना करना तो मुश्किल ही हो गया। आलोचना के लिए भी तो थोड़ी शांति तो चाहिए। वे तो एकदम ज्वरग्रस्त हो गए। वे तो सन्निपात में हो गए। तो कुछ का कुछ बकने लगे। के आदमी, इतना जोश—खरोश; पैर खिसक गया; मंच से गिर गए।

इस तरह के महात्माओं के पास जाओ, तो तुम्हारा कहना ठीक है; डरना। पहले तो जाना ही मत। चले जाओ, तो दिल की मत कहना। वहा झूठे प्रश्न पूछना। वहां अगर श्रद्धा न हो, तो कहना? बड़ी श्रद्धा है भीतर—तो ठीक होगा। नास्तिक हो, तो कहना. आस्तिक हूं। चोटी न भी हो, तो भी टोपी लगाकर जाना और कहना कि चोटी है। और पतलून भी पहने हो, तो ऊपर से धोती पहन लेना। और इसके पहले कि ऐसे महात्मा तुमसे कहें कि खड़े होकर पेशाब करते हो कि बैठकर, तुम ही बता देना कि हम बैठकर ही पेशाब करते हैं।

वहां डरना। मेरे पास डरने की कोई भी जरूरत नहीं है। तुम्हारा जैसा प्रश्न हो। मैं अगर कुछ हूं, तो चिकित्सक हूं। तुम मुझसे अपनी बीमारी न कहोगे, तो कैसे होगा! और ध्यान रखना : मैं पशु—चिकित्सक नहीं हूं। आदमियों का चिकित्सक हूं।

एक सज्जन मेरे पास आए। उन्होंने कहा कि फलां डाक्टर बडा गजब का डाक्टर है। उससे कहो ही मत, वह नाड़ी पर हाथ रखकर सब बीमारियां बता देता है। तो मैंने कहा कि वह आदमियों का डाक्टर है कि पशुओं का? वे बोले. नहीं; आदमियों का डाक्टर है। मैंने कहा. आदमी तो बोल सकता है! पशुओं का सवाल है कि नाड़ियों पर हाथ रखो। अब पशु तो बोल नहीं सकता, तो अब नाड़ी पकड़कर देखो कि क्या बीमारी है। आदमी बोल सकता है। इसमें गुणवत्ता क्या है? इसमें कोई गुणवत्ता नहीं है।

मैं चाहता हूं कि तुम अपनी बीमारी मुझसे कहो। तुम्हारे कहने में ही आधी बीमारी हल होती है। मैं तुम्हारे बिना कहे भी जान सकता हूं। लेकिन मेरे जानने से उतना लाभ नहीं होगा, जितना तुम कहोगे तो होगा।


 

mainne suna. puree ke shankaraachaary dillee mein thahare hue the. aur ek aadamee ne khade hokar unase jigyaasa kee ki main khojee hoon. magar eeshvar par mujhe bharosa nahin aata, vishvaas nahin hota. mujhe bharosa dilavaie. kuchh aisa pramaan deejie ki eeshvar hai. pata hai aur, shankaraachaary ne kya kaha! shankaraachaary ne us aadamee kee taraph krodh se dekha aur poochha ki tumane pataloon kyon pahan rakhee hai?

vah bechaara eeshvar kee jigyaasa kar raha hai! ve poochhate hain tumane pataloon kyon pahan rakhee hai? aur vahaan baithe honge chutaiyaadhaaree aur bhee log. kyonki puree ke shankaraachaary ke paas aur kaun jaega! moodhon kee jamaat hogee vahaan. ve sab hansane lage. aur yah bechaara ekadam deen-heen ho gaya. pataloon pahane hue khada hua hai! hoga dillee ke kisee daphtar mein klark.

tumane pataloon kyon pahan rakhee hai? bhaarateey sanskrti ka kya hua? tumhaaree chotee kahaan hai?

vah bechaara eeshvar ka pramaan lene aaya hai! ab usakee chotee bhee nahin hai. gaya nark mein. gaya kaam se. aur pataloon pahan rakhee hai!

aur phir baat yaheen khatam nahin ho gayee. ve log aur hansane lage. vah to thoda chinta mein pad gaya hoga ki yah main kaisa prashn poochh baitha! yahaan chaar aadamee ke saamane phajeehat ho gayee.

jo unhonne aur aage baat kee, vah to bahut gajab kee hai-brahm-gyaan kee! unhonne kaha ki tum pataloon hee pahanakar peshaab bhee karate ho? to tum ashuddh ho. khade hokar peshaab karate ho? kyonki pataloon pahane ho, to baithakar kaise karoge?

yah brahm-gyaan chal raha hai! aur ve saare log hansane lage. us aadamee kee taraph kisee ka khayaal nahin hai. aur usane ek aisee baat poochhee thee, jo sabhee ke bheetar hai. aur yah mainne shankaraachaary kee patrika mein hee padha. to matalab jisane chhaapa hai, ve shankaraachaary kee patrika vaale log isako bade gaurav se chhaape hain ki dekho, shankaraachaary ne kaisa naastik ko theek kiya!

kisee ko theek kar rahe ho ki kisee ko sahaara dena hai! aur jo aadamee aisee baaten kah raha hai, yah shankaraachaary, isase oonchaee par ho nahin sakata; isase jyaada oonchaee par nahin ho sakata.

is aadamee ke apamaan mein pooree manushy jaati ka apamaan kar diya gaya. aur jo aadamee yah kar raha hai, vah gahan prakaar se dambh ka rogee hai.

inheen shankaraachaary ke saath ek dapha patana mein mera milana ho gaya-sth hee manch par. maitrey jee tumhen pooree kahaanee bata sakenge. sanyojakon ne mujhe bhee bula liya, unako bhee bula liya. unhonne mujhe dekhate hee se sanyojakon ko kaha ki agar ye sajjan yahaan bolenge, to main yahaan nahin bol sakata!

ab sanyojak badee mushkil mein pad gae ki ab karana kya bhoo: adachan khadee ho gayee. mujhe nimantrit kiya hai; door se mujhe bulaaya hai. aur ye kahate hain ki agar main bola, to ve nahin bolenge!

mainne sanyojakon ko kaha ki unako kaho ki pahale main bol deta hoon. phir peechhe ve bolen. aur dil bharakar jo aalochana karanee ho, vah kar len. yah baat unhen janchee.

phir ve mushkil mein pad gae. ve to itane krodh mein aa gae ki aalochana karana to mushkil hee ho gaya. aalochana ke lie bhee to thodee shaanti to chaahie. ve to ekadam jvaragrast ho gae. ve to sannipaat mein ho gae. to kuchh ka kuchh bakane lage. ke aadamee, itana josh-kharosh; khisak gaya pair; manch se gir gae.

is tarah ke mahaatmaon ke paas jao, to tumhaara kahana theek hai; darana. pahale to jaana hee mat. chale jao, to dil kee mat kahana. vaha jhoothe prashn poochhana. vahaan agar shraddha na ho, to kahana? badee shraddha hai bheetar-to theek hoga. naastik ho, to kahana. aastik hoon. chotee na bhee ho, to bhee topee lagaakar jaana aur kahana ki chotee hai. aur pataloon bhee pahane ho, to oopar se dhotee pahan lena. aur isake pahale ki aise mahaatma tumase kahen ki khade hokar peshaab karate ho ki baithakar, tum hee bata dena ki ham baithakar hee peshaab karate hain.

vahaan darana. mere paas darane kee koee bhee jaroorat nahin hai. tumhaara jaisa prashn ho. main agar kuchh hoon, to chikitsak hoon. tum mujhase apanee beemaaree na kahoge, to kaise hoga! aur dhyaan rakhana: main pashu-chikitsak nahin hoon. aadamiyon ka chikitsak hoon.

ek sajjan mere paas aae. unhonne kaha ki phalaan daaktar bada gajab ka daaktar hai. usase kaho hee mat, vah naadee par haath rakhakar sab beemaariyaan bata deta hai. to mainne kaha ki vah aadamiyon ka daaktar hai ki pashuon ka? ve bole. nahin; aadamiyon ka daaktar hai. mainne kaha. aadamee to bol sakata hai! pashuon ka savaal hai ki naadiyon par haath rakho. ab pashu to bol nahin sakata, to ab naadee pakadakar dekho ki kya beemaaree hai. aadamee bol sakata hai. isamen gunavatta kya hai? isamen koee gunavatta nahin hai.

main chaahata hoon ki tum apanee beemaaree mujhase kaho. tumhaare kahane mein hee aadhee

ओशो 🌸, एस धम्‍मो सनंतनो, भाग 12

Comments

comments