Saturday , 11 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » मुक्ति के लिये साधन की आवश्यकता

मुक्ति के लिये साधन की आवश्यकता

mukati-ke-liye-sadhna-ki

mukati-ke-liye-sadhna-ki

97भगवान सर्वज्ञ हैं, सब कुछ जानते हैं, परंतु किसकी मुक्ति होगी इसको भगवान भी पहले से नहीं जानते हैं, यदि पहले से ही जान जाएं तो प्रयत्न की क्या आवश्यकता है ? भगवान तो जानते हैं फिर प्रयत्न क्या हो ? यह बात नहीं कि भगवान जान नहीं सकते, जीवों को अवसर दिया है, यदि भगवान निश्चित कर दें कि भविष्य में इसकी मुक्ति होगी तो प्रयत्न की क्या आवश्यकता ।

प्रेम और निष्काम भाव ज्यादा हो तो भगवान जल्दी मिल जाएं । पूर्व के संचित पाप से भी भगवान के मिलने में तारतम्यता हो जाएं । ये सब दृश्य पदार्थ नाशवान हैं, इसलिए जिस काम के लिये आना हुआ है, उसे बना लेना चाहिए । जो मर जाता है, उसका फिर पता नहीं चलता कि कहां गया, इसलिए जो काम करना है जल्दी कर लेना चाहिए ।

हम अनेक बार देव, पशु, मनुष्य आदि हो गये, कितनी बार इंद्र, ब्रह्मा आदि होकर नष्ट हो गये । जल के परमाणु गिने जा सकते हैं, किंतु इंद्र, ब्रह्मा नहीं, इसलिए अनंत जन्मों के इस चक्र से बचने के लिये साधन करना चाहिये, अन्यथा यह स्थिति होगी –

सो परत्र दुख पावइ सिर धुनि धुनि पछिताइ ।
कालहि कर्महि ईस्वरहि मिथ्या दोस लगाइ ।।

इसलिए जिस काम के लिये आये हैं, उसको वीरता के साथ करना चाहिए । हम संसार में खान, पान, भोग, आराम के लिए नहीं आये हैं । आहार, निद्रा आदि तो पशु भी करते हैं, यदि इसी में अपना जीवन बिता दिया तो क्या लाभ हुआ । अत: हमें सावधानी के साथ भजन साधन में लगाना चाहिये । जिस काम के लिये यहां आये हैं वह काम पहले करना चाहिये, वह है भगवत्प्राप्ति ।

wish4me in English

bhagavaan sarvagy hain, sab kuchh jaanate hain, parantu kisakee mukti hogee isako bhagavaan bhee pahale se nahin jaanate hain, yadi pahale se hee jaan jaen to prayatn kee kya aavashyakata hai ? bhagavaan to jaanate hain phir prayatn kya ho ? yah baat nahin ki bhagavaan jaan nahin sakate, jeevon ko avasar diya hai, yadi bhagavaan nishchit kar den ki bhavishy mein isakee mukti hogee to prayatn kee kya aavashyakata .

prem aur nishkaam bhaav jyaada ho to bhagavaan jaldee mil jaen . poorv ke sanchit paap se bhee bhagavaan ke milane mein taaratamyata ho jaen . ye sab drshy padaarth naashavaan hain, isalie jis kaam ke liye aana hua hai, use bana lena chaahie . jo mar jaata hai, usaka phir pata nahin chalata ki kahaan gaya, isalie jo kaam karana hai jaldee kar lena chaahie .

ham anek baar dev, pashu, manushy aadi ho gaye, kitanee baar indr, brahma aadi hokar nasht ho gaye . jal ke paramaanu gine ja sakate hain, kintu indr, brahma nahin, isalie anant janmon ke is chakr se bachane ke liye saadhan karana chaahiye, anyatha yah sthiti hogee –

so paratr dukh paavi sir dhuni dhuni pachhitai .
kaalahi karmahi eesvarahi mithya dos lagai ..

isalie jis kaam ke liye aaye hain, usako veerata ke saath karana chaahie . ham sansaar mein khaan, paan, bhog, aaraam ke lie nahin aaye hain . aahaar, nidra aadi to pashu bhee karate hain, yadi isee mein apana jeevan bita diya to kya laabh hua . at: hamen saavadhaanee ke saath bhajan saadhan mein lagaana chaahiye . jis kaam ke liye yahaan aaye hain vah kaam pahale karana chaahiye, vah hai bhagavatpraapti

Comments

comments